तीसरी लहर में सुकून देने वाले दो सबसे बड़े आंकड़े:भोपाल में बेड 97% खाली; 1650 बच्चे पॉजिटिव, इनमें भर्ती 2% ही

भोपाल4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हमीदिया के कोविड वार्ड में  इक्का-दुक्का ही मरीज हैं। - Dainik Bhaskar
हमीदिया के कोविड वार्ड में इक्का-दुक्का ही मरीज हैं।

तीसरी लहर में संक्रमण भले ही तेजी से फैल रहा हो, लेकिन तय आबादी में से ज्यादातर का वैक्सीनेशन हो जाने से दो सबसे सुखद आंकड़े सामने आए हैं। पहला- अभी भोपाल में साढ़े 12 हजार से ज्यादा संक्रमित होम आइसोलेशन में हैं। 133 अस्पताल कोविड इलाज के लिए अनुबंधित हैं, लेकिन इनमें मौजूद 11933 बेड में से 11598 खाली पड़े हैं। यानी सिर्फ 3% बेड ही भरे हैं।

ऑक्सीजन बेड पर 153 तो आइसोलेशन बेड पर सिर्फ 136 मरीज हैं। दूसरा- तीसरी लहर के एक महीने में 0 से 18 साल तक के 1650 बच्चे संक्रमित हुए, लेकिन सिर्फ 2% को ही भर्ती करने की जरूरत पड़ी। शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. आरएन यादव के मुताबिक इसकी बड़ी वजह है- बच्चों में लक्षण गंभीर नहीं हुए, इसलिए वे घर पर ही ठीक हो रहे।

इंदौर में 21 मरीजों में मिला ओमिक्रॉन का सब वैरिएंट

इंदौर में भी ओमिक्रॉन के नए सब वैरिएंट बीए-2 की 21 मरीजों में पुष्टि हुई है। अरबिंदो मेडिकल कॉलेज की लैब ने इनकी पहचान की है। इन मरीजों के लंग्स इनवॉल्मेंट 35 से 40% तक भी मिला है। अरबिंदो मेडिकल कॉलेज के चेयरमेन डॉ. विनोद भंडारी ने बताया कि दोनों डोज लगाने वालों के फेफड़े ज्यादा संक्रमित नहीं हुए। ये जो 6 मरीज हैं उनकी उम्र 20 से 40 वर्ष हैं। इनमें से दो कोमॉर्बिड हैं।

प्रदेश में 10585 केस, दिग्विजय सिंह फिर संक्रमित

केस बढ़े तो मौतें भी... मप्र में 6 दिन से रोज औसतन 6 मौत

प्रदेश में सोमवार को 80967 सैंपल की जांच में 10585 नए संक्रमित मिले। हालांकि रविवार की तुलना में ये 668 कम हैं। भोपाल में 2024 नए केस मिले। तीसरी लहर में ऐसा पहली बार हुआ है जब इंदौर (1363) से कम केस मिले हैं। नए केस में कांग्रेस नेता और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह भी शामिल हैं।

वे दूसरी लहर में भी संक्रमित हुए थे। सोमवार को उन्होंने खुद अपने संक्रमित होने की सूचना दी। रविवार को ही वे मुख्यमंत्री से मिले थे। दूसरी ओर, प्रदेश में नए केस बढ़ने के साथ ही मौतें भी बढ़ रही हैं। पिछले छह से दिन से रोज औसतन 6 मरीजों की मौत हो रही है। सोमवार को भी 6 ने दम तोड़ दिया। इनमें भी ज्यादातर मौतें बढ़े शहरों में हैं।

खबरें और भी हैं...