डीपीसी में हुई नामों पर चर्चा:दो साल बाद होंगे 25 आईएफएस अवॉर्ड, फिर बारी आईएएस-आईपीएस की

भोपालएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • अब यूपीएससी चुने गए नामों को केंद्रीय पर्यावरण एवं वन मंत्रालय ​​​​​​​भेजेगी

दो साल से पेंडिंग चल रहे राज्य वन सेवा (एसएफएस) के अफसरों को अब भारतीय वन सेवा (आईएफएस) अवॉर्ड होगा। डीपीसी हो गई है। इसमें 2019 के 14 और 2020 के 11 पदों के लिए नामों पर चर्चा हुई। डीपीसी भोपाल में हुई। अब संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) चयनित नामों को केंद्रीय पर्यावरण एवं वन मंत्रालय भेजेगी। इसके बाद आईएफएस अवॉर्ड के आदेश जारी होंगे।

एसएफएस के साथ ही अब राज्य प्रशासनिक सेवा (एसएएस) और राज्य पुलिस सेवा (एसपीएस) को भी अखिल भारतीय सेवा अवॉर्ड करने के लिए डीपीसी प्रस्तावित है। मंत्रालय सूत्रों का कहना है कि एसएएस और एसपीएस के नाम यूपीएससी को भेज दिए गए हैं। नवंबर के आखिर में डीपीसी की बैठक हो सकती है। उम्मीद थी कि यह बैठक भोपाल में होगी, लेकिन अब इसके दिल्ली में होने की संभावना बढ़ गई है।

दरअसल, एसएफएस के लिए यूपीएससी के प्रतिनिधि भोपाल आए थे, इसी दौरान एसएएस और एसपीएस की डीपीसी भी हो सकती थी जो नहीं हो पाई। अब इन दोनों सेवाओं की डीपीसी दिल्ली में होगी। एसएएस के लिए 18 पद हैं, जबकि एसपीएस के लिए 11 पद हैं। आईएफएस अवॉर्ड के लिए 1991 से 94 तक के बैच के अधिकारियों पर विचार हुआ।

एसएएस से आईएएस अवार्ड के लिए 1995, 1996, 1998, 1999, 2000, 2001 और 2002 तक के अधिकारियों के नाम जाएंगे। पद से तीन गुना तक नाम भेजे जाते हैं। इसी तरह एसपीएस से आईपीएस अवार्ड के लिए 1995 और 1996 बैच के नाम यूपीएससी को भेजे जाएंगे।

खबरें और भी हैं...