• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Apply For Corona Ex gratia Amount To SDM Office, After Investigation, It Will Be Sent To The Collector; Will Help Again

भोपाल में नई व्यवस्था:कोरोना अनुग्रह राशि के लिए SDM ऑफिस पहुंचे 40 आवेदन, जांच कर कलेक्टर को भेजे जाएंगे; 51 केस में राशि मंजूर

भोपाल10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भोपाल के हुजूर, कोलार, बैरागढ़, गोविंदपुरा, शहर, एमपी नगर, टीटी नगर और बैरसिया SDM ऑफिस में 29 नवंबर से कोरोना अनुग्रह राशि के लिए आवेदन लिए गए। पहले दिन करीब 40 आवेदन प्राप्त हुए। जांच और स्क्रूटनी करने के बाद आवेदन कलेक्टर को भेजे जाएंगे। कमेटी 30 दिन के आवेदन का निराकरण कर देगी। इसके बाद 50 हजार रुपए का मुआवजा (अनुग्रह राशि) मिलेगा। वहीं, 3 दिन में ADM ऑफिस में मिले 66 में से 51 केस में राशि मंजूर कर दी गई। एक-दो दिन में राशि संबंधितों के बैंक अकाउंट में पहुंच जाएगी।

ADM यूएस मरावी ने बताया,अनुग्रह राशि के लिए एसडीएम ऑफिस में आवेदन लेने की व्यवस्था की गई है। ऑफिस टाइमिंग पर आवेदन दिए जा सकते हैं। जांच के बाद आवेदन कमेटी के समक्ष प्रस्तुत किए जाएंगे। सोमवार से यह व्यवस्था की गई है। पहले ही दिन करीब 40 आवेदन आए हैं। वहीं, पूर्व में कलेक्टोरेट व एडीएम ऑफिस में लिए 51 आवेदनों में राशि मंजूर कर दी गई। शेष की जांच कर राशि मंजूर की जाएगी।

30 दिन में निर्णय

भोपाल में कोरोना की वजह से कुल 1002 मौतें सरकारी रिकॉर्ड में दर्ज है। 26 नवंबर और 27 नवंबर को मिले आवेदनों की जांच के बाद सोमवार को 50-50 हजार रुपए की राशि जारी भी कर दी गई है। वहीं, जिन डेथ सर्टिफिकेट में कोविड से मौत होना दर्ज नहीं है, उनसे भी आवेदन लिए जा रहे हैं। उनके लिए एसडीएम ऑफिस में आवेदन लेने की व्यवस्था की गई है। इनके संबंध में कमेटी 30 दिन में निर्णय करेगी।

भोपाल में 1002 मौतें

सरकारी रिकॉर्ड के मुताबिक कोरोना से अब तक प्रदेश में 10,528 मौतें हो चुकी हैं। वहीं, भोपाल में आंकड़ा 1002 है। इसके अलावा भी इस महामारी से कई लोगों की मौत हुई हैं, लेकिन सर्टिफिकेट में इसका जिक्र नहीं किया गया। ऐसे प्रकरण, जहां एमसीसीडी यानी डेथ सर्टिफिकेट में कोरोना का जिक्र नहीं है या मृतक के वारिस का उल्लेख सर्टिफिकेट में नहीं है, तो जिला स्तर पर गठित कोरोना संक्रमण कमेटी से मृत्यु प्रमाणित करने के लिए आवेदन कर सकेंगे। जिसकी जांच के बाद राशि जारी की जाएगी।

ऐसी मौत पर नहीं मिलेगी मुआवजा

  • जहर, दुर्घटना, आत्महत्या या मर्डर को कोविड से मौत नहीं माना जाएगा। भले ही व्यक्ति उस समय कोविड से संक्रमित हो।
  • ऐसे व्यक्तियों व शासकीय कर्मियों के वारिसों को, जिन्हें मुख्यमंत्री कोविड 19 योद्धा कल्याण योजना, मुख्यमंत्री अनुकंपा नियुक्ति योजना या मुख्यमंत्री कोविड 19 अनुग्रह योजना का लाभ दिया गया है अथवा जो इन योजनाओं में लाभ के लिए पात्र हैं, उन्हें यह मुआवजा नहीं मिलेगा।
  • प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज के तहत लागू बीमा योजना के तहत शामिल शासकीय कर्मी इसके लिए पात्र नहीं होंगे।

इस क्रम में राशि प्राप्त करने की होगी पात्रता

  • 1- मृतक की पत्नी/ पति (जैसी भी स्थिति हो) प्रथम हकदार होंगे।
  • 2- यदि पत्नी व पति नहीं है, तो अविवाहित विधिक संतान को पात्रता होगी।
  • 3- यदि संतान नहीं है, तो माता-पिता को राशि दी जाएगी।