• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Bhopal As Soon As The Work Is Over, Workers Take To The Street With Banners And Posters In Hand; 7 Demands Including Bonus And Canteen Restart

भोपाल के भेल में 5 दिन से प्रदर्शन जारी:काम खत्म होते ही हाथ में बैनर-पोस्टर लेकर कर्मचारी सड़क पर उतर आते हैं; बोनस और कैंटीन दोबारा शुरू किए जाने समेत 7 मांगे

भोपाल8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आज कर्मचारी स्वर्ण जयंती गेट पर प्रदर्शन करेंगे। - Dainik Bhaskar
आज कर्मचारी स्वर्ण जयंती गेट पर प्रदर्शन करेंगे।

भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (भेल) भोपाल में पांच दिन से कर्मचारियों का विरोध प्रदर्शन जारी है। ऑल इंडिया भेल एम्प्लाईज यूनियन पीपी बोनस, एसआईपी बोनस, इंसेंटिव, टी-3, नाईट अलाउंस, 1 करोड़ के टर्म इन्सुरेंस और बंद पड़ी कैंटीन को चालू करवाने की मांग पर अड़े हुए हैं।

ड्यूटी के बाद कर्मचारी बैनर पोस्टर लेकर सड़क पर निकल पड़ते हैं। हालांकि मैनेजमेंट ने कर्मचारियों को मांगें पूरा किए जाने का आश्वासन दिया है, लेकिन कर्मचारी मांग पूरी नहीं होने तक विरोध प्रदर्शन जारी रखने पर अड़े हुए हैं।

यूनियन के मीडिया प्रभारी आशीष सोनी ने बताया कि धरना प्रदर्शन को दिन प्रतिदिन कर्मचारियों का सहयोग मिलता जा रहा है। पिछले 5 दिनों से जारी प्रदर्शन के लिए अब अधिक संख्या में कर्मचारी शामिल हो रहे हैं। यूनियन के महासचिव रामनारायन गिरी ने कहा कि आपके प्रदर्शन को देखते हुए प्रबंधन दबाव में है।

भोपाल प्रबंधन द्वारा बार-बार कारपोरेट कार्यालय को जानकारी देने एवं हमारी बात कारपोरेट प्रबंधन तक पहुंचाने का हवाला देकर धरने को रोकने की अपील की गई है, लेकिन यूनियन द्वारा ये प्रदर्शन लगातार जारी रखा जाएगा। आज यानी मंगलवार को धरना प्रदर्शन भेल के गेट नंबर 1 स्वर्ण जयंती गेट पर होगा।

आशीष ने बताया कि कोरोना का हवाला देते हुए कर्मचारियों का बोनस और अन्य सुविधाओं को रोका गया। इसके बाद अफसरों के सभी तरह के बोनस और सुविधाएं द्वारा दी जाने लगी, लेकिन करीब 3 हजार कर्मचारियों को इससे दूर रखा गया। कोरोना के कारण कैंटीन का खाना 3 रुपए से बढ़ाकर 14 रुपए कर दिया।

नाश्ता और चाय आदि के रेट भी बढ़ा दिए, लेकिन इसे और बढ़ाए जाने की बात कहते हुए अधिकारियों ने इसे बंद कर दिया। कर्मचारी अपना हक मांग रहे हैं। अगर मांगे नहीं मानी जाती हैं, तो विरोध प्रदर्शन जारी रहेगा।

खबरें और भी हैं...