भास्कर का तोहफा:भारतीय महिला हॉकी टीम को 25 लाख रुपए प्रोत्साहन राशि देगा भास्कर, सेमीफाइनल में पहुंचकर रचा था इतिहास

भोपाल2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अपने खेल और संघर्ष की क्षमता से हर भारतीय में जोश भर देने वाली भारतीय महिला हॉकी टीम पर देश को गर्व है। भारत व हमारी हॉकी के लिए यह बेहद भावनात्मक और ऐतिहासिक पल है। दैनिक भास्कर समूह महिला हॉकी टीम के प्रत्येक सदस्य को नमन करता है।

देश में हॉकी के नए युग की नींव रखने वाली भारतीय महिला हॉकी टीम को भास्कर समूह प्रोत्साहन स्वरूप 25 लाख रुपए देगा। इस राशि से भारतीय महिला हॉकी टीम की 18 खिलाड़ियों, मुख्य कोच, कोच, एनालिटिकल कोच, साइंटिफिक एडवाइजर, फिजियोथेरेपिस्ट, वीडियो एनालिस्ट और मसाजर समेत प्रत्येक सदस्य को एक-एक लाख रुपए दिए जाएंगे।

भारतीय महिला टीम ने 3 बार की ओलिंपिक चैंपियन ऑस्ट्रेलिया को क्वार्टर फाइनल में हराया था।
भारतीय महिला टीम ने 3 बार की ओलिंपिक चैंपियन ऑस्ट्रेलिया को क्वार्टर फाइनल में हराया था।

महिला हॉकी टीम ने अंतिम दम तक हार न मानने की जीवटता का प्रदर्शन कर बेटियों की शक्ति का अहसास कराया है। हर भारतीय की आंखों में आज उम्मीद की चमक है। दैनिक भास्कर समूह का मानना है कि भारतीय खेलों को हर स्तर पर प्रोत्साहन से खिलाड़ियों का मनोबल बढ़ेगा। इससे वे भविष्य में और बेहतर प्रदर्शन करने में सफल होंगे।

टीम इंडिया ने पहली बार सेमीफाइनल में जगह बनाई
भारत की महिला हॉकी टीम ने टोक्यो ओलिंपिक में शानदार प्रदर्शन किया। उन्होंने पहली बार ओलिंपिक के सेमीफाइनल में जगह बनाई थी। महिला टीम इससे पहले सिर्फ 2 बार ओलिंपिक खेली है। 1980 में टीम टॉप-4 में पहुंची थी। उस वक्त सेमीफाइनल फॉर्मेट नहीं था। वहीं 2012 रियो ओलिंपिक में टीम 12वें स्थान पर रही थी।

सेमीफाइनल में जगह बनाने के बाद जश्न मनाती टीम इंडिया।
सेमीफाइनल में जगह बनाने के बाद जश्न मनाती टीम इंडिया।

भारतीय महिला हॉकी टीम टोक्यो ओलिंपिक में सफर
भारतीय महिला टीम को पूल-A में नीदरलैंड्स, जर्मनी, ब्रिटेन, आयरलैंड और साउथ अफ्रीका के साथ रखा गया था। वहीं, ग्रुप-B में ऑस्ट्रेलिया, अर्जेंटीना, न्यूजीलैंड, जापान, चीन और स्पेन की टीमें शामिल थीं। दोनों ग्रुप से टॉप-4 टीमें क्वार्टर फाइनल में पहुंचीं। भारत अपने ग्रुप में 2 जीत और 3 हार के साथ चौथे स्थान पर रहा था।

टोक्यो में भारतीय महिला टीम का अभियान नीदरलैंड, जर्मनी और डिफेंडिंग चैंपियन ब्रिटेन से लगातार 3 मैचों में हार से शुरू हुआ। हालांकि टीम ने शानदार वापसी करते हुए अपने से ऊपर रैंकिंग वाली आयरलैंड टीम को 1-0 से हराया। इसके बाद साउथ अफ्रीका को 4-3 से शिकस्त दी। भारत ने क्वार्टर फाइनल में ऑस्ट्रेलिया को 1-0 से हराया।

इसके बाद सेमीफाइनल में अर्जेंटीना के हाथों 2-1 से हार का सामना करना पड़ा। वहीं ब्रॉन्ज मेडल मैच में ग्रेट ब्रिटेन ने टीम इंडिया को कड़े मुकाबले में 4-3 से शिकस्त दी। ब्रिटेन के हाथों हार और ओलिंपिक मेडल चूकने के बाद टीम इंडिया के प्लेयर्स मैदान पर ही फूट-फूटकर रोने लगीं।

खबरें और भी हैं...