भोपाल में 10 साल की बच्ची पर मां का कहर:गंभीर हालत में मंदिर में पड़ी मिली; बोली- डंडे और बेल्ट से पीटते थे, मम्मी चोट पर हल्दी भी नहीं लगाती थी

भोपाल6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भोपाल के ऐशबाग इलाके में एक 10 साल की बच्ची के सिर से पापा का साया उठने के बाद सगी मां और सौतेले चाचा का कहर टूट पड़ा। आठ महीने पहले पिता चल बसे। मां ने दूसरी शादी कर ली। बात-बात पर उसे बुरी तरह पीटा जाने लगा। यहां तक कि बच्ची को घर छोड़कर भागना पड़ा। चाइल्ड लाइन लाई गई बच्ची के जिस्म पर बेल्ट और डंडे से पीटे जाने के जख्म मिले। एक आंख पर गहरा घाव है। बच्ची ऐशबाग इलाके में मंदिर में मिली थी।

बच्ची का कहना है - मार बर्दाश्त नहीं हो रही थी, इसलिए भागना पड़ा। दुख इस बात का है कि मां पीटने के बाद घाव पर हल्दी भी नहीं लगाती थी। अब वह मां के पास नहीं जाएगी।

मासूम की आपबीती
पापा की करीब 8 महीने पहले मौत हो चुकी है। वे एक गेस्ट हाउस की देखरेख का काम करते थे। उनके फेफड़ों में संक्रमण था और बोल भी नहीं पाते थे। उनकी मौत के बाद मां ने किसी और से शादी कर ली। छोटी-छोटी बात पर मुझे पीटा जाने लगा। घर के सारे काम करवाए जाते।

घर की साफ-सफाई करती थी। बर्तन और कपड़े धोती थी। इसके बाद वे मुझसे कहते कि पढ़ाई करो। अब जब स्कूल नहीं लग रहे तो पढ़ाई कहां से करूं। इतना करने के बाद भी मुझसे मेरी मां और रिश्ते के चाचा मारपीट करते। मुझे मोटे डंडे से मारते। बेल्ट से पीठ में तब तक मारते, जब तक खून नहीं निकलता। रोने पर कहते थे कि आंसू गिरेंगे तो और मारेंगे।

बच्ची आश्रयग्रह भेजी गई
भोपाल चाइल्ड लाइन की प्रमुख अर्चना सहाय ने बताया कि ऐशबाग में रहने वाली 10 साल की बच्ची से मारपीट का मामला आया था। टीम जब वहां पहुंची, तो उन्हें जख्मी हालत में बच्ची मिली। उसके शरीर पर जगह-जगह चोट के निशान थे। चाइल्ड लाइन की टीम द्वारा बच्ची को बाल कल्याण समिति के सामने पेश किया गया, जहां उन्होंने बिना कोई समय गंवाए ऐशबाग थाने के TI को FIR करने के निर्देश दिए। बच्ची के मेडिकल के बाद पुलिस ने JJAct की धारा 75 और धारा 323 के तहत उसकी मां और आरोपी चाचा शुभम पर मामला दर्ज कराया। बच्ची को आश्रयग्रह भेजा गया।

मां का तर्क- पढ़ाई के लिए पीटा था
मां का कहना है कि बेटी पढ़ाई नहीं करती थी। शुक्रवार देर रात चाइल्ड लाइन ने इस मामले में पुलिस और बाल कल्याण समिति के सामने मामला रखा। बच्ची का मेडिकल कराया गया। बच्ची को एसओएस बालग्राम में रखा गया है।

खबरें और भी हैं...