• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Bhopal Curfew; Bhopal Police Seized Slippers And Shoes From Outside The Temple And Punctured Bike

भोपाल पुलिस का सबक सिखाने का अनोखा अंदाज:लोगों के मंदिर घुसते ही पुलिसकर्मी जूते-चप्पल बोरी में भरकर ले गए; गाड़ियों की हवा निकाली, ताकि लोग दोबारा कर्फ्यू का उल्लघंन न करें

भोपाल8 महीने पहलेलेखक: अनूप दुबे
पुलिसकर्मियों ने मंदिर के बाहर खड़ी गाड़ियों की हवा निकाली।
  • छोला मंदिर पुलिस ने लोगों से परेशान होकर उठाया कदम
  • धार्मिक स्थलों पर सार्वजनिक रूप से पूजा पर रोक है

भोपाल में समझाइश के बाद सख्ती करने से भी बात नहीं नहीं बनी तो पुलिस ने लोगों को सबक सिखाने का नया तरीका निकाला है। पुलिस ने मंगलवार शाम मंदिर में दर्शन करने पहुंचे लोगों के जूते-चप्पल जब्त कर उसे थाने में जमा कर दिया। लोग दोबारा ऐसी गलती न करें, इसके लिए वहां आने वाले लोगों की गाड़ियों की हवा तक निकाल दी। पुलिस की इस कार्रवाई को देख लोगों में भगदड़ मच गई और वे वहां-वहां भागते नजर आए। मंदिर के बाहर कुछ लोगों ने इसे अपने मोबाइल फोन में कैद कर लिया।

छोला मंदिर थाने के TI अनिल सिंह मौर्य ने बताया कि छोला हनुमानगंज में पूरी तरह बंद है। इसके बाद भी लोग यहां मंगलवार और शनिवार को बड़ी संख्या में पहुंच जाते हैं। पिछले दरवाजे भी ताला होने के बाद लोग दरवाजे को धक्का देकर चोरी-छिपे अंदर चले जाते हैं। कई दिनों से लोगों को समझा रहे हैं, लेकिन कोई मानने को तैयार नहीं है। आज छोड़ दो साहब अगली बार नहीं आएं, यह कहकर निकल जाते।

इसी से परेशान होकर इस बार नया तरीका अपनाया। लोगों के मंदिर जाने के बाद उनके जूते-चप्पल जब्त कर लिए। लोगों की गाड़ियों की हवा इसलिए निकाली, ताकि वे दोबारा यहां न आए। इसके अलावा कोई दूसरा रास्ता नहीं था। इसलिए ऐसा किया गया। हम किसी को परेशान नहीं करना चाहते, लेकिन कर्फ्यू के नियमों का पालन तो सबको करना होगा। पुलिस ने इसके लिए दो युवकों की मदद भी ली।

इस तरह बोरी भरकर जूते-चप्पल ले गई पुलिस।
इस तरह बोरी भरकर जूते-चप्पल ले गई पुलिस।

काजी कैंप और सिंधी कॉलोनी में शहर काजी का सहारा

भोपाल पुलिस लोगों के कर्फ्यू का पालन नहीं करने को देखते हुए नए तरीके अपना रही है। एक दिन पहले पुलिस ने काजी कैंप, सिंधी कालोनी और बैरसिया रोड पर लोगों से परेशान होकर शहर काजी के नाम का सहारा लिया था। उनके नाम पर अनाउंसमेंट करवाकर लोगों को घर में रहने की समझाइश दी गई थी।

मंदिर के बाहर से जूते-चप्पल भरने के लिए दो लड़कों की मदद ली।
मंदिर के बाहर से जूते-चप्पल भरने के लिए दो लड़कों की मदद ली।
खबरें और भी हैं...