• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Bhopal Girl Student Rape Case Update; In The Legislative Assembly, Former CM Kamal Nath Raised The Issue Chief Minister Shivraj Sent The Line To Bhopal TI And SI

भोपाल निर्भया कांड में पहली कार्रवाई:घटना के 38वें दिन TI और SI को लाइन भेजा; घटना के विरोध में युवा कांग्रेस ने DGP से शिकायत, कल CM का पुतला जलाएंगे

भोपाल2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
SIT ने एक दिन पहले ही घटना स्थल पर क्राइम सीन रिक्रिएट किया था। हालांकि अब SIT में सिर्फ CSP ASI ही शेष रह गए हैं। एक दिन पहले घटना स्थल पर कोलार पुलिस और FSL की टीम पहुंची थी। - Dainik Bhaskar
SIT ने एक दिन पहले ही घटना स्थल पर क्राइम सीन रिक्रिएट किया था। हालांकि अब SIT में सिर्फ CSP ASI ही शेष रह गए हैं। एक दिन पहले घटना स्थल पर कोलार पुलिस और FSL की टीम पहुंची थी।
  • SIT में अब सिर्फ CSP और ASI बचे

भोपाल में 24 साल की छात्रा से दुष्कर्म और हत्या के प्रयास करने के मामले में 38वें पहली शासन द्वारा कार्रवाई की गई है। कोलार TI सुधीर अरजरिया और मामले की जांच अधिकारी SI श्वेता शर्मा को लाइन भेज दिया। इसकी जानकारी खुद अरजरिया ने सोशल मीडिया पर दी।
भोपाल निर्भया कांड:SIT ने 37 दिन बाद क्राइम सीन रिक्रिएट किया; आरोपी ने छात्रा को 7 फीट गहरे गड्ढे में फेंका था

अरजरिया ने दैनिक भास्कर से बात करते हुए कहा कि उन्हें और श्वेता को लाइन भेजने के आदेश उन्हें मिल गए हैं। हालांकि उन्होंने इससे ज्यादा कुछ कहने से मना कर दिया। इसके बाद अब SIT में सिर्फ CSP और ASI ही बचे हैं। इसमें शामिल एक SI पहले से अवकाश पर हैं, जबकि श्वेता को लाइन भेज दिया गया है। इधर कांग्रेस ने भी इस मामले को लेकर सड़क पर उतरना शुरू कर दिया है।

भोपाल निर्भया कांड में पुलिस का गवाह:चलती बाइक से उसने छात्रा और आरोपी को नीचे गिरते देखा था; फिर पुलिस को क्यों नहीं बताया, उठ रहे सवाल

पहले सिर्फ नोटिस दिया था

मामले के सामने आने के बाद SIT गठित कर दी गई थी। CSP भूपेंद्र सिंह के नेतृत्व में बनी SIT में कोलार थाने की SI स्वेता शर्मा मुख्य विवेचना अधिकारी होंगी, जबकि गौतम नगर थाने के SI सुरेश प्रताप सिंह चंदेल के साथ शाहपुरा थाने के ASI उपेंद्र सिंह को शामिल किया गया था। इसके साथ ही सुबह टीआई को सस्पेंड करने की तैयारी कर ली गई थी, लेकिन बाद में उन्हें सिर्फ कारण बताओ नोटिस जारी किया गया था।

इस कारण लाइन भेजने की अटकलें

इस मामले में पुलिस की कार्रवाई पर लगातार सवाल उठाए गए। पुलिस के FIR करने से लेकर गवाह मिलने और आरोपी के पकड़ने पर सवाल उठने लगे। पीड़िता भी लगातार पकड़े गए आरोपी के असली होने पर सवाल खड़े कर रही थी। ऐसे में जांच को निष्पक्ष बताने के इरादे से TI और SI पर कार्रवाई की गई।

कल सीएम का पुतला जाएंगे

युवा कांग्रेस मध्यप्रदेश मीडिया विभाग के अध्यक्ष विवेक त्रिपाठी ने बताया कि घटना को लेकर हमने निष्पक्ष जांच किए जाने की DGP से मांग की। टीम ने सोमवार को उन्हें एक ज्ञापन दिया। त्रिपाठी ने बताया कि घटना के विरोध में मंगलवार को मुख्यमंत्री का पुतला भी भोपाल में जलाया जाएगा।

खबरें और भी हैं...