• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Bhopal Girl Student Rape Case Update; Kolar Team Of SIT And FSL Bhopal Recalls The Sequence Of Events

भोपाल निर्भया कांड:SIT ने 37 दिन बाद क्राइम सीन रिक्रिएट किया; आरोपी ने छात्रा को 7 फीट गहरे गड्ढे में फेंका था

भोपालएक वर्ष पहलेलेखक: अनूप दुबे
जांच में घटनास्थल के गड्‌ढे की गहराई 7 फीट से ज्यादा निकली।
  • CSP ने कोलार थाने और घटनास्थल पर 6 घंटे से ज्यादा समय बिताया
  • TI से मामले से जुड़े दस्तावेज लिए और सवाल-जवाब भी किए

भोपाल के निर्भया कांड की जांच SIT ने शुरू कर दी है। वारदात के 37 दिन बाद रविवार दोपहर घटनास्थल का सबसे पहले मौका मुआयना करते हुए वारदात को रिक्रिएट किया गया। इस दौरान FSL की टीम ने इससे यह जानने का प्रयास किया कि यह पूरा घटनाक्रम किस तरह हुआ होगा।

पुलिस ने घटनास्थल के एक-एक बिंदु को नोट करती जांच टीम।
पुलिस ने घटनास्थल के एक-एक बिंदु को नोट करती जांच टीम।

टीम ने गड्‌ढे की गहराई को भी जांच में शामिल किया। इसमें सामने आया कि आरोपी द्वारा दिए गए धक्के के बाद छात्रा 7 फीट से ज्यादा गहरे गड्ढे में जा गिरी थी। उसके बाद वह ऊपर से उस पर गिर गया था, जिससे छात्रा को पीठ में गंभीर चोटें आई थीं। यहीं पर आरोपी ने छात्रा से हैवानियत करने का प्रयास किया था। हालांकि वह सफल नहीं हो सका था।

राहगीरों ने छात्रा को बचा लिया था। इधर, CSP भूपेंद्र सिंह ने थाने पहुंचकर TI सुधीर अरजरिया से मामले से जुड़े दस्तावेज लिए। उनसे पूरी घटना और उसके बाद पुलिस द्वारा की गई कार्रवाई को लेकर सवाल-जवाब भी किए।

भोपाल निर्भया कांड में पुलिस का गवाह:चलती बाइक से उसने छात्रा और आरोपी को नीचे गिरते देखा था; फिर पुलिस को क्यों नहीं बताया, उठ रहे सवाल

जांच के लिए पुलिस ने मौके पर लगाए शेड हटा दिए।
जांच के लिए पुलिस ने मौके पर लगाए शेड हटा दिए।

इस तरह हुई होगी वारदात

पुलिस ने 16 जनवरी की रात करीब 8 बजे हुई घटना को दोहराया। इस दौरान टीम ने घटनास्थल पर लगाए गए शेड भी हटा दिए। पुलिसकर्मियों ने पुलिया के नीचे उतरी। पुलिस की मानें तो घटना के वक्त के CCTV फुटेज में छात्रा और आरोपी सिर्फ पुलिया के नीचे गिरते नजर आ रहे हैं।

इसमें यह साफ हो गया कि छात्रा टहलने के बाद वहां से गुजर रही थी, तभी आरोपी ने अचानक हमला कर दिया। उसका मुंह दबाते हुए पुलिया के नीचे फेंक दिया था। इस दौरान छात्रा ने भी बचने के लिए आरोपी को पकड़ लिया था। पुलिया की सड़क से ऊंचाई कम होने के कारण वे दोनों 7 फीट से ज्यादा गहरे गड्ढे में गिर गए।

FSL टीम ने पूरे घटनाक्रम को दोबारा करके देखा।
FSL टीम ने पूरे घटनाक्रम को दोबारा करके देखा।

सुबह से ही सीएसपी पहुंच गए थे थाने

SIT के घटनास्थल पर जांच करने से पहले ही CSP भूपेंद्र सिंह भी कोलार थाने पहुंच गए। उन्होंने पुलिसकर्मियों से चर्चा करने के बाद घटनास्थल का मौका मुआयना किया। उन्होंने दो और अतिरिक्त टीमें अलग से बनाई हैं।

SIT में शामिल SI छुट्टी पर

दैनिक भास्कर में खबर प्रकाशित होने के बाद हरकत में आए प्रशासन ने मामले में SIT का गठन किया। CSP भूपेंद्र सिंह के नेतृत्व में बनी SIT में दो SI और एक ASI को शामिल किया गया है। इसमें कोलार थाने की SI श्वेता शर्मा और गौतम नगर थाने के SI सुरेश प्रताप सिंह चंदेल के साथ शाहपुरा थाने के ASI उपेंद्र सिंह हैं। हालांकि SI चंदेल के अवकाश पर होने के कारण जांच सिर्फ श्वेता और उपेंद्र सिंह कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं...