भोपाल हमीदिया हादसा:जिला प्रशासन ने 16 दिन बाद 3 पीड़ित परिवार के खाते में ट्रांसफर की मुआवाज राशि; एक परिवार ने क्लेम नहीं किया

भोपाल2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हमीदिया का जला पीडियाट्रिक विभाग - Dainik Bhaskar
हमीदिया का जला पीडियाट्रिक विभाग

भोपाल के हमीदिया अस्पताल में वेंटिलेटर में शार्ट सर्किट से 8 नवंबर की रात आग लगने के हादसे में मृतक 4 नवजात के परिवार में प्रशासन ने 16 दिन बाद बुधवार मुआवजा राशि जारी की। बता दें भास्कर डिजिटिल ने 24 नवंबर को मुद्दे को उठाया था। इसके तत्काल बाद प्रशासन के अधिकारियों की नींद टूटी और उन्होंने बुधवार को राशि जारी करने कार्रवाई शुरू की।

सरकार आकड़े के अनुसार 8 नवंबर को हमीदिया के पीड़ियाट्रिक्स विभाग में आग की घटना में 4 बच्चों की मौत हुई थी। घटना के वक्त वार्ड में 40 बच्चे थे। इसके बाद हादसे के वक्त वार्ड में मौजूद बच्चों की मौत का कारण अस्पताल प्रबंधन ने नेचरल बताया था। हालांकि परिजनाें का आरोप है कि बाकी बच्चों की मौत भी धुएं के कारण दमघुटने से हुई थी। अस्पताल और प्रशासन ने पूरे मामले को दबाने के लिए सिर्फ 4 बच्चों की ही मौत हादसे में होना बताया था।

इन चार नवजात की बताई थी हादसे में मौत

अस्पताल प्रबंधन ने बेबी ऑफ सोनाली पत्नी अरुण निवासी बागसेवनिया, बेबी ऑफ शाजमा पत्नी रई कुरैशी निवासी धर्मकांटा के पास अफजल कॉलोनी जहांगीराबाद, बेबी ऑफ इरफाना पत्नी रहीशस निवासी शीशगरपुरा ग्राम लड़कुई तहसील नसरुल्लागंज जिला सीहोर और बेबी ऑफ रजना पत्नी अंकुर यादव निवासी काजीपुरा जैन मंदिर रोड भोपाली।

हमने मुआवजा राशि जारी कर दी

शहर वृत्त एसडीएम जमील खान ने बताया कि हमने तीन परिवार के खाते में मुआवजे के 4-4 लाख रुपए भेज दिए है। एक बच्चे के परिवार ने अभी मुआवजे के लिए क्लेम नहीं किया है। इसलिए राशि जारी नहीं की गई है।

हमीदिया हादसे में सरकारी झूठ उजागर:मंत्री ने कहा था केवल 4 बच्चों की जान गई, पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से पांचवीं मौत की बात साबित

खबरें और भी हैं...