• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Bhopal Receives More Than 100 Buddha Statues Donated From Thailand, Myanmar And Vietnam; 84 Thousand Such Idols Will Come Across The Country In The Next 10 Years

बुद्धं शरणं गच्छामि:भोपाल को थाइलैंड, म्यांमार और वियतनाम से मिलीं 100 बुद्ध प्रतिमाएं; अगले 10 साल में देशभर में आएंगी 84 हजार

भोपाल7 महीने पहलेलेखक: राजेश चंचल
  • कॉपी लिंक
इस साल भोपाल को 100 प्रतिमाएं और मिलेंगी, जो बुद्ध विहार में स्थापित होंगी; पूरे देश में अब तक 3000 आईं। - Dainik Bhaskar
इस साल भोपाल को 100 प्रतिमाएं और मिलेंगी, जो बुद्ध विहार में स्थापित होंगी; पूरे देश में अब तक 3000 आईं।

आने वाले 10 साल में भोपाल समेत पूरे देश में भगवान बुद्ध की छोटी-बड़ी 84 हजार प्रतिमाएं थाइलैंड, वियतनाम, म्यांमार और अमेरिका से आएंगी। इसकी शुरुआत हो चुकी है। अब तक करीब 3 हजार प्रतिमाएं आ भी चुकी हैं। इनकी लागत करीब 4 करोड़ रुपए है। इनमें भोपाल को डेढ़ साल में 100 से अधिक प्रतिमाएं मिली हैं।

इनमें से कई प्रतिमाएं 5 से 8 फीट तक की हैं, जिन्हें बुद्ध विहार में स्थापित किया जा चुका है। बाकी प्रतिमाएं लोगों को उपहार स्वरूप घरों व संस्थानों में रखने के लिए दी जा चुकी हैं। खास बात यह है कि यह प्रतिमाएं विदेशी दानदाताओं के माध्यम से यहां के बुद्ध विहारों को मुफ्त में मिलती हैं।

उन्हें केवल कस्टम और ट्रांसपोर्ट का खर्च उठाना पड़ता है। प्रतिमा मंगाने के लिए पहले एक आवेदन करना होता है। आवेदन मिलने पर नागपुर और मुंबई की दो संस्थाओं द्वारा पड़ताल की जाती है कि किस बुद्ध विहार को कितनी बड़ी और कैसी प्रतिमा की जरूरत है। इसके बाद ही आगे की प्रक्रिया शुरू होती है।

प्रतिमाएं अष्टधातु, पीतल और फायबर की हैं

बुद्धिस्ट सोसायटी ऑफ इंडिया के पदाधिकारी अशोक पाटिल ने बताया कि नागपुर के अहिल्या बाई होल्कर फाउंडेशन के दिनेश गजभिये और फिल्म अभिनेता गगन मलिक मुंबई के माध्यम से भोपाल समेत पूरे देश में भगवान बुद्ध की प्रतिमाएं बांटने के लिए मंगवाते हैं। इसके लिए ये विदेशों में रह रहे दानदाताओं से संपर्क करते हैं।

पिछले साल वर्ल्ड अलायंस ऑफ बुद्धिष्ट बांग्लादेश के सहयोग से थाइलैंड, वियतनाम, कंबोडिया, म्यांमार आदि से प्रतिमाएं मंगाई गई थी। भोपाल में भीम ज्योति बुद्ध विहार चार इमली, विशाखा बुद्ध विहार बाग मुगालिया, लुम्बिनी बुद्ध विहार पंचशील नगर, अशोका बुद्ध विहार भेल आदि में 7 से 8 फीट ऊंचाई तक की प्रतिमाएं स्थापित हो चुकी हैं।

ये है प्रतिमाओं का रूट

विदेशों से पहले नागपुर और मुंबई में आती हैं। कोलार बुद्ध महाविहार के भंते शाक्यपुत्र सागर ने बताया कि जो भी प्रतिमाएं विदेशों से आती हैं, वे वहां जिस दानदाता के नाम पर बनती हैं, उनकी उपस्थिति में पहले वहां के बुद्ध विहार में ले जाकर उनकी विधिवत पूजा-उपासना की जाती है। इसके बाद ही उसे यहां के लिए रवाना करते हैं। ये नागपुर और मुंबई आती हैं, इसके बाद इन्हें विभिन्न राज्यों में भेजा जाता है।