साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने रेप पीड़िता को गलत बताया:भोपाल सांसद बोलीं- लालच में खुद को समर्पित किया, डेढ़ साल बाद शिकायत करना गलत

भोपाल3 महीने पहले

अपने बयानों से सुर्खियों में रहने वालीं भोपाल से सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने रेप विक्टिम को ही गलत ठहरा दिया। वह 21 मई को इंडियन ट्रेन कंट्रोलर्स एसोएिसएशन के कार्यक्रम को संबोधित कर रहीं थी। उन्होंने भोपाल में रेलवे के ADRM गौरव सिंह पर लगे रेप के आरोप का जिक्र करते हुए क्या कुछ कहा, पढ़िए...

इस पोल पर आप अपनी राय दे सकते हैं...

'एक नाम लेकर बोलती हूं, क्योंकि आज पेपर में न्यूज आई है। कोई गौरव सिंह करके ADRM हैं। उन्होंने किसी सहकर्मी का यह कहते हुए शोषण किया कि हम तुम्हारी अनुकंपा नियुक्ति करवा देंगे। तुम्हारी सर्विस लगवा देंगे। कहीं न कहीं उस महिला की भी गलती है। अगर किसी ने लोभ दिया है, लालच दिया है, उसी लोभ और लालच में आकर आपने खुद को उसको समर्पित कर दिया, एक साल-डेढ़ साल हो गया और फिर आप उसकी शिकायत करोगी, मुझे लगता है ये गलत है।

मैंने जानकारी ली है कि महिला की शादी होने के बाद भी ADRM उसे प्रताड़ित कर रहा था। इसलिए उसने आत्महत्या करने का प्रयास किया और ये केस खुला। महिला को एक बार तो आना चाहिए था और बताना चाहिए था कि हमारे साथ ये हो रहा है। पहले आपकी स्वीकृति, क्योंकि आपने अपने को समर्पित किया लोभ में आकर, ये महिला की गलती। अनुकंपा नियुक्ति आपका अधिकार था। आप DRM के पास जाती। आप अधिकारियों के पास जाती। आप जनप्रतिनिधियों के पास जाती कि हमें लोभ दिया जा रहा है, लालच दिया जा रहा है।

मैं किसी का पक्ष नहीं ले रही। महिला की गलती है, इसलिए महिला की गलती बता रही हूं और जहां पुरुष की गलती है, वहां पुरुष को बता रही हूं। मैंने DRM से पूछा कि क्या कार्रवाई हुई? बताया गया है कि उनको सस्पेंड किया गया है। FIR हुई है। फरार है, इसलिए इनाम घोषित हुआ है। दंड तो मिलेगा।'

ये भी पढ़ें:-

भोपाल में सहकर्मी से रेप करता रहा रेलवे अफसर:पीड़िता ने काटी हाथ की नस, कहा- नौकरी के बदले शोषण कर रहा था