पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Black Fungus... 3 Die In 10 Days Waiting For Surgery In Hamidia, Because There Is No Separate OT For The Infected

सिस्टम में फंगस:ब्लैक फंगस... हमीदिया में सर्जरी का इंतजार करते 10 दिन में 3 की मौत, क्योंकि यहां संक्रमितों के लिए अलग ओटी नहीं

भोपालएक महीने पहलेलेखक: अजय वर्मा
  • कॉपी लिंक
87 मरीजों का दर्द- कोरोना हुआ नहीं, फिर भी हो गया फंगस - Dainik Bhaskar
87 मरीजों का दर्द- कोरोना हुआ नहीं, फिर भी हो गया फंगस
  • ब्लैक फंगस को महामारी घोषित किए 29 दिन बीत चुके हैं, लेकिन सरकारी मेडिकल कॉलेजों में कोई इंतजाम नहीं
  • ब्लैक फंगस से प्रदेश में अब तक 134 मौतें हो चुकीं, शुक्रवार को 11 नए मरीज मिले, फिर भी सर्जरी के लिए हफ्तों तक इंतजार

प्रदेश में ब्लैक फंगस को महामारी घोषित हुए 29 दिन बीत चुके हैं। अब तक करीब 134 मौतें प्रदेश में इसी बीमारी से हुई हैं। शुक्रवार को 11 नए मरीज मिले। कुल 601 मरीज प्रदेश के विभिन्न अस्पतालों में भर्ती हैं। इनमें से 34 मरीज ऐसे हैं, जो प्रदेश के तीन मेडिकल कॉलेजों में भर्ती हैं, जिन्हें कोरोना के साथ ब्लैक फंगस का संक्रमण भी है।

इनकी सर्जरी तुरंत होना है, लेकिन ऐसे मरीजों की सर्जरी के लिए प्रदेश के किसी भी सरकारी मेडिकल कॉलेज में अलग से ऑपरेशन थिएटर नहीं है। हमीदियाा में तो सर्जरी का इंतजार करते 10 दिन में ऐसे तीन मरीजों की मौत हो चुकी है। 8 मरीज अब भी कोविड रिपोर्ट निगेटिव आने का इंतजार कर रहे हैं। इंदौर के एमजीएम मेडिकल कॉलेज में ऐसे 19, जबलपुर में 5 और रीवा मेडिकल कॉलेज में 2 मरीज भर्ती हैं। हमीदिया के ईएनटी डिपार्टमेंट की एचओडी डॉ. स्मिता सोनी ने बताया कि जहां कोरोना मरीज भर्ती हैं उस ब्लॉक में संक्रमित मरीजों का ऑपरेशन करने की सुविधा नहीं है, इसलिए सर्जरी नहीं हो पा रही है।

हमीदिया के विशेषज्ञों की मानें तो यहां इलाज करा रहे 18 मरीज ऐसे हैं, जिनको कभी कोविड हुआ ही नहीं, लेकिन उनको फंगस हो गया। प्रदेश में ऐसे 87 मरीज हैं। इनमें इंदौर में 52, सागर में 10, जबलपुर में एक मरीज है। डॉ. एसपी दुबे, मेंबर राज्य स्तरीय ब्लैक फंगस टास्क फोर्स

प्राइवेट में तो ऐसे ऑपरेशन हो रहे हैं

राजधानी के प्राइवेट अस्पतालों में ऐसे मरीजों की सर्जरी की जा रही है, फिर सरकारी में क्यों नहीं कर रहे। सरकार को ऐसे इंतजाम करना चाहिए। ताकि डॉक्टर्स को संक्रमण से बचाया जा सके और मरीजों की सर्जरी समय पर हाे सके। यदि डॉक्टर्स सर्जरी नहीं करें तो मरीज की स्थिति बिगड़ती जाएगी।