पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अच्छी खबर:कैंसर, डायबिटीज और हार्ट पेशेंट के लिए फायदेमंद है काला गेहूं

भाेपाल3 महीने पहलेलेखक: हरेकृष्ण दुबाेलिया
  • कॉपी लिंक
सात बरसों के रिसर्च के बाद गेहूं की इस नई किस्म को पंजाब के मोहाली स्थित नेशनल एग्री फूड बायोटेक्नाेलाॅजी इंस्टीट्यूट (नाबी) ने विकसित किया है। - Dainik Bhaskar
सात बरसों के रिसर्च के बाद गेहूं की इस नई किस्म को पंजाब के मोहाली स्थित नेशनल एग्री फूड बायोटेक्नाेलाॅजी इंस्टीट्यूट (नाबी) ने विकसित किया है।
  • राजधानी के किसान भी करने लगे काले गेहूं की खेती, सेहत के साथ ही किसानों के लिए भी लाभदायक है यह फसल

भाेपाल एवं उससे सटे इलाकाें के खेताें में भी काले गेहूं की पैदावार हाेने लगी है। विशेषज्ञ कहते हैं इसमें कैंसर, डायबिटीज, तनाव, ह्दयराेग और मोटापे जैसी बीमारियों की रोकथाम करने की क्षमता है। सात बरसों के रिसर्च के बाद गेहूं की इस नई किस्म को पंजाब के मोहाली स्थित नेशनल एग्री फूड बायोटेक्नाेलाॅजी इंस्टीट्यूट (नाबी) ने विकसित किया है। इसकी बालियां भी आम गेहूं जैसी हरी होती हैं, पकने पर दानों का रंग काला हो जाता है। यहां के कई किसानाें ने माेहाली से इसके बीज लाकर खेताें में बाेए हैं। ईंटखेड़ी स्थित फल अनुसंधान केंद्र से भी इसके बीज बेचे गए हैं।

एंथाेसाएनिन है इसके काले रंग की वजह

फल अनुसंधान केंद्र के चीफ साइंटिस्ट डाॅ. एमएस परिहार के मुताबिक इसके काले रंग की वजह एंथोसाएनिन है। फलों, सब्जियों और अनाजों के रंग उनमें मौजूद प्लांट पिगमेंट की मात्रा पर निर्भर होते हैं। काले गेहूं में एंथोसाएनिन नाम के पिगमेंट होते हैं। इसकी अधिकता से फलों, सब्जियों, अनाजों का रंग नीला, बैंगनी या काला हो जाता है। एंथोसाएनिन नेचुरल एंटीऑक्सीडेंट भी है। यह गेहूं सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है।

विशेषज्ञ बोले- साधारण गेहूं के मुकाबले 60% आयरन ज्यादा

रवींद्रनाथ टैगाेर यूनिवर्सिटी के डिपार्टमेंट ऑफ एग्रीकल्चर के एसाेसिएट प्राेफेसर डाॅ. अशोक वर्मा कहते हैं कि इसमें पाया जाने वाला कंटेंट शुगर, ब्लड प्रेशर और ह्दय राेग के मरीजाें के लिए बेहद फायदेमंद है। साधारण गेहूं में एंथोसाएनिन सिर्फ 5पीपीएम होता है, लेकिन काले गेहूं में यह करीब 100 से 200 पीपीएम होता है। इसके अलावा काले गेहूं में जिंक और आयरन की मात्रा में भी अंतर होता है। साधारण गेहूं की तुलना में इसमें 60 फीसदी आयरन ज्यादा होता है। प्रोटीन, स्टार्च और दूसरे पोषक तत्व समान मात्रा में होते हैं।

तीन गुना तक ज्यादा लाभ कमाया

भाेपाल से सटे श्यामपुर के बिछिया गांव के किसान महेश कुमार ने अपने खेत में यह गेहूं बाेया था। वे एक फसल ले चुके हैं। महेश कहते हैं सामान्य गेहूं की तुलना में हम इससे 2-3 गुना ज्यादा लाभ कमा रहे हैं।

मोहाली से लाए थे बीज

बैरसिया के इचगिरी गांव के किसान राजमल सिंह ने डेढ़ एकड़ में यह गेहूं बाेया है। इसके बीज पंजाब के माेहाली से लेकर आए थे।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- कुछ रचनात्मक तथा सामाजिक कार्यों में आपका अधिकतर समय व्यतीत होगा। मीडिया तथा संपर्क सूत्रों संबंधी गतिविधियों में अपना विशेष ध्यान केंद्रित रखें, आपको कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती हैं। अनुभव...

    और पढ़ें