गुब्बारे जैसा शरीर छुहारे जैसा हो गया:यूरिन और मुंह से ब्लड आने लगा, युवाओं ने बताया प्रोटीन पाउडर का सच

भोपालएक महीने पहलेलेखक: विजय सिंह बघेल

बॉडी बनाने का शौक युवाओं को बीमार कर रहा है। जल्दी मसल्स ग्रो करने के चक्कर में प्रोटीन पाउडर और फूड सप्लीमेंट खतरनाक साबित हो रहे हैं। प्रोटीन पाउडर और फूड सप्लीमेंट्स लेने की वजह से बॉडी और मसल्स तो डेवलप हो जाते हैं, लेकिन कुछ ही दिनों में साइड इफेक्ट्स भी सामने आने लगते हैं। ऐसे ही दो युवाओं ने दैनिक भास्कर से पीड़ा जाहिर की। उन्होंने इन दवाओं पर सख्ती से कार्रवाई की मांग की है...।

पढ़िए फूड सप्लीमेंट्स और प्रोटीन पाउडर का सच, उन्हीं की जुबानी...

'फूड सप्लीमेंट से आंतों में छाले हो गए' 'मेरा नाम मोनिस इजहार है। सेफिया कॉलेज ग्राउंड भोपाल का रहने वाला हूं। मेरे दोस्तों की बॉडी देखकर मुझे भी लगा कि मेरी बॉडी भी उनकी तरह अट्रेक्टिव बने। जिम जॉइन कर ली। दोस्तों ने कुछ प्रोटीन पाउडर और फूड सप्लीमेंट्स के बारे में बताया। मैंने यह सबकुछ लेना शुरू कर दिया। महज एक महीने में ही बॉडी अच्छी दिखने लगी। मसल्स डेवलप हो गए, लेकिन अचानक कुछ ही दिनों में अजीब सी तकलीफें होने लगीं। यूरिन में ब्लड आने लगा। शौच में भी खून आने लगा। कभी नाक से तो कभी मुंह से खून आता। डॉक्टरों को दिखाया तो उन्होंने तुरंत एडमिट होने की सलाह दी। जांच कराई, तो पता चला कि आंतों में छाले यानी अल्सर की प्रॉब्लम है।

करीब 12 दिन अस्पताल में रहने के बाद डिस्चार्ज हो गया, लेकिन मेरा गुब्बारे की तरह फूला हुआ शरीर छुहारे की तरह सूख गया। अब मैं सरकार से गुजारिश करता हूं कि इन दवाओं और बाजार में ब्रांडेड आइटम्स से मिलते- जुलते नामों से मिल रहे फूड सप्लीमेंट्स की जांच कराएं, ताकि मेरे जैसी स्थिति किसी दूसरे की न हो।'(जैसा मोनिस इजहार ने दैनिक भास्कर को बताया)

'प्रोटीन पाउडर बंद किए, सिर्फ घर का खाना खाता हूं...'
'मेरा नाम मो. मोहसिन खान है। छोट्टन बी मस्जिद के पास रहता हूं। मैंने मोनिस भाई को देखकर जिम जाना शुरू किया। जो भी दवाएं और पाउडर वे लेते थे। मैं भी खरीदकर लेने लगा। मेरी बॉडी भी अच्छी बनने लगी। मैंने पूरा रुटीन सिर्फ बॉडी बनाने के हिसाब से फिक्स कर लिया। मुझे बॉडी और मसल्स तो दिखने लगी, लेकिन साइड इफेक्ट बॉडी पर भी हो रहे थे। इसका खामियाजा भुगतना पड़ा। मेरे नाक, मुंह से खून आने लगा। यूरिन और शौच में ब्लड आने लगा। फिर बाद में डॉक्टरों को दिखाया, तो उन्होंने अल्सर की समस्या बताई। मैंने जिम जाना बंद कर सभी प्रोटीन पाउडर बंद कर दिए। अब सिर्फ घर का खाना खाता हूं। साइकिल चलाने जाता हूं। थोड़ा बहुत सुबह दौड़ने जाता हूं, लेकिन बॉडी बनाने का ख्याल दिमाग से निकाल दिया है। अब शरीर सूखकर कांटा हो गया है। सेहत सुधारने में लगा हूं।'

(जैसा मो. मोहसिन खान ने दैनिक भास्कर को बताया)

प्रोटीन पाउडर के ओवर डोज से हो चुकी है मौत
करीब 6 महीने पहले भी जिम में प्रोटीन पाउडर लेने के बाद भोपाल के पुराने शहर के रहने वाले एक युवक की मौत हो गई थी। मृतक की पत्नी के मुताबिक युवक, जिस प्रोटीन पाउडर को ले रहा था, उसकी कीमत लगभग साढ़े पांच हजार रुपए थी। लगातार प्रोटीन लेने से एक दिन अचानक उनकी तबीयत बिगड़ गई। जांच के बाद पता चला कि ज्यादा प्रोटीन लेने से उसके शरीर में इन्फेक्शन फैल गया है। वह जिस प्रोटीन पाउडर का इस्तेमाल कर रहा था, उसमें स्टेरॉयड की मात्रा अधिक थी।

एक्सपर्ट्स ने बताया फूड सप्लीमेंट्स का सच
गांधी मेडिकल कॉलेज के कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. अजय शर्मा के मुताबिक प्रोटीन पाउडर डायट्री सप्लीमेंट्स हैं, जो जिम जाने वाले और बॉडी बिल्डर्स अपनी बॉडी को स्ट्रांग और मस्कुलर बनाने के लिए लेते हैं, लेकिन इन प्रोटीन पाउडर के साइड इफेक्ट्स भी बहुत हैं। अगर तय मात्रा से ज्यादा प्रोटीन पाउडर लिया है, तो इसमें 25 ग्राम तक शुगर होती है। ज्यादा शुगर बॉडी के लिए नुकसानदेह होती है। इनमें कई बार ग्लॉगलर प्रोटीन्स होते हैं, जो बॉडी में इन्फ्लेमेशन पैदा कर देते हैं।

प्रोटीन पाउडर फायदे के बजाए नुकसान ज्यादा करते हैं। ज्यादा प्रोटीन पाउडर लेने की वजह से झुर्रियां, मुहासे जैसी दिक्कतें हो सकती हैं। प्रोटीन पाउडर में लेड, आसर्ने, मरकरी जैसे कंटेंट होते हैं, ये शरीर के लिए नुकसान करते हैं। ये जर्नलाइज्ड इन्फ्लेमेशन कर सकते हैं। कई बार पाचन शक्ति बिगाड़ देते हैं। जब आप ये प्रोटीन पाउडर लेते हैं, तो आपको लगता है जैसे सूजे हुए हैं, लेकिन जैसे ही इन प्रोटीन पाउडर को लेना बंद कर देते हैं, आपकी बॉडी पिचक जाती है। शरीर पर कई दुष्प्रभाव दिखने लगते हैं।

यह होते हैं नुकसान

  • प्रोटीन मसल्स बनाने में तो सहायक होते हैं, इसके कई गंभीर साइड इफेक्ट भी होते हैं।
  • इससे हार्मोंस और बायोएक्टिव पेप्टिड्स होते हैं, जिन्हें लेने पर सीबम बढ़ जाता है। मुंहासे बढ़ सकते हैं।
  • शरीर में न्यूट्रिशन का असंतुलन हो सकता है। प्राकृतिक प्रोटीन जैसे अंडे, दूध और मीट लेने से ऐसा होने की आशंका कम होती है।
  • सिरदर्द, चक्कर आना, कब्ज और मांसपेशियों में दर्द की शिकायत हो सकती है।
  • स्टेरॉयड मिला पाउडर हृदय, लीवर का आकार बढ़ सकता है। ब्लड सर्कुलेशन में दिक्कत होने लगती है, जिससे हृदय और किडनी पर बुरा प्रभाव पड़ता है।