पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बोर्ड एग्जाम्स:माइक्रो एग्जाम जैसे परीक्षा के कई ऑप्शंस पर विचार कर रहा है बोर्ड

भोपाल19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

देश में कोरोना के कारण बने हालातों के देखते हुए 12वीं बोर्ड एग्जाम्स को कराने को लेकर सीबीएसई और सीआईएससीई बोर्ड कई विकल्पों पर विचार कर रहे हैं। इसके तहत परीक्षाएं रद्द कर वैकल्पिक मूल्यांकन पद्धति अपनाना या सिर्फ बेसिक पेपर्स के एग्जाम लेकर छोटे फॉर्मेट में परीक्षा आयोजित कराने जैसे विकल्प शामिल हैं। असल में, ज्यादातर राज्यों ने अगस्त में प्रमुख विषयों के लिए कम टाइम ड्यूरेशन का एग्जाम लेने के ऑप्शन पर सहमति जताई है, जिसके कारण काफी उम्मीद की जा सकती है कि परीक्षाएं हों, लेकिन इसका स्वरूप बदला हुआ है। सीबीएसई हेल्पलाइन पर भी रोजाना आ रहे फोन कॉल्स में से 50 फीसदी कॉल एग्जाम से जुड़े होते हैं। इस बारे में क्या कुछ कहना है शहर के काउंसलर्स का, जाना सिटी भास्कर ने।

49 सीबीएसई और 3 सीआईएससीई स्कूलों के बच्चे होंगे शामिल

सीबीएसई : एमसीक्यू में भी हो सकता है पेपर

सीबीएसई काउंसलर डॉ. शिखा रस्तोगी ने बताया, एग्जाम्स को लेकर कई तरह के डिस्कशन चल रहे हंै। कुछ लोग एग्जाम सेंटर्स बढ़ाने की डिमांड कर रहे हैं, ताकि बिना भीड़ के परीक्षा हो सके। वहीं, कुछ मानते है कि एग्जाम बच्चों को अपने स्कूल में ही देने दिया जाए। पूरे 3 घंटे के पेपर की बजाय सिर्फ एक या डेढ़ घंटे का पीसीएम, पीसीबी और कॉमर्स या आर्ट्स के बेसिक 3 सब्जेक्ट के पेपर एमसीक्यू में तैयार हों, ताकि रिजल्ट भी कंप्यूटराइज्ड होने से जल्दी आ जाएगा। इससे स्टूडेंट्स को बार-बार एग्जाम सेंटर पर जाना भी नहीं पड़ेगा। इस तरह के ढेरों सुझाव अलग-अलग राज्यों से और एजुकेशनिस्ट्स की तरफ से सीबीएसई को गए हैं। लेकिन, अंतिम फैसला तो 1 जून को होने वाली मीटिंग में लिया जाएगा।

सीआईएससीई : स्कूलों से मांगे 12वीं में पढ़ रहे स्टूडेंट्स के 11वीं क्लास के मार्क्स

सीआईएससीई बोर्ड ने सभी स्कूलों से इस साल 12वीं में पढ़ रहे स्टूडेंट्स के 11वीं के फाइनल एग्जाम और 12वीं के सेशनल एग्जाम्स के मार्क्स मांगे हैं। हालांकि, बोर्ड ने यह स्पष्ट नहीं किया है कि परीक्षा रद्द होने की संभावना है या नहीं। बोर्ड ने स्कूलों को मार्क्स जमा करने का काम 7 जून तक पूरा करने का समय दिया है। बोर्ड के सचिव गेरी अराथून ने स्कूलों के प्रधानाचार्यों को पत्र लिखकर कहा है कि, सीबीएसई अपने सभी स्कूलों से 12वीं कक्षा के स्टूडेंट्स के आंकड़ों को एकत्र करने की प्रक्रिया में है। ऐसे में सभी से अनुरोध है कि स्टूडेंट्स का डेटा समय पर भेजें।

खबरें और भी हैं...