• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Bought Data Of Unemployed From QUICKER, Cheated 150 People Of 15 Lakh Rupees By Pretending To Get Job In Mahindra Company

भोपाल में धराए दिल्ली के साइबर ठग:10वीं-12वीं पास बदमाशों ने QUICKER से बेरोजगारों का डाटा खरीदा, नौकरी का झांसा देकर 150 लोगों से 15 लाख ठगे

भोपाल2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आरोपियों से बरामद इलेक्ट्रानिक उपकरण। - Dainik Bhaskar
आरोपियों से बरामद इलेक्ट्रानिक उपकरण।

साइबर क्राइम भोपाल ने महिंद्रा एंड महिंद्रा कंपनी में नौकरी दिलाने का झांसा देकर बेरोजगारों से ठगी करने वाले तीन जालसाजों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने इन्हें दिलशान गार्डन, दिल्ली से गिरफ्तार किया है। पुलिस ने दावा किया कि आरोपियों ने सात राज्यों के 150 लोगों के साथ करीब 15 लाख रुपए की ठगी कर चुके हैं। इनके पास से पुलिस ने 16 मोबाइल, 23 सिम कार्ड, 1 लैपटाॅप, 3 एटीएम कार्ड जब्त किए हैं।

जांच में सामने आया कि आरोपी QUICKER वेबसाइट से बेरोजगारों का डाटा खरीदकर ठगे करते हैं। मध्यप्रदेश के अलावा इन्होंने छत्तीसगढ, राजस्थान, तेलंगाना, आन्ध्रप्रदेश, महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल के लोगों से ठगी कर चुके हैं।

जानकारी के मुताबिक, भोपाल निवासी युवक ने 13 नवंबर 2021 को साइबर क्राइम से शिकायत की थी। उसने बताया था कि जालसाजों ने महिन्द्रा एंड महिन्द्रा कंपनी में नौकरी दिलाने का झांसा देकर 85 हजार रुपए उससे ठग लिए। पुलिस ने बैंक खाता, मोबाइल की सर्चिंग शुरू की। पता चला कि आरोपियों ने दिल्ली में बैठकर वारदात को अंजाम दिया है।

पुलिस ने दिलशान गार्डन दिल्ली में एक फ्लैट में छापा मारकर तीनों आरोपियों को पकड़ा। आरोपियों की पहचान नई दिल्ली निवासी रघुनंदन, फिरोज खान, दीपक मंडलोई के रूप में हुई है। रघुनंदन कॉल सेंटर का संचालक है, जबकि फिरोज और दीपक कॉलर हैं। तीनों 10वीं 12वीं तक पढ़े हैं। रघुनंदन इसी साल जुलाई तक दूसरे कॉल सेंटर पर कॉलर की नौकरी करता था। काम सीखने के बाद वह नौकरी छोड़कर खुद ही धोखाधड़ी के लिए कॉल सेंटर खोल लिया। इसके बाद अपने दोस्त फिरोज खान और दीपक के साथ मिलकर ठगी करने लगा।

वारदात का तरीका
आरोपियों ने पुलिस की पूछताछ में बताया कि QUICKER से डाटा खरीदकर वह बेरोजगारों को महिन्द्रा कंपनी में नौकरी दिलाने का झांसा देते हैं। इसके बाद सेक्यूरिटी अमाउंट, ड्रेस, कोरियर सर्विस, बीमा, ट्रेनिंग, जीएसटी समेत अन्य चार्ज के नाम पर पैसे जमा कराते हैं। पैसा ऑनलाइन खोले गए खाते में डलवाते हैं।

खबरें और भी हैं...