पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हमीदिया से नहीं मिल पा रही फ्री टैबलेट:भारी पड़ रहा हर महीने 79 हजार की दवा खरीदना, इलाज बीच में ही बंद

भोपालएक महीने पहलेलेखक: विवेक राजपूत
  • कॉपी लिंक

हमीदिया अस्पताल में पिछले दो हफ्ते से पोसाकोनाजोल टैबलेट नहीं मिल पा रही है। इसके चलते ब्लैक फंगस के जिन मरीजों को डिस्चार्ज किया जा रहा है, उन्हें यह टैबलेट नहीं दी जा रही है। ऐसे में हर महीने 78750 रुपए मरीज को ही खर्च करना पड़ रहे हैं। पैसों की कमी के चलते कई मरीज बीच में ही इलाज बंद कर देते हैं। ऐसे में इन मरीजों को फिर से संक्रमण की आशंका बनी रहती है।

हमीदिया में पहले जब ब्लैक फंगस के मरीजों को डिस्चार्ज किया जाता था, तब उन्हें पोसाकोनाजोल टैबलेट यहां से उपलब्ध कराई जाती थीं। करीब दो हफ्ते पहले अस्पताल की ओर से यह व्यवस्था बंद कर दी गई है। हमीदिया से पिछले दो हफ्ते में 80 से ज्यादा मरीजों को छुट्‌टी दी जा चुकी है। हमीदिया के अधीक्षक डॉ. लोकेंद्र दवे का कहना है कि जिन मरीजों को अस्पताल से छुट्दी दी जा रही है उन्हें टैबलेट नहीं दी जा रही। उन्हें अब बाहर से ही टैबलेट खरीदनी होगी।

ऐसा है टैबलेट का गणित...

पोसाकोनाजोल बाजार में पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है। 12 टैबलेट के पत्ते की कीमत 10500 से 13000 रुपए तक है। ऐसे में एक टैबलेट की कीमत करीब 875 रुपए है। एक मरीज को एक महीने 90 टैबलेट (रोज तीन टैबलेट) खानी होती हैं। इनकी कीमत 78,750 रुपए होती है।

खुद खरीदनी पड़ रही टैबलेट

पिताजी को ब्लैक फंगस के ऑपरेशन के बाद रिकवरी हुई तो 10 दिन पहले छुट्‌टी कर दी, लेकिन टैबलेट नहीं दी। अब मेडिकल से खरीदना भी संभव नहीं है। -राकेश सिंह

इंजेक्शन का रिएक्शन, हड़कंप मचा

हमीदिया अस्पताल के ब्लैक फंगस वार्ड में भर्ती 45 से ज्यादा मरीजों को इंजेक्शन एंफोटेरिसिन-बी लिपिड कॉम्प्लेक्स लगाया गया, जिससे ज्यादातर मरीजों को कंपकंपी आने लगी, कुछ का ऑक्सीजन सेचुरेशन कम होने लगा। मरीजों की शिकायत पर दहशत में आए डॉक्टरों ने हालात संभाले। बताया गया है कि 16 जून को ये 260 इंजेक्शन मिले थे।

खबरें और भी हैं...