पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सख्ती से कोरोना की नो एंट्री:5 फोर्सेस के कैंपस, 3600 लोग; सालभर में सिर्फ 83 पॉजिटिव, गंभीर एक भी नहीं

भोपालएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
एसएसबी, सीएपीटी, आईटीबीपी, थ्री ईएमई और सीआरपीएफ सेंटर में सख्ती से कोरोना की नो एंट्री। - Dainik Bhaskar
एसएसबी, सीएपीटी, आईटीबीपी, थ्री ईएमई और सीआरपीएफ सेंटर में सख्ती से कोरोना की नो एंट्री।

कोरोना के बीच भोपाल में बने सेंट्रल आर्म्ड पुलिस फोर्स (सीएपीएफ), सीएपीटी, थ्री ईएमई सेंटर, एसएसबी और सीआरपीएफ ग्रुप सेंटर में कोरोना प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन किया जा रहा है। यही वजह है कि एक साल में यहां रहने वाले करीब 3600 लोगों में महज 2.30% ही संक्रमित हुए हैं। मार्च 2020 से अब तक इन 5 सेंटर्स में सिर्फ 70 लोग पॉजिटिव हुए हैं। पॉजिटिव लोगों की संख्या इतनी भी इसलिए हुई, क्योंकि कुछ स्टाफ छुटि्टयों से लौटा था। अफसरों का कहना है कि शहर की रहवासी सोसाइटी और कॉलोनी सदस्य भी यदि ऐसे ही कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करवा लें तो संक्रमण की रफ्तार को कम किया जा सकता है।

सीआरपीएफ ग्रुप सेंटर, बंगरसिया
डीआईजी ग्रुप सेंटर पीसी श्रीवास्तव ने बताया कि यहां 500 स्टाफ और उनके एक हजार से ज्यादा परिजन रहते हैं। अब तक यहां 22 केस पॉजिटिव मिले हैं, जिनमें संक्रमण की
दर माइनर है।
ऐसे रोका संक्रमण

  • गेट पर सैनिटाइज होने के पर डबल मास्क के बिना एंट्री नहीं।
  • दफ्तर में पहले हाफ में 25% स्ट्रेंथ ही काम करती है, दूसरे में अन्य 25% स्टाफ।
  • ग्रोसरी, दूध और सब्जियां खरीदते वक्त भी प्रोटोकॉल का पालन होता है।
  • पूरे कैंपस में रोज फॉगिंग की जाती है।

सेंट्रल एकेडमी ऑफ पुलिस ट्रेनिंग (सीएपीटी) कान्हासैंया

असिस्टेंट डायरेक्टर अंशुमान सिंह ने बताया कि यहां 250 लोग रहते हैं। पहली लहर में कोई संक्रमित नहीं हुआ। दूसरी में 4 हुए। इनमें एक भी गंभीर नहीं है।
ऐसे रोका संक्रमण; बाहर के मूवमेंट पर पूरी तरह रोक (बेहद जरूरी को छोड़कर) लगाई गई है।

सब्जी और ग्रोसरी की खरीदारी की जिम्मेदारी एक ही व्यक्ति को सौंपी गई है।

छुट्‌टी से लौटने वालों को 14 दिन क्वारेंटाइन रहना जरूरी है।

आईटीबीपी केंद्रीय सीमांत मुख्यालय, कान्हासैंया; डीआईजी प्रशासन मनोज सिंह ने बताया कि यहां 300 का स्टाफ पदस्थ है, जिनमें फिलहाल तीन लोग पॉजिटिव हैं। सभी को वैक्सीन की पहली डोज लग चुकी है, दूसरी डोज का प्रतिशत 85% है।

ऐसे रोका संक्रमण; कैंपस के बाहर निकलने पर रोक, 31 मई तक छुटि्टयां निरस्त (केवल बेहद जरूरी)

  • जो छुट्‌टी पर हैं, उन्हें 31 मई तक छुट्‌टी बढ़ाने के निर्देश जारी।
  • सब्जी व अन्य सामान की थोक खरीदी, वो भी पीपीई किट पहनकर।
  • पहले 7 दिन में खरीदी होती थी, अब 15 दिन में एक बार।

सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी), चंदूखेड़ी
सेकंड इन कमांड प्रफुल्ल कुमार ने बताया कि यहां 400 लोग और करीब 250
परिजन रहते हैं। मार्च 2020 से अब तक यहां 40 लोग संक्रमित हुए, इनमें ज्यादातर छुट्‌टी से लौटे हैं।
ऐसे रोका संक्रमण

  • बाहर से कोई भी आए, 14 दिन क्वारेंटाइन रहेगा।
  • ग्रोसरी या सब्जियां दो दिन तक स्टोर में रखे जाने के बाद ही इस्तेमाल की जाती हैं।
  • मुख्य गेट पर ही सेनेटाइजेशन होगा फिर डबल मास्क के साथ ही कैंपस में एंट्री।

थ्री ईएमई सेंटर, बैरागढ़
सुदर्शन चक्र कोर कर्नल राजेश कुमार ने बताया कि थ्री ईएमई सेंटर (आर्मी कैंप) में 900 जवान परिवार संग रहते हंै। यहां सिर्फ 13 पॉजिटिव मिले हैं। इनमें 6 जवान और 7 परिजन हैं। इनमें संक्रमण कम था।
ऐसे रोका संक्रमण

  • छुट्टी से लौटने पर जवान को 14 दिन आइसोलेशन में रहना जरूरी।
  • ग्रुप एक्टिविटी बंद।
  • जवानों को योग करना जरूरी।
  • वर्दी के कपड़े का थ्री लेयर मास्क। जरूरी होने पर ही बाहर जाने की अनुमति।
  • कॉन्टेक्ट डायरी बनाना अनिवार्य।
खबरें और भी हैं...