45 दिन बंधक बनाकर शादीशुदा से रेप:राजगढ़ की युवती को भोपाल से किडनैप कर ग्वालियर में रखा, पीटा; छूटी तो कराई FIR

भोपालएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भोपाल से नरसिंहगढ़ (राजगढ़) की शादीशुदा को किडनैप कर ग्वालियर में 45 दिन बंधक बनाकर रेप का मामला सामने आया है। 21 साल की पीड़िता भोपाल के बैरसिया बस स्टैंड पर मायके जाने के लिए बस का इंतजार कर रही थी। पहचान के ही आरोपी उसे अगवा कर कार से ग्वालियर ले गए। वहां एक मकान में बंधक बनाकर रखा। 26 अक्टूबर को आरोपियों के चंगुल से छूटी युवती दूसरे दिन यानी 27 अक्टूबर को भोपाल पहुंची और रिपोर्ट दर्ज कराई। मुख्य आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। परिजन ने बैरसिया थाने में गुमशुदगी का केस कराया था।

पुलिस के मुताबिक, नरसिंहगढ़ की रहने वाली युवती की शादी बैरसिया के तरावली इलाके में हुई है। उसने पुलिस को बताया कि 11 सितंबर को वह ससुराल से मायके जाने के लिए बैरसिया बस स्टैंड पर पहुंची। बस छूटने में टाइम था, इस वजह से वह वहां नाश्ता करने लगी। इसी बीच कार से पहचान के दो युवक अशोक नट और खेमू नट आए। दोनों ने उससे कहा कि वे भी नरसिंहगढ़ जा रहे हैं। साथ चलो। समय और किराया दोनों बच जाएगा। वह उनकी बातों में आकर कार में बैठ गई।

रास्ते में आरोपियों ने नरसिंहगढ़ वाली सड़क पर कार न ले जाते हुए नजीराबाद की तरफ मोड़ दी। विरोध किया तो उसे पीटा गया। इसके बाद आरोपी उसे ग्वालियर के बदनापुर ले गए। बदनापुर में खेमू के मकान में बंधक बना लिया। इस दौरान अशोक उससे रेप करता रहा। पीड़िता ने पुलिस को बताया कि 26 अक्टूबर को वह अशोक के चंगुल से छूटकर ग्वालियर रेलवे स्टेशन पहुंची । इसके बाद ट्रेन में बैठकर भोपाल आई। पुलिस ने अशोक को गिरफ्तार कर लिया है। जबकि खेमू नट की तलाश की जा रही है। खेमू नट अशोक की बुआ का बेटा है।

24 घंटे करते थे पहरेदारी

पीड़िता ने पुलिस को बताया कि आरोपी उसे एक कमरे में बंधक बनाकर रखे थे। अशोक उसकी 24 घंटे पहरेदारी करता था। इस वजह से वह बाहर नहीं निकल पाती थी। आरोपी उसे जान से मारने की धमकी देते रहे। जिस घर में आरोपी उसे बंधक बनाकर रखे थे, उसमें कोई नहीं रहता था।

मोबाइल नहीं होने से कॉल नहीं कर सकी
पीड़िता ने बताया कि उसके पास मोबाइल नहीं है। इस कारण वह अपने परिजन को फोन नहीं लगा सकी। दोनों आरोपी भी उसे अपना मोबाइल नहीं देते थे। युवती ने बताया कि जिस कार से उसका अपरहरण हुआ था, वो खेमू की थी। आरोपी खेती-किसानी करते हैं।