पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Children Older Than Three Years Will Also Be Able To Take Remdesivir, Dosage Will Increase According To Weight

अब तक भोपाल में छह बच्चों को लगे रेमडेसिविर:तीन साल से बड़े बच्चों को भी लग सकेगा रेमडेसिविर, वजन के हिसाब से बढ़ेगी डोज

भोपाल20 दिन पहलेलेखक: रोहित श्रीवास्तव
  • कॉपी लिंक
कोरोना की तीसरी लहर में संक्रमित बच्चे की सेहत बिगड़ने पर उसे रेमडेसिविर इंजेक्शन भी दिया जा सकेगा। - Dainik Bhaskar
कोरोना की तीसरी लहर में संक्रमित बच्चे की सेहत बिगड़ने पर उसे रेमडेसिविर इंजेक्शन भी दिया जा सकेगा।
  • बच्चे का वजन 6 किलो तो 30 एमजी डोज

कोरोना की तीसरी लहर में संक्रमित बच्चे की सेहत बिगड़ने पर उसे रेमडेसिविर इंजेक्शन भी दिया जा सकेगा। लेकिन, इंजेक्शन का डोज बच्चे का इलाज कर रहे डॉक्टर उसके वजन के आधार पर तय करेंगे। डब्ल्यूएचओ और आईसीएमआर की ट्रीटमेंट गाइडलाइन को 28 अप्रैल को स्वास्थ्य मंत्रालय मंजूरी दे चुका है।

इसी के मुताबिक हमीदिया अस्पताल में दूसरी लहर में भर्ती हुए 150 बच्चों में से तीन संक्रमितों और चिरायु में 250 में से तीन बच्चों को रेमडेसिविर इंजेक्शन लगाए गए। इनकी उम्र साढ़े तीन साल से 13 साल तक थी। गांधी मेडिकल कॉलेज के शिशु रोग विभाग की प्रोफेसर डॉ. ज्योत्सना श्रीवास्तव ने बताया कि 144 बच्चे जल्द स्वस्थ हो गए थे।

  • बच्चों को रेमडेसिविर इंजेक्शन का क्या पूरा कोर्स कराना होता है?

बच्चों के लिए अलग से कोई इंजेक्शन नहीं आता। उन्हें 5 एमजी प्रति किलोग्राम वजन के हिसाब से डोज दिया जाता है। पहले 12 साल से ज्यादा उम्र के बच्चों को रेमडेसिविर देने की गाइडलाइन थी। अब 5 साल और उससे ज्यादा उम्र के बच्चों को लगाने की।

  • संक्रमित बच्चों के इलाज में कौन-कौन सी दवाएं दी गईं?

इन बच्चों का इलाज एंटीबायोटिक, फीवर, कफ, कोल्ड की सामान्य दवाओं के सहारे किया गया। ऑक्सीजन थैरेपी भी दी गई।

  • बच्चों काे क्या एक भी एंटी वायरल दवा नहीं दी गई?

संक्रमण बढ़ने से पहले ही नियंत्रित कर लिया गया। केवल 3 बच्चों को एंटी वायरल इंजेक्शन रेमडेसिविर दिया गया।

  • संक्रमित बच्चों के इलाज में सबसे ज्यादा जरूरत किस दवा की होगी ?

इसका कोई सेट फाॅर्मूला अथवा प्रिस्किप्शन नहीं है। एंटीबायोटिक, कफ कोल्ड, बुखार की ही दवाओं से संक्रमित बच्चों का इलाज करेंगे।