पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Congress Said, 10 Thousand Reward Will Be Given To The One Who Brought MP Pragya Thakur; In The Last Lock down Too, Congress Raised Questions On The MP's Disappearance

भोपाल सांसद पर इनाम दोगुना:कांग्रेस ने कहा, सांसद प्रज्ञा ठाकुर को लाने वाले को 10 हजार इनाम दिया जाएगा; पिछले लॉक डाउन में भी कांग्रेस ने उठाया था सांसद के लापता रहने पर सवाल

भोपाल2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सांसद प्रज्ञा ठाकुर - Dainik Bhaskar
सांसद प्रज्ञा ठाकुर

राजधानी भोपाल की सांसद प्रज्ञा ठाकुर को एक फिर गुमशुदा जाहिर किया गया है। कोरोना काल में उनकी शहर से गैरमौजूदगी और आमजन से दूरी को कांग्रेस ने उनकी गुमशुदगी से जोड़ते हुए उन्हें ढूंढ़कर लाने वाले को दस हजार रुपए का इनाम देने का ऐलान किया है। इससे पहले कोरोना के प्रथम चरण में भी कांग्रेस ने प्रज्ञा के शहर में न होने को लेकर पांच हजारी इनाम के साथ उनकी तलाश की थी।

प्रदेश कांग्रेस के महासचिव एवं वरिष्ठ प्रवक्ता रवि सक्सेना ने आरोप लगाया है कि कोरोना जैसी महामारी के गहन संकट के समय सांसद प्रज्ञा ठाकुर का भोपाल से लापता होना भोपाल की जनता के साथ धोखा है। सक्सेना ने कहा इस संक्रमण काल में लगातार सांसद का गायब रहना तथा भोपाल की जनता को असहाय छोड़कर अज्ञातवास में चले जाना जनता के साथ घोर अन्याय है।

कांग्रेस प्रवक्ता ने उनको ढूंढकर लाने वाले को 10 हजार रुपए इनाम देने की घोषणा की है। सक्सेना ने कहा कि ये भोपालवासियों के लिए अत्यंत दु:ख और दुर्भाग्य की बात है कि जब दवाइयों, इंजेक्शंस, वेंटिलेटर, बेड्स और समुचित इलाज के अभाव में हजारों पीड़ित दर-दर की ठोकरें खा रहे हैं और अपनी जान गंवा रहे हैं, ऐसे संकट के समय में सांसद का लापता होना जांच का विषय है।

रवि सक्सेना ने याद दिलाते हुए कहा कि पिछले वर्ष भी कोरोना महामारी संकट के समय प्रज्ञा ठाकुर भोपाल की जनता को असहाय छोड़कर गुम हो गईं थीं। सक्सेना ने कहा कि उस समय भी उन्होंने सांसद को ढूंढ़कर लाने वाले को 5000 रुपए इनाम देने की घोषणा की थी। जिसके बाद उनके सांसद प्रतिनिधि ने एक फोटो डालकर उनके बीमार होने की सूचना दी थी।

पहले हुआ था विधायकों का पोस्टर जारी

इससे पहले कुछ दिनों पूर्व सोशल मीडिया पर किसी अज्ञात व्यक्ति ने शहर के सभी विधायकों के फोटो वाला पोस्टर जारी किया था। इन सभी के मोबाइल नंबर उल्लेखित करते हुए लोगों से आह्वान किया था कि किसी भी मुसीबत के समय में अपने जनप्रतिनिधियों को फोन करें। पोस्टर में कहा गया था कि हमने अपने नेताओं को सिर्फ गद्दी पर सजाने के लिए नहीं चुना है, बल्कि उनसे मुश्किल समय में मदद लेना हमारा अधिकार है।
रिपोर्ट: खान आशु

खबरें और भी हैं...