• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Constable Rakesh Said I Am A Rajput, The Mustache Will Not Go Away Without Having A Job; Allegation Of Indiscipline

अभिनंदन जैसी मूंछ रखने पर सिपाही सस्पेंड:कॉन्स्टेबल ने किया हटाने से इनकार; बोला- सर, राजपूत हूं, नौकरी रहे न रहे मूंछ नहीं हटेगी

भोपाल4 महीने पहले

भोपाल में पुलिस कॉन्स्टेबल राकेश राणा की नौकरी पर उसकी रौबदार लंबी मूंछ भारी पड़ गई है। उसकी रौबदार मूंछ इंडियन एयरफोर्स के जांबाज ग्रुप कैप्टन अभिनंदन वर्तमान की मूंछ जैसी है। उसके साथी भी उसे अभिनंदन कहते हैं। लेकिन अफसर को उसकी मूंछ पसंद नहीं आई और उसे सस्पेंड कर दिया।

हालांकि कोऑपरेटिव फ्रॉड एवं लोक सेवा गारंटी के एआईजी प्रशांत शर्मा का कहना है कि कॉन्स्टेबल राकेश राणा ने आदेश का पालन नहीं किया है। इधर, राकेश ने कहा कि सर, राजपूत हूं। नौकरी रहे या न रहे। मूंछें नहीं काटूंगा। सर, पुलिस की नौकरी में मूंछ अच्छी लगती है। लगता है कि ये पुलिस का जवान है।

दो दिन पहले दिया गया आदेश
कॉन्स्टेबल राकेश राणा एमपी पूल भोपाल को-ऑपरेटिव फ्रॉड एवं लोक सेवा गारंटी के विशेष पुलिस महानिदेशक के ड्राइवर पद पर तैनात हैं। दो दिन पहले उन्हें सस्पेंड कर दिया गया। सस्पेंशन का आदेश एआईजी प्रशांत शर्मा ने जारी किया है।

आदेश में कहा गया कि आरक्षक चालक राकेश राणा का टर्नआउट चेक करने पर पाया गया कि उसके बाल बढ़े हुए हैं। मूंछ अजीब डिजाइन में गले पर है। इससे टर्नआउट अत्यधिक भद्दा दिखाई दे रहे हैं। आरक्षक राकेश को टर्नआउट को ठीक करने के लिए बाल एंव मूंछ उचित ढंग से कटवाने के लिए निर्देश दिए गए थे। राकेश ने आदेश का पालन नहीं किया। यह यूनिफार्म सेवा में अनुशासनहीनता की श्रेणी में आता है। इस कारण उन्होंने तत्काल प्रभाव से सस्पेंड किया जाता है।

राकेश बोले- राजपूत हूं...
हालांकि राकेश ने इस आदेश पर कहा, सर, मैं राजपूत हूं और मूंछ रखना मेरी शान है। नौकरी भले ही जाए पर मैं मूंछ नहीं काटूंगा। मैं पहले से इसी तरह मूंछ रखे हुए हूं। पाकिस्तान सेना के हाथों पकड़ने जाने के बाद ग्रुप कैप्टन अभिनंदन एक पहचान बन गए थे। उसके बाद से ही लोग उन्हें भी उनकी मूंछ के कारण अभिनंदन कहने लगे। मुझे निलंबन का आदेश मंजूर है, लेकिन मूंछ नहीं हटाऊंगा।

UP के मेरठ में कॉन्स्टेबल को किया गया सम्मानित
उत्तर प्रदेश के मेरठ में पिछले दिनों एसएसपी प्रभाकर चौधरी को कॉन्स्टेबल आकाश की मूंछें पसंद आ गईं। उन्होंने आकाश को एक हजार रुपए का नकद पुरस्कार और प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया।