MP में कोरोना अनकंट्रोल:24 घंटे में 1033 नए केस, सिर्फ 102 ठीक हुए; आधे पॉजिटिव अकेले इंदौर में, 42 जिले प्रभावित

मध्यप्रदेश5 महीने पहले

मध्यप्रदेश में कोरोना ने दोगुनी रफ्तार पकड़ ली है। 24 घंटे में कोरोना के मामलों में 100% की बढ़ोतरी हुई है। इस बीच 1033 नए केस मिले हैं। 102 मरीज स्वस्थ होकर लौटे। 48 घंटे पहले 594 केस मिले थे। कोरोना अब प्रदेश के 42 जिलों में पहुंच चुका है। इंदौर प्रदेश का सबसे बड़ा हॉटस्पॉट बन चुका है। यहां रिकॉर्ड 512 केस के साथ महाविस्फोट हुआ है। प्रदेश में एक्टिव संक्रमितों की संख्या 2475 हो गई है। कोरोना पॉजिटिविटी रेट भी अनकंट्रोल होती जा रही है। प्रदेश में स्वस्थ होने वाले मरीजों की संख्या नए मरीजों की तुलना में महज 10 फीसदी है।

प्रदेश के मंत्री, कलेक्टर-एसपी समेत भोपाल के सीनियर IAS, AIIMS और आइशर हेल्थ सेंटर के डॉक्टर भी कोरोना पॉजिटिव हो चुके हैं। इंदौर के बाद राजधानी भोपाल में भी कोरोना ब्लास्ट हुआ है। यहां पर 192 संक्रमित मिले हैं। हालांकि, प्रशासन की रिपोर्ट में 162 पॉजिटिव हैं। शिवपुरी में SP राजेश चंदेल भी पॉजिटिव हो गए हैं। ग्वालियर में 24 घंटे के भीतर 97 केस सामने आए हैं।

2 हजार टेस्ट ही बढ़े
प्रदेश में 4 जनवरी को प्रदेश में लगभग 70 हजार कोरोना टेस्ट हुए थे। इनमें से 594 लोग संक्रमित मिले थे और 78 मरीज स्वस्थ हुए थे। कोरोना पॉजिटिविटी रेट 1% था। एक्टिव केस की संख्या 1544 थी। 5 जनवरी को सिर्फ 2 हजार टेस्ट ही बढ़े। 72 हजार से ज्यादा टेस्ट किए गए। इनमें 1033 नए केस सामने आए। एक्टिव केस भी बढ़कर 2475 पहुंच गए हैं। प्रदेश में अब तक 7 लाख 96 हजार 389 लोग कोरोना संक्रमित हो चुके हैं। इनमें से 7 लाख 83 हजार 379 लोग ठीक हो गए।

इंदौर में संक्रमण दर की रॉकेट सी रफ्तार
इंदौर में कोरोना अनकंट्रोल हो चुका है। 512 नए मरीज आए हैं। एक्टिव मरीजों की संख्या 1270 हो गई है। संक्रमण दर बढ़कर 5.43% हो गई है। यह मंगलवार तक 3.91% थी। महामारी पर कंट्रोल के लिए संक्रमण दर का 1% से कम होना जरूरी है। जनवरी के 5 दिन में ही मरीजों में 600% का उछाल है। लगातार बढ़ रहे केस को देखते हुए शहर में रैपिड रिस्पॉन्स टीम में भी बढ़ाकर 38 कर दी गई हैं। 4 टीम का और इजाफा हुआ है। मध्यप्रदेश के कुल एक्टिव केस में से आधे इंदौर के है। यहां पर 1270 मामले एक्टिव है।

भोपाल में एक्टिव केस 400 के करीब पहुंच चुके हैं। जिनमें से सिर्फ 21 संक्रमित ही हॉस्पिटल में भर्ती है। बाकी होम आइसोलेट है।

सिर्फ 10 जिले बचे, जहां एक भी पॉजिटिव नहीं
प्रदेश के 52 जिलों में से 42 में एक्टिव केस हैं। सिर्फ आगर मालवा, डिंडौरी, हरदा, कटनी, मंडला, निवाड़ी, पन्ना, सिवनी, सीधी और टीकमगढ़ ऐसे जिले हैं, जहां एक भी केस नहीं हैं।

और पाबंदियां बढ़ाने की तैयारी
मध्यप्रदेश में कोरोना विस्फोट होने के बाद सरकार ने शादी-अंतिम संस्कार को लेकर पाबंदियां लगा दी हैं। नए मेले नहीं लगेंगे तो कंटेनमेंट जोन भी बनेंगे। इंदौर-भोपाल, उज्जैन आदि जिलों में मास्क को लेकर सख्ती शुरू कर दी गई है। गुरुवार को गृहमंत्री ने कहा- मास्क नहीं लगाने वालों के लिए खुली जेल बनाने का प्रस्ताव है। लोग बिना मास्क कोरोना बम बनकर न घूमें। लॉकडाउन और बाजार बंद करने की योजना अभी नहीं है।

खबरें और भी हैं...