• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Corona Reduced The Height Of Ravana's Effigy, Earlier The Effigies Lived Up To 105 Feet High; Height Now From 11 To 51 Feet

भोपाल में दशहरा उत्सव:कोरोना ने कम कर दी रावण के पुतले की हाइट, पहले 105 फीट तक ऊंचे रहते थे पुतले; अब 11 से 51 फीट तक ऊंचाई

भोपाल9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक फोटो। - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक फोटो।

राजधानी भोपाल में अबकी बार भी दशहरे पर कोरोना का असर दिखाई दे रहा है। कोलार, बिट्‌टन मार्केट समेत कई स्थानों पर पुतले की हाइट काफी कम कर दी गई है। कोलार में पहले 105 फीट तक हाइट रहती थी, जो इस बार सिर्फ 20 फीट रहेगी। बिट्‌टन मार्केट में 11 फीट ऊंचा पुतला ही बनाया जा रहा है।

आम तौर पर दशहरा उत्सव समितियां ज्यादा ऊंचाई वाले पुतले बनवाती थी। ताकि आयोजन में भीड़ जुट सके, लेकिन पिछले साल की तरह इस बार भी पुतले छोटे हाइट के बनाए जा रहे हैं। इसके पीछे तर्क है कि सरकार ने दशहरे की गाइडलाइन तय कर दी है। दशहरा मैदान में न तो धार्मिक मेले लगेंगे और न ही बड़े पैमाने पर आयोजन हो सकेंगे। इसलिए ऊंचाई कम रखी गई है।

चल समारोह प्रतीकात्मक तरीके से निकालेंगे
हिंदू उत्सव समिति के अध्यक्ष कैलाश बेगवानी ने बताया कि छोला दशहरा मैदान में रात 9 बजे रावण दहन होगा। इस बार 51 फीट ऊंचा पुतला तैयार कराया गया है। कोरोना के चलते ऊंचाई कम की गई है। वहीं, प्रतीकात्मक तरीके से मारवाड़ी चौक स्थित बांके बिहारी मंदिर से चल समारोह निकाला जाएगा। 120 साल की परंपरा को कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए निभाएंगे।

पुतलों की ऊंचाई पर ऐसे पड़ा असर

  • उप नगर कोलार में दशहरे पर 105 फीट तक ऊंचा पुतले का दहन किया जाता है। इस बार ऊंचाई सिर्फ 20 फीट रहेगी।
  • छोला दशहरा मैदान पर 51 फीट ऊंचे पुतले का दहन होगा।
  • बिट्‌ठन मार्केट में साल 2019 में पुतले की ऊंचाई 62 फीट थी, जो 2020 में 12 फीट की गई थी। अबकी बार 1 फीट ऊंचाई घटाई गई है। इससे पुतले की ऊंचाई सिर्फ 11 फीट ही रहेगी।
  • कलियासोत दशहरा मैदान में 51 फीट ऊंचा पुतला होगा।
  • टीटी नगर, अशोका गार्डन, एमवीएम इलाके में भी पुतले की ऊंचाई 51 फीट होगी।

सरकार ने ये गाइडलाइन तय की

  • दशहरे पर श्रीराम चल समारोह प्रतीकात्मक रूप से निकलेंगे।
  • दशहरे पर रामलीला का मंचन भी किया जा सकेगा, लेकिन मैदान या हॉल की कैपेसिटी से 50% लोग ही शामिल हो सकेंगे।
  • रावण दहन के कार्यक्रम खुले मैदान में फेस मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग रखने की शर्त पर आयोजन समिति कर सकेगी। इससे पहले SDM से परमिशन लेना जरूरी होगी।
  • रावण दहन के वृहद आयोजन जिनका स्वरूप मेले समान होता है, की अनुमति नहीं होगी।
  • कोरोना संक्रमण को देखते हुए बचाव के उपाय किए जाने जरूरी होंगे।
खबरें और भी हैं...