• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Country's First Convention Center Where Nine Rooms Named After Nine Ragas Were Inaugurated Tomorrow; State's First Auditorium With 1500 Capacity

देश का पहला ऐसा ऑडिटोरियम:नए रवींद्र भवन में नौ रागों के नाम पर नौ कक्ष, लोकार्पण कल; 1500 दर्शकों की क्षमता

भोपाल4 महीने पहलेलेखक: विशाल त्रिपाठी
  • कॉपी लिंक

प्रदेश का सबसे बड़ा 1500 सीटर ऑडिटोरियम के साथ नया रवींद्र कन्वेंशन सेंटर (पहले रवींद्र भवन) तैयार है। संभवत: देश में ये पहला कन्वेंशन सेंटर होगा, जिसके कक्षों को रागों का नाम दिया गया है। इनके नाम हंसध्वनि, गौरांजनी, जयजयवंती, मालकौश, कौशिकी, मल्हार, श्रीरंजिनी, कुरंजिका और वागीश्वरी रागों पर रखे गए हैं। इसमें एक बैंक्वेट हॉल भी है, जिसे शादी या जन्मदिन समारोह के लिए नहीं दिया जाएगा।

रवींद्र भवन के तय पैमानों के आधार पर इसका इस्तेमाल कला या साहित्य से जुड़े शासकीय, गैरशासकीय आयोजनों में होगा। 26 जनवरी को भवन का उद्घाटन होगा। 59 साल पहले यानी वर्ष 1962 में मप्र में कला को जीवंत करने के लिए रवींद्र भवन को बनाया गया था।

1500 क्षमता वाला प्रदेश का पहला ऑडिटोरियम।
1500 क्षमता वाला प्रदेश का पहला ऑडिटोरियम।

ऑडिटोरियम में कहां क्या

  • राग कक्ष क्षमता
  • हंसध्वनि मेन ऑडिटोरियम 1500
  • गौरांजनी मिनी ऑडिटोरियम 212
  • जयजयवंती सभागार (बोर्ड रूम) 80
  • मालकौश मीटिंग हॉल 40
  • कौशिकी बैंक्वेट हॉल 350
  • मल्हार ऑडियो रिकॉर्डिंग स्टूडियो
  • श्रीरंजिनी वीडियो रिकॉर्डिंग स्टूडियो
  • कुरंजिका भोजन कक्ष
  • वागीश्वरी रिहर्सल रूम

लाइट का फोकस गलत था

तकनीकी जांच के लिए बनी एक्सपर्ट कमेटी ने मेन ऑडिटोरियम में लाइट-साउंड, साइक्लोरामा, विंग्स और पर्दों में कमी पाई थी। लाइट का फोकस गलत था। इन कमियों काे अब सुधार लिया गया है।

रवींद्र सभागम केंद्र के कक्षों को नौ अलग-अलग रागों के नाम दिए हैं। संभवत: देश में ये ऐसा पहला कन्वेंशन सेंटर होगा।

- वंदना जैन, प्रबंधक, रवींद्र भवन

खबरें और भी हैं...