• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • IIT Cramming Will Not Work; Maths, Chemistry, Physics Will Have To Live, Success If The Concepts Are Clear

IIT की तैयारी खुले दिमाग से करें:रटने से काम नहीं चलेगा; मैथ्स, केमिस्ट्री, फिजिक्स को जीना होगा, कॉन्सेप्ट क्लियर होने पर सफलता

मध्यप्रदेश6 महीने पहले

IIT देने वाले छात्र अन्य छात्र जो 11वीं या 12वीं में नेशनल लेवल की परीक्षा की तैयारी करते हैं। रटने से इसमें सफलता नहीं मिल सकती। इसके लिए स्टूडेंट्स को मैथ्स, केमिस्ट्री और फिजिक्स को जीना होगा। जब तक कॉन्सेप्ट क्लियर नहीं होंगे, सफलता हासिल नहीं की जा सकती है। विजुलाइज करना होगा, तभी उसे समझ सकेंगे। आइए जानते हैं एक्सपर्ट रणधीर सिंह (आकाश इंस्टीट्यूट, भोपाल के असिस्टेंट डायरेक्टर) से...

जेईई एडवांस के लिए जेईई मेन क्लियर होना जरूरी

फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ्स का 100-100 मार्क का पेपर होता है। यह परीक्षा दो फेज में होती है। जिस फेज में से अच्छे अंक होंगे, उसे ही माना जाता है। यह कुल 300 नंबर का पेपर होता है। इसमें क्वालीफाइ करने वाले ही जेईई एडवांस दे सकते हैं। जेईई मेन में 11वीं और 12वीं का सिलेबस आता है।

11वीं और 12वीं पर फोकस रखें

सबसे पहले जान लें कि जेईई के लिए आपको क्या पढ़ना है। 11वीं व 12वीं में आपको फिजिक्स, केमेस्ट्री, मैथ्स के चैप्टर पढ़ना जरूरी है। एक और अहम बात जेईई का सिलेबस इससे बहुत ज्यादा बड़ा होता है। जेईई के पूरे सिलेबस को बार जरूर देख लें। जेईई मेन और जेईई एडवांस का सिलेबस लगभग समान रहता है। प्रश्न का लेवल जेईई एडवांस में थोड़ा बढ़ जाता है।

बेसिक समझें, कॉन्सेप्ट मजबूत करें

जेईई आपके बेसिक्स को जांचने के लिए होता है। टफ कॉन्सेप्ट को जानने से पहले आपको आसान, बेसिक कॉन्सेप्ट को समझना होगा। टफ प्रश्न से ही छात्र की मानसिक क्षमता का पता चलता है। क्या पढ़ें? कहां से पढ़ें? इसकी जगह पसंदीदा विषय से शुरुआत करें। हर प्रॉब्लम को सॉल्व करने की प्रैक्टिस करें। जितना ज्यादा चीजों को विजुअलाइज करेंगे, उतना आगे पढ़ना आसान होगा।

भास्कर एक्सपर्ट सीरीज में अगला वीडियो IIT परीक्षा के मैथ्स पर होगा। अगर आपका कोई सवाल हो, तो इस नंबर-9826857220 पर रविवार दोपहर 12 बज तक वाट्सऐप कर सकते हैं।

एक्सपर्ट से जानिए कैसे पाएं NEET में सक्सेस:बायो में फुल मार्क्स लाने का फॉर्मूला; एनसीईआरटी में बोल्ड और हाई लाइट वर्ड से ही बनते हैं अधिकांश प्रश्न

कॉम्पिटिटिव एग्जाम के लिए 4 बातें जरूरी:एग्जाम और सब्जेक्ट क्या है, किस तरह के सवाल आते हैं; पहले से टारगेट तय करना जरूरी

एग्जाम के पहले 3 बातों का ध्यान रखें:तनाव के साथ ही 10 से 12 मिनट खराब होने से बचते हैं; रिजल्ट भी 15% से 20% बेहतर होगा

NEET में फिजिक्स में अच्छे स्कोर का मंत्र:पेपर में 67% सरल सवालों पर फोकस कर 100 मार्क्स हासिल कर सकते हैं; इतना ही करना काफी

खबरें और भी हैं...