• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Arvind Kejriwal Bhagwant Mann | AAP Election Campaign In Singrauli For MP Nagar Nigam Chunav 2022

MP निकाय चुनाव के बहाने 'आप' की एंट्री:केजरीवाल मैदान में उतरेंगे, 2 जुलाई को सिंगरौली में पहली सभा; पंजाब सीएम-मंत्री के दौरे भी

भोपाल5 महीने पहले

मध्यप्रदेश में नगरीय निकाय चुनाव के बहाने आम आदमी पार्टी के अध्यक्ष और दिल्ली CM अरविंद केजरीवाल की एंट्री होने वाली है। वे प्रदेश में चुनावी संभाएं लेंगे। 2 जुलाई को सिंगरौली में पहली सभा होगी। पंजाब के CM भगवंत मान, मंत्री मनीष सिसौदिया के दौरे भी प्रदेश में होंगे। प्रदेश अध्यक्ष पंकज सिंह ने बताया कि 'आप' के वरिष्ठ नेताओं के दौरे प्रदेश में कराए जा रहे हैं। पहले चरण में 4 जुलाई और दूसरे चरण में 11 जुलाई तक दौरे होंगे। इधर, AIMIM (ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलिमीन) की भी प्रदेश में सभाएं हो रही है।

पंजाब फतह के बाद आम आदमी पार्टी की नजर 2023 में मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में होने वाले विधानसभा चुनाव पर है। चूंकि, मध्यप्रदेश में नगरीय निकाय चुनाव हो रहे हैं। इसे विधानसभा का सेमीफाइनल मानते हुए 'आप' नेताओं का पूरा फोकस यहां है। पार्टी नेताओं का कहना है कि नगरीय निकाय के जरिए पार्टी प्रदेश में जड़ें जमा रही है, ताकि इसका फायदा डेढ़ साल बाद होने वाले चुनाव में मिल सके। यही कारण है कि पार्टी पहली बार नगरीय निकाय चुनाव भी लड़ रही है।

पंजाब जीत के बाद बढ़ाई सक्रियता
आम आदमी पार्टी ने दिल्ली के बाद पंजाब विधानसभा चुनाव में भी धमाकेदार जीत हासिल की है। इसके बाद पार्टी ने मध्यप्रदेश में भी सक्रियता बढ़ा दी। पंजाब चुनाव के बाद प्रदेश में 50 हजार से ज्यादा नए सदस्य जोड़े गए।

11 जुलाई तक बड़े नेताओं की सभाएं
'आप' मध्यप्रदेश में पहली बार नगरीय निकाय चुनाव लड़ रही है। नेताओं का कहना है कि दिल्ली में पहला विधानसभा चुनाव लड़ने के बाद से ही पार्टी की प्रदेश में सक्रियता बढ़ गई थी। सभी जिलों में पार्टी का गठन किया गया। लोगों को भी पार्टी से जोड़ा। पंजाब फतह के बाद नेता पूरी ताकत से मैदान में उतर गए। वे उन मुद्दों को उठा रहे हैं, जो जनता से सीधे तौर पर जुड़े हों। दिल्ली और पंजाब में चल रही योजनाओं को भी बताया जा रहा है। 11 जुलाई तक बड़े नेताओं की सभाएं कराई जाएंगी। बता दें कि नगरीय निकाय चुनाव दो चरण में हो रहे हैं। 6 जुलाई और 13 जुलाई को वोटिंग होगी। इसके 48 घंटे पहले तक सभाएं होंगी।

निकाय चुनाव में सबसे ज्यादा फोकस
निकाय चुनाव में उन स्थानीय नेताओं पर भी फोकस किया गया, जो बीजेपी-कांग्रेस से असंतुष्ट हैं। उन्हें पार्टी से जोड़कर मेयर या पार्षद का उम्मीदवार बनाया गया है। भोपाल में 60 वार्डों से कैंडिडेट्स उतारे गए हैं। पार्टी ने मेयर कैंडिडेट भी उतारा था, लेकिन ऐनवक्त पर कैंडिडेट ने फार्म खींच लिया था। अब कांग्रेस छोड़कर आम आदमी पार्टी जॉइन करने वाली नेत्री को सपोर्ट किया जा रहा है। ऐसा ही इंदौर, जबलपुर, ग्वालियर समेत सभी बड़े शहरों में किया गया है।

औवेसी भी प्रदेश में
ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल मुस्लिमीन के राष्ट्रीय अध्यक्ष और हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी भोपाल दौरे पर हैं। 28 जून को उन्होंने भोपाल में चुनावी सभा भी ली। बता दें कि AIMIM इंदौर, भोपाल, जबलपुर, खरगोन, बुरहानपुर, खंडवा और रतलाम से चुनाव लड़ने का ऐलान किया था। इसके चलते ओवैसी सोमवार को जबलपुर और भोपाल पहुंचे। यहां उन्होंने चुनावी सभाएं की।

MP में 'आप' लड़ेगी भाजपा-कांग्रेस से चुनाव:नगरीय निकायों में डॉक्टर-इंजीनियर होंगे कैंडिडेट; भोपाल-इंदौर में ऐलान पहले

कमलनाथ बोले-रूठों को मनाएं...जरूरत पड़े तो पांव पकड़कर साथ लाएं:कांग्रेस संगठन के बल पर नगरीय निकाय चुनाव में किया जीत का दावा

खबरें और भी हैं...