• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • More Than 200 Bollywood Films Made In Madhya Pradesh, Naya Daur, Dilip Kumar, Bhopal, Indore, Pachmarhi

MP का बॉलीवुड कनेक्शन:'नया दौर' से लेकर 'भुज' तक 200 से ज्यादा फिल्में बनीं; भोपाल, इंदौर, पचमढ़ी फेवरेट; इस साल 5 और बनेंगी

भोपाल6 महीने पहलेलेखक: अनूप दुबे

बॉलीवुड के लिए मध्यप्रदेश 1957 से मोस्ट फेवरेट रहा है। मध्यप्रदेश में पहली फिल्म 1957 में मशहूर एक्टर दिलीप कुमार की 'नया दौर' की शूटिंग की गई थी। इसके बाद किनारा, नरसिम्हा से लेकर अशोका, प्यार किया तो डरना क्या... जैसी हिट फिल्में तक यहां बनीं। अब तक प्रदेश में 200 से ज्यादा फिल्मों की शूटिंग हो चुकी है। बॉलीवुड निर्माताओं की सबसे पसंदीदा लोकेशन भोपाल, इंदौर और पचमढ़ी है। माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय में मध्यप्रदेश में बनी फिल्मों की एक चित्र प्रदर्शनी लगाई गई है।

मध्यप्रदेश पर्यटन विभाग के फिल्म बोर्ड के उप संचालक युवराज पंडोले ने बताया कि मध्यप्रदेश में फिल्म बनाने के लिए अनुमति सिंगल विंडो से मिलती है। यही कारण है कि बीते 5 साल में सबसे ज्यादा फिल्में यहां बनी हैं। आने वाले समय में और प्रोजेक्ट लाइन में हैं। अभी अक्षय कुमार की फिल्म की शूटिंग चल रही है। इसके बाद इस साल 5 और फिल्म मध्यप्रदेश में ही बनेंगी। इससे रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे।

प्रदेश में ये फिल्में बनीं
मध्यप्रदेश में अब तक नया दौर बुधनी, किनारा मांडू, नरसिम्हा इंदौर, प्यार किया तो डरना क्या इंदौर, अशोका पचमढ़ी, एक विवाह ऐसा भी भोपाल, यमला पगला दीवाना महेश्वर, पीपली लाइव इंदौर-भोपाल-टीकमगढ़-खुरई, राजनीति, सिंह साहब द ग्रेट, सत्याग्रह, भुज और आरक्षण भोपाल में, चक्रव्यूह पचमढ़ी और भोपाल, पान सिंह तोमर, रिवॉल्वर रानी चंबल और ग्वालियर, छोरी पिपरिया और शेरनी फिल्म बालाघाट में बनाई गई। ऐसी ही कई और फिल्में और वेब सीरीज मध्यप्रदेश में फिल्माई गई हैं। आने वाले समय में और फिल्में यहां पर बनेंगी।

मध्यप्रदेश में पहली फिल्म नया दौर बनी। फिल्म 1957 में रिलीज हुई थी।
मध्यप्रदेश में पहली फिल्म नया दौर बनी। फिल्म 1957 में रिलीज हुई थी।

एमपी ने बॉलीवुड को कई ऑफर दिए
मध्यप्रदेश पर्यटन विभाग पूरी तरह से बॉलीवुड की फिल्मों को मध्यप्रदेश में फिल्माने के लिए प्रोत्साहित कर रहा है। इसके लिए पर्यटन विभाग से एक बार में सभी अनुमति शूटिंग के लिए मिल जाती हैं। इतना ही नहीं 100% फिल्में बनाने पर विभाग द्वारा नकद राशि दी जाती है। इसके अलावा भी अन्य तरह की सुविधाएं फिल्मकारों को दी जा रही हैं।

फिल्म फेस्टिवल में MP में बनी फिल्मों के चित्रों की प्रदर्शनी लगाई गई है।
फिल्म फेस्टिवल में MP में बनी फिल्मों के चित्रों की प्रदर्शनी लगाई गई है।

ये भी पढ़िए:-

क्या वाकई दूसरा जीवन नहीं चाहती थीं लता मंगेशकर?:महाभारत में आवाज देने वाले हरीश भिमानी बोले- लताजी ने कहा था कि दूसरे जीवन में साधारण व्यक्ति बनूं

खबरें और भी हैं...