• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Dividers Will Be Made At The Site Of Small Rotary And Bridge Under The Metro Pillar; 'Green' Signal For 25 To 30 Seconds

सुभाषनगर ROB के ट्रायल का आज आखिरी दिन:मेट्रो पिलर के नीचे छोटी रोटरी और ब्रिज की साइट में डिवाइडर बनेंगे; 25 से 30 सेकेंड तक 'ग्रीन' सिग्नल

भोपाल15 दिन पहले

भोपाल के सुभाष नगर ROB (रेलवे ओवरब्रिज) पर ट्रैफिक के ट्रायल का 12 जनवरी आखिरी दिन है। 7 दिन हुए ट्रायल में रोटरी और डिवाइडर की जरूरत सामने आई है, इसलिए मेट्रो पिलर के नीचे छोटी रोटरी और ब्रिज की साइट में डिवाइडर बनेंगे। 'ग्रीन' सिग्नल की टाइमिंग 25 से 30 सेकेंड रहेगी। इनकम टैक्स ऑफिस-जिंसी चौराहे तक लेफ्ट टर्न क्लियर रहेगा।

23 जनवरी को CM शिवराज सिंह चौहान ROB का लोकार्पण करेंगे। इसलिए 13 से 22 जनवरी के बीच रोटरी और डिवाइडर बना दिए जाएंगे। सिग्नल की टाइमिंग ट्रैफिक पुलिस तय करेगी। 7 दिन के ट्रायल में सामने आया कि जिंसी चौराहे से एमपी नगर की ओर जाने वाले वाहनों को कम समय के लिए रोका जाए, क्योंकि सुबह के समय सरकारी-प्राइवेट ऑफिस में जाने के लिए लोगों को जल्दी होती है। इसलिए 25 सेकेंड टाइमिंग रखे जाने का प्लान है।

10 दिन में रोटरी-डिवाइडर बनेंगे

पीडब्ल्यूडी के चीफ इंजीनियर (ब्रिज) संजय खांडे ने बताया कि छोटी रोटरी और डिवाइडर की प्रमुख रूप से आवश्यकता रहेगी, इसलिए 13 से 22 जनवरी के बीच 10 दिन में रोटरी और डिवाइडर बना लिए जाएंगे। 23 जनवरी को ब्रिज का लोकार्पण होगा।

मंत्री ने जीप चलाकर शुरू किया था ट्रायल

इससे पहले 5 जनवरी को चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने जीप चलाकर ट्रायल शुरू किया था। करीब एक घंटे तक ब्रिज के ऊपर से बाइक-कार समेत डंपर, जेसीबी आदि गाड़ियां भी गुजारी गई थीं। मंत्री सारंग ने जीप चलाई थी।

ब्रिज के बारे में जाने

ROB करीब 23 महीने पहले ही बनकर तैयार हो चुका है, लेकिन मेट्रो प्रोजेक्ट और सर्विस रोड की वजह से ट्रैफिक शुरू नहीं हो पाया था। ब्रिज 40 करोड़ रुपए में बना है। 690 मीटर लंबा यह ROB नए को पुराने शहर को जोड़ेगा। 3 लाख से ज्यादा लोगों को फायदा होगा।

कभी मेट्रो का काम तो कभी पीएम नरेंद्र मोदी के राजधानी दौरे की वजह से ब्रिज से ट्रैफिक शुरू नहीं हो पाया था।

जाम से मिलेगी राहत

ROB से ट्रैफिक शुरू होने के बाद रोज एवरेज 3 लाख लोगों को फायदा होगा। वहीं, सुभाष नगर व रचना नगर अंडर ब्रिज के साथ अशोका गार्डन पर घंटों लगने वाले जाम की समस्या भी हल होगी। आरओबी से एमपी नगर और प्रभात चौराहा क्षेत्र से भोपाल स्टेशन, अशोका गार्डन व पिपलानी, गोविंदपुरा, एमपी नगर, रचना नगर की ओर आने-जाने वालों को सहूलियत होगी।

खबरें और भी हैं...