• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Documents Were Submitted By The Victim To Open An Account In HDFC Bank, Disclosure Was Made On Receipt Of Notice Of Recovery, Case Filed Against Four

भोपाल में फर्जीवाड़ा कर फाइनेंस करा ली एक्टिवा:HDFC बैंक में खाता खोलने पीड़ित ने दिए थे दस्तावेज, वसूली का नोटिस आया तो धोखाधड़ी का पता चला, बैंक के 3 कर्मियों समेत 4 पर केस

भोपाल10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
एमपी नगर थाना पुलिस ने तीन जालसाजों पर केस दर्ज किया - Dainik Bhaskar
एमपी नगर थाना पुलिस ने तीन जालसाजों पर केस दर्ज किया

राजधानी में एमपी नगर पुलिस ने HDFC बैंक के 3 कर्मचारी और एक अन्य पर धोखाधड़ी का केस दर्ज किया है। आरोपियों ने एक पीड़ित द्वारा बैंक में खाता खुलवाने के लिए जमा किए दस्तावेजाे में फर्जीवाड़ा कर एक्टिवा गाड़ी फाइनेंस करा ली। पीड़ित के घर रिकवरी के लिए नोटिस पहुंचा, तो मामले का खुलासा हुआ।

पुलिस ने बताया, रवि चौरसिया भानपुर में रहते है। वह चिरायु अस्पताल भौंरी में नाैकरी करते हैं। वर्ष 2018 में बैंक द्वारा खाता खुलवाने के लिए लगे कैंप में उन्हाेंने अपने आधार और पैन कार्ड समेत अन्य दस्तावेज दिए। वहां राजेश चौबे एचडीएफसी बैक का एजेंट था। उसने चौरसिया के दस्तावेज बैंक के ही लोकनाथ प्रजापति और शंकर पांडे को उपलब्ध कराए। जांच में सामने आया, आरोपियों ने एक अन्य रवि पाटीदार का खाता नंबर और बैंक इस्टीमेट ले रखा था। फिर चौरसिया के दस्तावेजों में फर्जीवाड़ा कर रवि पाटीदार के नाम पर एक्टिवा गाड़ी फाइनेंस करा ली।

लंबे समय तक किश्त जमा नहीं होने पर रिकवरी के लिए रवि चौरसिया के घर बैक ने नोटिस भेज दिया। रिकवरी रोकने के लिए चौरसिया ने एमपी नगर एसडीएम कार्यालय में आवेदन दिया। फिर पुलिस को शिकायत दी। मामले में तहसीलदार ने रिकवरी रोक कर मामले की जांच की। सामने आया कि मामले में मुख्य आरोपी राजेश चौबे है। राजेश को ही लोन अप्रूवल के पहले फिजिकल वैरिफिकेशन करना था, लेकिन उसने फर्जी रिपोर्ट बैंक में लगा दी। पुलिस ने मामले में चारों आरोपियों के खिलाफ शनिवार को केस दर्ज कर लिया है। मामले में अभी गिरफ्तारी नहीं हुई है।

खबरें और भी हैं...