• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Downloaded The Recharge Cube App To Charge Rs 10 For Verification, Then Sent The Link And Blew 9 Thousand Rupees

सिम बंद होने का डर दिखाकर व्यापारी से ठगी:वेरिफिकेशन का 10 रुपए चार्ज लेने रिचार्ज क्यूब ऐप डाउनलोड कराया, फिर लिंक भेजकर 9 हजार रुपए उड़ा दिए

भोपालएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ दर्ज किया मामला। - Dainik Bhaskar
पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ दर्ज किया मामला।

भोपाल के व्यापारी को सिम बंद होने का डर दिखाकर जालसाज ने 9010 रुपए ठग लिए। जालसाजी को अंजाम देने आरोपी ने सिम वेरिफिकेशन का 10 रुपए चार्ज लेने के लिए व्यापारी से रिचार्ज क्यूब ऐप डाउन लोड कराया। इसके बाद भुगतान के लिए लिंक भेजी। व्यापारी ने जैसे ही लिंक को ओपन किया, उसी वक्त उनके बैंक खाते से 9 हजार 10 रुपए जालसाज के बैंक खाते में ट्रांसफर हो गए। पिपलानी पुलिस ने व्यापारी की शिकायत पर अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

पुलिस के मुताबिक, एच-49 अप्सरा कांप्लेक्स इंद्रपुरी पिपलानी निवासी प्रवीण सिवाच(57) फेब्रीकेशन का काम करते हैं। उन्होंने बताया कि 13 सितंबर को उनके पास 8338907211 मोबाइल नंबर से फोन आया। उसने खुद को जियो टेलीकाम सर्विस का अधिकारी बताया। उसने कहा कि आपकी सिम बंद हो जाएगी। जब व्यापारी ने वजह पूछी तो जालसाज ने बताया कि सिम के दस्तावेजों का वेरिफिकेशन नहीं हुआ है।

इसलिए दस्तावेजों का वेरिफिकेशन कराना होगा। उसने एक मौखिक ही वेरिफिकेशन किया। इसके बाद बोला कि 10 रुपए वेरिफिकेशन की फीस देनी होगी। जिसका आनलाइन भुगतान करना पड़ेगा। भुगतान के लिए उसने व्यापारी के मोबाइल रिचार्ज क्यूब नाम का ऐप डाउन लोड कराया। इसके बाद व्यापारी को 10 रुपए भुगतान के लिए लिंक भेजी। जैसे ही व्यापारी ने लिंक को ओपन किया उसी समय 9010 रुपए बैंक खाते से जालसाज के खाते में ट्रांसफर हो गए।

115 रुपए खाते में बचे

प्रवीण ने बताया कि उनके बैंक खाते में 9010 रुपए ट्रांसफर होने के बाद महज 115 रुपए ही बचे। 9 हजार रुपए ट्रांसफर होने के बाद जालसाज ने 5000 रुपए और ठगने के लिए लिंक भेजी थी। लेकिन खाते में रकम नहीं होने की वजह से वह पैसा नहीं ट्रांसफर कर सका। प्रवीण का कहना है कि वेरिफिकेशन का 10 रुपए चार्ज उन्होंने पेटीएम से करने के लिए मन बनाया था, लेकिन जालसाज ने पेटीएम से पैसा लेने से इंकार कर दिया था।

खबरें और भी हैं...