पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Everything Is Closed In Madhya Pradesh Villages; (MP) Coronavirus Second Wave Latest News Today Updates

अब भोपाल के गांवों में सब कुछ बंद:कलेक्टर के आदेश पर सभी धार्मिक, सामाजिक और शादी समारोह पर रोक लगा दी गई है; उल्लघंन करने पर सजा होगी

भोपाल4 महीने पहले
भोपाल के बैरसिया के ग्रामीणों इलाकों में प्रचार-प्रसार के दौरान लोगों से जानकारी भी ली जा रही है।
  • एक दिन पहले ही गृहमंत्री ने कहा था कि गांवों के हालत काबू में हैं
  • गांवों की अपेक्षा शहरों में दो गुना की गति से संक्रमण फैल रहा है

कोरोना संक्रमण का कहर अब गांवों में भी फैलने लगा है। इसी को देखते हुए प्रशासन ने अब गांवों की तरफ फोकस कर दिया है। इसी कारण शहरों के बाद अब गांवों में सब कुछ बंद कर दिया है। लोगों को मास्क पहनने से लेकर सोशल डिस्टेंसिंग रखने के बारे में बताया जा रहा है। कलेक्टर के आदेश पर गांवों में सभी तरह के धार्मिक, सामाजिक और शादी समारोह पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। इतना ही नहीं कानून का उल्लंघन पर सजा दिए जाने का भी ऐलान किया जा रहा है। हालांकि शासन द्वारा कराए जा रहे इस तरह के अनाउंसमेंट के दौरान की कई लोग बिना मास्क के नजर आए।

यह कह चुके हैं गृहमंत्री

गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने एक दिन पहले मीडिया को जानकारी देते हुए कहा था कि गांवों की स्थिति नियंत्रण में है। यहां पर अभी 6% की दर से कोरोना संक्रमण फैल रहा है, जबकि शहरों में यह 13% से ज्यादा है। गांवों में कोरोना को फैलने से रोकने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं।

अनाउंसमेंट में कहा जा रहा शहरों से कोरोना अब गांवों में आ रहा

शासन द्वारा लोगों में कोरोना को लेकर प्रचार प्रसार के लिए एक गाने का सहारा लिया जा रहा है। अनाउंसमेंट के दौरान कहा जा रहा है कि कोरोना अब शहर से गांवों में आ रहा है। लोग घरों में रहें और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। बीमारी होने पर तत्काल इलाज कराए और कोरोना फैलने से रोकें।

बड़ा सवाल - कार्यवाही कैसे होगी

ग्रामीण इलाके दूर-दराज इलाकों में होते हैं। ऐसे में यहां पर निगरानी करना प्रशासन के लिए बड़ी चुनौती होगी। रास्ते भी खेत में से होकर जाने के कारण लोगों की आवाजाही पर रोक लगाना मुश्किल काम है। हालांकि अधिकारियों का कहना है कि इसके लिए जन सहयोग लिया जा रहा है। लोगों से बातचीत कर उन्हें इसकी गंभीरता को समझाया जा रहा है। लोगों के सहयोग से ही इस पर नियंत्रण पाया जा सकता है।

मेडिकल की भी समस्या

गांवों में न तो मेडिकल शॉप होती हैं और न ही डॉक्टर आदि की व्यवस्था है। मेडिकल की सुविधा नहीं होने के कारण जरूरत के समय उन्हें शहरों में ही आना पड़ेगा। किसी तरह के आवागमन के साधन नहीं होने के कारण भी ग्रामीणों की परेशानी बढ़ गई है।

खबरें और भी हैं...