पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अनौपचारिक बातचीत:आयकर विभाग के लिए फेसलेस असेसमेंट भी एक क्रांतिकारी बदलाव है, फेसलेस असेसमेंट उसकी अगली कड़ी

भोपाल24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
भारतीय राजस्व सेवा (आईआरएस) में 1987 बैच की अधिकारी लेखा कुमार। - Dainik Bhaskar
भारतीय राजस्व सेवा (आईआरएस) में 1987 बैच की अधिकारी लेखा कुमार।
  • आज आयकर विभाग के भोपाल जोन में प्रिंसिपल चीफ कमिश्नर का पदभार संभालेंगी लेखा कुमार... चर्चा में कहा-

भारतीय राजस्व सेवा (आईआरएस) में 1987 बैच की अधिकारी लेखा कुमार आयकर विभाग के भोपाल जोन (मप्र और छग) की नई प्रिंसिपल चीफ कमिश्नर नियुक्त हुई हैं। वे बुधवार को पदभार ग्रहण करेंगी। सरकारों के कामकाज को बेहतर और पारदर्शी बनाने वाले भारत सरकार के ई-गवर्नेंस प्रोजेक्ट में लेखा नोडल अधिकारी रही हैं।

2007 में भोपाल के विधानसभा भवन में नेशनल कॉन्फ्रेंस फॉर ई गवर्नेंस का आयोजन हुआ था। वे बतौर नोडल अधिकारी इसमें शामिल होने आई थीं। वे कहती हैं कि सभागार पूरा भरा था। करीब ढाई हजार लोग होंगे। बाकी राज्यों में इन प्रेजेंटेशन में बमुश्किल 40-50 लोग ही आए थे। लेखा ने बताया कि ताजा फिंगर प्रिंट पब्लिक डिलीवरी सिस्टम से जुड़े 14 विभागों के कामकाज में सकारात्मक बदलाव ला सकते हैं। उन्होंने अंजलि कौशिक के साथ एक बहुचर्चित किताब फ्रेश फिंगर-प्रिंट्स; केसेस ऑफ इनोवेशंस इन पब्लिक सर्विस डिलीवरी में ये अनुभव साझा किए।

लेखा मार्च-2021 में प्रिंसिपल चीफ कमिश्नर के पद पर पदोन्नत हो गई थीं। उन्होंने मुंबई में ही इसका औपचारिक चार्ज ले लिया था, पर पदस्थापना का इंतजार था। आयकर विभाग मुंबई में उनके पास चीफ कमिश्नर, 5 का प्रभार था। इसके अतिरिक्त वे फेसलेस असेमेंट के लिए गठित आरएफएसी की वेस्ट जोन की प्रभारी हैं।

मप्र और छग में टैक्स संग्रह बढ़ाने का प्रयास करूंगी

लेखा कहती हैं कि आईटी सरकारों के कामकाज के तरीकों में क्रांतिकारी बदलाव लेकर आई है। आयकर विभाग में पेनकार्ड व ई फाइलिंग ने आयकरदाताओं के लिए टैक्स भरना बेहद आसान बनाया। फेसलेस असेसमेंट उसकी अगली कड़ी है। धीरे-धीरे विभाग के अधिकारी व करदाता इसके अभ्यस्त होते जा रहे हैं। भोपाल में पदस्थापना के दौरान वे इस पर खास फोकस करेंगी। उन्होंने कहा कि आयकर विभाग कोरोना के संकट से उबर रहा है। इस बार मुंबई में उनके प्रभार वाले कमिश्नरेट में टैक्स संग्रह वित्तीय वर्ष 2019-20 से अधिक रहा। वे मप्र और छग में इस साल टैक्स संग्रह बढ़ाने का प्रयास करेंगी। लेखा के सबसे पसंदीदा लेखक 20वीं सदी के ब्रितानी लेखक पीजी वोडेहाउस हैं। लेखा ने 1982 में दिल्ली के मशहूर लेडी श्रीराम कॉलेज और 1984 में दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स से अपनी पढ़ाई पूरी की। लेखा के पिता एसके श्रीवास्तव बिहार कैडर के 1958 बैच के आईएएस थे। पति अमिताभ कुमार भी आईआरएस अधिकारी हैं।

खबरें और भी हैं...