पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

न्याय से पहले सजा:परिजनों का दर्द- केस 20 साल चलेगा ताे क्या तब तक हमारी बच्चियां शेल्टर हाेम में ही रहेंगी

भोपालएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बच्चियों के साथ यौन शोषण का आरोपी प्यारे मियां। - Dainik Bhaskar
बच्चियों के साथ यौन शोषण का आरोपी प्यारे मियां।
  • यौन शोषण की शिकार नाबालिग 194 दिन से घर नहीं जा सकीं
  • परिजनों के सवाल पर बाल कल्याण समिति ने अब पुलिस से पूछा- बच्चियों को कब तक प्रोटेक्शन में रखना है

यौन शोषण पीड़िता की बालिका गृह में मौत के मामले में तत्कालीन अधीक्षिका अंतोनिया कुजूर इक्का को शुक्रवार को संभागायुक्त कवींद्र कियावत ने निलंबित कर दिया। अंतोनिया इससे पहले भी तीन बार सस्पेंड हो चुकी हैं। इस बीच इस मामले की अन्य 4 पीड़ित बच्चियों के परिजन डरे हुए हैं। वे अपनी बच्चियों को घर ले जाने के लिए गुहार लगा रहे हैं।

शुक्रवार को वे कलेक्टर, एडीएएम और बाल कल्याण समिति के कार्यालय पहुंचे। कलेक्टर से मुलाकात नहीं हो सकी। उन्होंने समिति के सदस्यों से पूछा कि यदि केस 20 साल केस चलेगा तो क्या हमारी बच्चियां तब तक शेल्टर होम में ही रहेंगी?

इसके बाद बाल कल्याण समिति ने शाहपुरा, कोहेफिजा और कमला नगर टीआई व एसपी को पत्र लिखकर पूछा है कि बच्चियों को कब तक प्रोटेक्शन में रखना है। ये बच्चियां 13 जुलाई 2020 से पुलिस प्रोटेक्शन में है। इधर मामले में बाल आयोग और मानवाधिकार आयोग ने भी संज्ञान लिया है। वहीं जिला विधिक प्राधिकरण ने भी पूरे मामले में बाल कल्याण समिति से जांच रिपोर्ट मांगी है।

बालिका गृह की अधीक्षिका अंतोनिया इक्का सस्पेंड

फिर बिगड़ी तबीयत: सांस लेने में तकलीफ के बाद अस्पताल में भर्ती
अपनी सहेली की मौत के बाद दो अन्य नाबालिग की गुरुवार को तबीयत खराब होने के बाद उन्हें जेपी अस्पताल भेजा था। इलाज के बाद बालिका गृह भेज दिया गया। लेकिन उसमें से एक की तबीयत फिर खराब हो गई। उसे फिर अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। अस्पताल के अधीक्षक ने बताया कि उसे सांस लेने की समस्या थी। उसका बीपी हाई थी। अब नाबालिग की स्थिति ठीक है। फिलहाल वह अस्पताल में ही भर्ती है।

बाल आयोग ने पूछा: आखिर बच्चियों तक कैसे पहुंचीं गोलियां
बाल आयोग ने पीड़िता की मौत के संबंध में कलेक्टर को पत्र लिखकर तीन दिन के अंदर सात बिंदुओं पर जानकारी मांगी है। आयोग ने पूछा है कि बच्चियों तक गोलियां कैसे पहुंची, क्या उन्हें डिप्रेशन या नींद की गोलियां प्रिस्क्राइब की गई थी। यदि की गई थी तो गोलियां किसकी देखरेख में दी जा रही थी। पीड़िताओं में क्या एक ही बच्ची की तबियत खराब हुई थी या अन्य बच्चियों की तबियत भी खराब हुई

मप्र मानव अधिकार आयोग ने मांगा प्रतिवेदन
मध्यप्रदेश मानव अधिकार आयोग के माननीय अध्यक्ष न्यायमूर्ति नरेन्द्र कुमार जैन ने प्यारे मियां मामले की पीड़िता की संदिग्ध मौत पर संज्ञान लेकर पुलिस महानिदेशक, मप्र, उप पुलिस महानिरीक्षक, भोपाल, कलेक्टर भोपाल एवं संचालक, महिला एवं बाल (कल्याण) विकास विभाग, मप्र शासन से अतिशीघ्र प्रतिवेदन मांगा है।

प्यारे को देख गवाह बोला- ये इंदौर के मकान में आते थे
भोपाल| कोल्ड ड्रिंक में नशीला पदार्थ मिलाकर नाबालिगों के यौन शोषण मामले में जेल में बंद प्यारे मियां को अदालत की स्क्रीन पर देखते ही गवाह बोला- ये लालाराम नगर इंदौर के मकान पर आता था। यहां कुछ लड़कियां रहती थी। प्यारे मियां अक्सर बड़ी गाड़ियों से आता था।

गवाह ने अदालत में बताया कि जब पुलिस ने इंदौर के लालाराम नगर स्थित प्यारे मियां के घर की तलाशी ली थी उस समय वो वहां मौजूद था। प्यारे मियां के मकान की तलाशी का पंचनामा भी उसके सामने बनाया था और उसने हस्ताक्षर किए थे। मामले में दो महत्वपूर्ण गवाह डॉ. संजय जैन और डॉ. राजेंद्र बरवा के बयान भी अदालत में दर्ज किए गए। शुक्रवार को विशेष न्यायाधीश वंदना जैन की कोर्ट में वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिये प्यारे मिंया, आवेश उर्फ उवेश, स्वीटी विश्वकर्मा उपस्थित हुए।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थिति आपके लिए बेहतरीन परिस्थितियां बना रही है। व्यक्तिगत और पारिवारिक गतिविधियों के प्रति ज्यादा ध्यान केंद्रित रहेगा। बच्चों की शिक्षा और करियर से संबंधित महत्वपूर्ण कार्य भी आ...

    और पढ़ें