• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • For The First Time, Immersion Of Idols By Crane JCB On The Ghats, Prohibited From Getting Into The Water; Tight Security Arrangements

भोपाल में सुरक्षित मां दुर्गा प्रतिमा विसर्जन:पहली बार घाटों पर क्रेन-जेसीबी से प्रतिमा विसर्जन, पानी में उतरने की मनाही; सुरक्षा के कड़े इंतजाम

भोपाल10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
विसर्जन से पहले खटलापुरा घाट में मां की आरती उतारते भक्त। - Dainik Bhaskar
विसर्जन से पहले खटलापुरा घाट में मां की आरती उतारते भक्त।

भोपाल में पहली बार घाटों पर सुरक्षित मां दुर्गा प्रतिमा विसर्जन हो रहा है। शहर के सभी 7 घाटों पर क्रेन-जेसीबी से प्रतिमाएं विसर्जित की जा रही हैं। किसी को भी पानी में उतरने नहीं दिया जा रहा है। सुरक्षा के लिहाज से भी कड़े इंतजाम किए गए हैं। आसपास के 4 अन्य घाटों पर भी यही व्यवस्था है। विसर्जन जुलूस नहीं निकाले जा सकेंगे। सिर्फ 10 लोगों को ही प्रतिमा पंडाल से घाट तक ले जाने की अनुमति है। हालांकि, कई लोग भीड़ के रूप में विसर्जन के लिए घाटों पर पहुंच रहे हैं।

कोरोना और 2 साल पहले खटलापुरा घाट में गणेश विसर्जन के दौरान हुए हादसे के चलते अबकी बार मां दुर्गा प्रतिमा विसर्जन की व्यवस्था बदली हुई है। गणेश विसर्जन के दौरान नगर निगम ने सभी घाटों पर क्रेन और जेसीबी से प्रतिमा विसर्जित की थी। यही व्यवस्था दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के दौरान भी अपनाई जा रही है। शुक्रवार सुबह से भक्त घाटों पर प्रतिमाएं लेकर पहुंच रहे हैं। बड़ी प्रतिमा को पहले जेसीबी पर बने प्लेटफार्म और फिर क्रेन की मदद से पानी में विसर्जित की जा रही है।

इस तरह जेसीबी में प्लेटफार्म बनाकर मां की प्रतिमा रखी गई। फिर पानी में विसर्जित की गई।
इस तरह जेसीबी में प्लेटफार्म बनाकर मां की प्रतिमा रखी गई। फिर पानी में विसर्जित की गई।

5 हजार कर्मचारी तैनात

शहर के खटलापुरा, प्रेमपुरा, बैरागढ़, हथाईखेड़ा, शाहपुरा, आर्च ब्रिज और मालीखेड़ी में विसर्जन हो रहा है। इनके अलावा सीहोर नाका, अनंतपुरा, ईंटखेड़ी और नरोन्हा सांकल में भी विसर्जन की व्यवस्था की गई है। सभी घाटों पर जिला प्रशासन, नगर निगम और पुलिस के करीब 5 हजार अधिकारी-कर्मचारी तैनात किए गए हैं।

घाटों पर ये व्यवस्थाएं

  • छोटी प्रतिमाएं कुंड में विसर्जित की जा रही। वहीं, बड़ी प्रतिमाओं के लिए प्रत्येक घाट पर जेसीबी और क्रेन है।
  • घाट के आसपास बेरिकेडिंग की गई है। ताकि लोग पानी में न उतर सके। रोकने के लिए पुलिस भी तैनात है।
  • प्रत्येक घाट पर गोताखोर पूरे समय मौजूद रहेंगे। लाइफ जैकेट भी रखी गई है।

कोई परेशानी हो तो इन नंबरों पर करें संपर्क

किसी भी प्रकार की परेशानी होने पर लोग नगर निगम के टेलीफोन नंबरों पर संपर्क कर सकते हैं। नगर निगम फतेहगढ़ के कंट्रोल रूम के टेलीफोन नंबर 0755-2542222, 2701401, 2540220 है।

इनकी सख्त मनाही है

  • विसर्जन चल समारोह पर पाबंदी है, लेकिन कुछ जगह पर लोग भीड़ के रूप में विसर्जन के लिए पहुंच रहे हैं।
  • सिर्फ 10 लोग ही मां की प्रतिमा पंडाल से विसर्जन के लिए ले जा सकेंगे।
  • देर रात तक विसर्जन नहीं हो सकेगा। रात 11 से सुबह 6 बजे तक नाइट कर्फ्यू लागू रहेगा।
  • घाटों पर पानी में उतरने की मनाही रहेगी।

कुंड से निकलवाए जेवर

खटलापुरा घाट पर दोपहर 12 बजे विसर्जन के लिए छोटी प्रतिमा लाई गई थी। जिसे कुंड में विसर्जित किया गया। प्रतिमा के साथ ही सोने के जेवर भी कुंड में चले गए। जब भक्तों ने यह बात अधिकारियों ने एक गोताखोर को कुंड में उतारकर जेवर ढूंढवाए। कुछ ही देर में जेवर मिल गए और संबंधितों को दिए गए। इधर, घाटों पर व्यवस्थाओंं का कलेक्टर अविनाश लवानिया और डीआईजी इरशाद वली भी जायजा ले रहे हैं।

खबरें और भी हैं...