• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • From Lighting To A Comfortable Seat; Room And Auditorium On Raga Theme Of Indian Classical Music, Watch Video

भोपाल का नया रवींद्र भवन मन मोह लेगा:लाइटिंग से लेकर आराम दायक सीट; भारतीय शास्त्रीय संगीत की राग थीम पर रूम और ऑडिटोरियम, देखें वीडियो

भोपाल4 महीने पहले

भोपाल में बना नया रवींद्र भवन बनकर तैयार है। उद्घाटन की जोर-शोर से तैयार की जा रही है। इसकी डिजाइन से लेकर लाइट-साउंड और लोगों की सुविधा को देखते हुए आराम दायक सीट लगाई गई हैं। बुधवार को इसका उद्घाटन करेंगे। डेढ़ हजार लोगों की बैठने की क्षमता वाला यह रवींद्र भवन प्रदेश का यह सबसे बड़ा है। इसकी सबसे बड़ी खासियत इसे भारतीय शास्त्रीय संगीत के रागों की धीम पर बनाया गया है। रूम और ऑडिटोरियम के नाम जैसे हंसध्वनि, गौरांजनी, जयजयवंती, मालकौश, कौशिकी, मल्हार, श्रीरंजिनी, कुरंजिका और वागीश्वरी रागों पर रखे गए हैं। इसके साथ ही 250 की क्षमता वाला एक मिनी ऑडिटोरियम भी बनाया गया है। मुख्य ऑडीटोरियम में जाने के लिए 6 प्रवेश द्वार बनाए गए हैं। इसके साथ ही भवन में प्रवेश के लिए आम एंट्री के साथ ही वीआईपी के लिए अलग से प्रवेश द्वार हैं। 59 साल पहले यानी वर्ष 1962 में मप्र में कला को जीवंत करने के लिए रवींद्र भवन को बनाया गया था।

यह तैयार हो गए

  • राग कक्ष क्षमता
  • हंसध्वनि मेन ऑडिटोरियम 1500
  • गौरांजनी मिनी ऑडिटोरियम 212
  • जयजयवंती सभागार (बोर्ड रूम) 80
  • मालकौश मीटिंग हॉल 40
  • कौशिकी बैंक्वेट हॉल 350
  • मल्हार ऑडियो रिकॉर्डिंग स्टूडियो
  • श्रीरंजिनी वीडियो रिकॉर्डिंग स्टूडियो
  • कुरंजिका भोजन कक्ष
  • वागीश्वरी रिहर्सल रूम
  • लाइट का फोकस गलत था
खबरें और भी हैं...