टकराव / सरकार किसानों की अनदेखी कर रही; कांग्रेस ने किसानों से की धोखाधड़ी

कमल पटेल- सचिन यादव कमल पटेल- सचिन यादव
X
कमल पटेल- सचिन यादवकमल पटेल- सचिन यादव

  • किसानों की कर्जमाफी पर कांग्रेस और भाजपा आमने-सामने

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 07:53 AM IST

भोपाल. किसानों की कर्जमाफी पर शनिवार को कांग्रेस सरकार में पूर्व कृषि मंत्री रहे सचिन यादव व कृषि मंत्री कमल पटेल आमने-सामने आ गए। यादव ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मीडिया से चर्चा कर राज्य सरकार पर किसानों की अनदेखी करने का आरोप लगाया। जवाब में पटेल ने कहा कि कांग्रेस ने कभी किसानों के हित में सोचा है जो अब बात कर रही है। 

शिवराज बताएं कि कर्जमाफी योजना को चालू रखेंगे या बंद करेंगे :  सचिन यादव 

सचिन यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान स्पष्ट करें कि हमारी सरकार द्वारा शुरू की गई किसान कर्जमाफी योजना चालू रखेंगे या बंद कर देंगे। किसानों की कर्जमाफी रुक जाने से प्रदेश के किसान डिफॉल्टर हो रहे हैं। हमने 15 महीने में 22 लाख किसानों का पहले चरण में 7000 करोड़ रुपए का कर्जमाफ किया। दूसरे चरण में 6 लाख किसानों का 4500 करोड़ रुपए का कर्जमाफ करने जा रहे थे। कोरोना महामारी के चलते लाॅकडाउन की वजह से किसानों की प्याज, टमाटर की फसल बर्बाद हो गई है। सरकार से किसानों को खराब हुई उद्यानिकी फसलों की राहत राशि दिए जाने का आग्रह किया है। अभी तक किसानों को राहत राशि नहीं मिली है। किसान अपनी फसलों को जानवरों को खिला रहे हैं। प्याज एक रुपए से दो रुपए किलो में बेच रहे हैं, इतने में उनका मंडी तक फसल ले जाने का खर्चा ही नहीं निकल पा रहा है। 

10 दिन में कर्जमाफी का वादा किया था, 15 माह में भी पूरा नहीं कर पाए : कमल पटेल

कमल पटेल ने कहा कि कांग्रेस द्वारा की गई कर्जमाफी किसानों के साथ धोखा था। क्या जो चुनाव में वादा किया गया था उसे पूरा किया। 15 महीने में किसानों का दो लाख तक का कर्जमाफ कर पाए, इसलिए यह सीधे-सीधे किसानों के साथ धोखाधड़ी थी। किसान कर्जमाफी दिखाने के लिए एक-दो भाजपा नेताओं के खाते में पैसा डाल दिया। इनके राज में वेयर हाउस और ट्रांसपोटर का जो गिरोह काम कर रहा था, हम उसकी जांच करवाएंगे। जहां तक बात कर्जमाफी योजना को चालू या बंद करने की है तो उससे ज्यादा फायदा तो हमारी सरकार किसानों को ही दे रही है। राहुल गांधी ने कहा था 10 दिन के भीतर किसानों का 2 लाख कर्जा माफ करेंगे। 15 महीने में भी कर्जमाफी का यह वादा पूरा नहीं कर पाए, इसलिए किसान कांग्रेस पर धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कराएंगे।

ऐसे उलझा था मामला... कांग्रेस सरकार 48 लाख किसानों की कर्जमाफी की समय-सीमा तय नहीं कर पाई

कांग्रेस सरकार 48 लाख किसानों की कर्जमाफी की समय-सीमा तय नहीं कर पाई। प्रथम चरण लंबा चला और एक साल में सिर्फ 20 से 22 लाख किसानों का कर्ज माफ हो पाया। वादे के मुताबिक बकाया 26 लाख किसानों की कर्जमाफी होनी तो थी, लेकिन इसकी कोई समय-सीमा तय नहीं हो पाई। इसके साथ ही उस दौरान प्राकृतिक आपदा के चलते किसानों की खरीफ की फसल खराब हो गई और किसानों को उसकी राहत नहीं मिल पाई, जिससे उनमें नाराजगी पनप गई।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना