धनुष गन मामला:गन कैरिज फैक्टरी के जेडब्ल्यूएम खटुआ हत्याकांड में 3 साल बाद जब्त की हार्ड डिस्क

भोपाल4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
उजड़ी खुशियां- परिवार के साथ खटुआ। - Dainik Bhaskar
उजड़ी खुशियां- परिवार के साथ खटुआ।

गन कैरिज फैक्टरी (जीसीएफ) जबलपुर के जूनियर वर्क्स मैनेजर (जेडब्ल्यूएम) शारदा चरण खटुआ की हत्या के तीन साल बाद भी जबलपुर पुलिस की एसआईटी हत्यारों तक नहीं पहुंच सकी है। चौंकाने वाली बात यह भी है कि एसआईटी ने 7 जनवरी को खटुआ के कंप्यूटर की हार्ड डिस्क जब्त की है।

धनुष आर्टिलरी में चाइना मेड बेयरिंग की सप्लाई मामले में सीबीआई जांच के दायरे में आए खटुआ की पत्नी मौसमी ने बताया कि पुलिस अधिकारी केस वापस लेने का दबाव डाल रहे हैं। उसने सादे कागज पर दस्तखत से मना किया तो नाराज हो गए। मौसमी ने हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में केस सीबीआई के पास भेजने की याचिका लगाई है। हाईकोर्ट में 13 जनवरी को सुनवाई है।

अब एसआईटी के एसआई रविंद्र सिंह हाईकोर्ट से केस वापस लेने का दबाव बना रहे हैं। मौसमी ने हत्या के लिए जीसीएफ के पूर्व जीएम रजनीश जौहरी एवं अन्य को जिम्मेदार ठहराया है। मौसमी का कहना है कि उन्होंने जो नाम बताए, एक को भी पुलिस ने गिरफ्तार नहीं किया। एसआईटी पति की हत्या को सुसाइड साबित करने में जुटी है।

बेयरिंग में गड़बड़ी- धनुष गन मामले में संदेही थे जूनियर वर्क्स मैनेजर खटुआ

धनुष आर्टिलरी गन 155 एमएम में उपयोग होने वाले वायरलेस रोलिंग बेयरिंग का ठेका दिल्ली की सिद्धि सेल्स कंपनी को दिया गया था। कंपनी ने चाइना मेड बेयरिंग में, मेड इन जर्मन की सील लगाकर सप्लाई कर दी थी। 10 जनवरी 2019 को सीबीआई ने खटुआ के घर रेड डाली।

मौसमी के अनुसार सीबीआई ने 17 जनवरी को खटुआ को दिल्ली बुलाया था। उन्होंने 21 जनवरी को दिल्ली जाने की तैयारी की थी। वह सारे कागजात इकट्ठा कर रहे थे, जो यह बता सकें कि सारे निर्णय बोर्ड की मीटिंग में लिए जाते हैं। खटुआ 17 जनवरी को घर से निकले और कृपाल चौक तक गए। इसके बाद गायब हो गए। 5 फरवरी को खटुआ की खून से लथपथ लाश मिली थी।

सभी पहलुओं पर जांच

शारदा चरण खटुआ की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हुई है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी मेडिको लीगल ने मौत का कारण साफ नहीं किया है। एसआईटी सभी पहलुओं पर जांच कर रही है। - सिद्धार्थ बहुगुणा, एसपी, म

खबरें और भी हैं...