पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Here Study Of Ayurveda Along With Maths Science, Computer Also In Sanskrit, 4 Times Waiting For Admission

भोपाल का गार्गी संस्कृत गर्ल्स स्कूल:यहां मैथ्स-साइंस के साथ आयुर्वेद की भी पढ़ाई, कम्प्यूटर भी संस्कृत में, एडमिशन के लिए 4 गुना वेटिंग

भोपाल13 दिन पहलेलेखक: अनूप दुबोलिया
  • कॉपी लिंक
स्मार्ट ब्लैक बोर्ड पर ऑनलाइन क्लास लेती शिक्षिका। - Dainik Bhaskar
स्मार्ट ब्लैक बोर्ड पर ऑनलाइन क्लास लेती शिक्षिका।
  • प्रदेश का एकमात्र संस्कृत गर्ल्स आवासीय स्कूल, जहां कट ऑफ भी 78 फीसदी पर पहुंचा

स्मार्ट ब्लैक बोर्ड, ट्राइपॉड पर लगा एंड्रॉयड मोबाइल फोन इंटरनेट से कनेक्ट, प्रदेश के कई जिलों की गर्ल्स स्टूडेंट्स माइक्रोसॉफ्ट लिंक के जरिए ऑनलाइन क्लास से जुड़ीं। फर्राटेदार संस्कृत बोलती हुई टीचर स्टूडेंट्स को पढ़ा रहीं थीं। यह नजारा किसी बड़े निजी स्कूल के क्लासरूम का नहीं है, बल्कि राजधानी के बरखेड़ी स्थित गार्गी संस्कृत स्कूल का है।

प्रदेश भर में यह संस्कृत का इकलौता गर्ल्स रेसीडेंशियल स्कूल है। यहां 30 सीटों के लिए वेटिंग 120 चल रही है। जनरल कैटेगरी का कट ऑफ 78 फीसदी पर पहुंच गया। संस्कृत बोर्ड से जुड़े महर्षि पतंजलि संस्थान द्वारा यह स्कूल संचालित किया जा रहा है। बिल्डिंग भी देखकर ऐसा नहीं लगता कि यह कोई सरकारी स्कूल है। यहां साइंस लैब भी है। बोर्ड के चेयरमैन भरत बैरागी ने बताया कि यहां छठवीं से 12वीं तक की कक्षाएं संचालित की जा रही हैं। इन सभी कक्षाओं के सिलेबस में संस्कृत के तीन-तीन विषय शामिल किए गए हैं। इसके अलावा सिलेबस में संस्कृत के साथ मैथ्स और साइंस विषय भी हिंदी और अंग्रेजी में पढ़ाए जा रहे हैं। इनमे वैदिक मैथ्स, वास्तु, आयुर्वेद समेत प्राचीन ज्ञान से संबंधित विषय भी शामिल हैं।

उत्साह ऐसा कि ड्रॉप लेकर लिया एडमिशन

स्कूल में छठवीं कक्षा में एंट्रेंस एग्जाम के जरिए एडमिशन होता है। इसके लिए जिला स्तर पर सेंटर बनाए जाते हैं। प्राचार्य रत्ना वाधवानी ने बताया कि बेगमगंज की कनिष्का गुर्जर ने पिछले साल 5वीं पास की थी। एडमिशन के लिए उसने एंट्रेंस दिया, लेकिन सफल नहीं हो सकी। उसने ड्रॉप लेकर तैयारी की, तब कहीं जाकर उसे एडमिशन मिल सका।

भोपाल में कई जगह संस्कृत के स्कूल-कॉलेज

गुफा मंदिर परिसर में भी संस्कृत महाविद्यालय परिसर में संस्कृत स्कूल संचालित किया जा रहा है। शिवाजी नगर स्थित सरोजिनी नायडू गर्ल्स स्कूल में भी संस्कृत की प्रथमा एवं द्वितीया यानी एलकेजी, यूकेजी, अंकुर, उदय कक्षाएं संचालित की जा रही है। बागसेवनिया में संस्कृत संस्थानम है। यह संस्कृत की सेंट्रल यूनिवर्सिटी है।

उत्तर भारत में बालिकाओं के लिए ऐसा स्कूल नहीं

बोर्ड के डायरेक्टर पीआर तिवारी के मुताबिक दक्षिण भारत में बेंगलुरु और केरल में भी ऐसे स्कूल हैं, लेकिन उत्तर भारत में कहीं भी सिर्फ बालिकाओं के लिए संस्कृत आवासीय विद्यालय नहीं है।