• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Holding The Woman's Hand, The Usurer Said Make Us Happy...will Forgive The Loan, 150 Usurers Bound Over

भोपाल में सूदखोरों के खिलाफ तीन FIR:महिला का हाथ पकड़कर सूदखोर बोला-हमें खुश कर दो...कर्ज माफ कर देंगे, 150 सूदखोरों को किया बाउंड ओवर

भोपालएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भोपाल के पिपलानी इलाके में 25 नवंबर को आटो पार्टस व्यापारी संजीव जोशी के परिवार के पांच सदस्यों के खुदकुशी के बाद भी सूदखोरों का दुस्साहस कम नहीं हो रहा है। इनका दुस्साहस इतना बढ़ गया कि अब कर्ज के बदले महिलाओं की इज्जत तक मांग रहे हैं। ऐसा ही मामला क्राइम ब्रांच थाना में सामने आया है। जहां, सूदखोर महिलाओं से कर्ज के बदले उन्हें शारीरिक संबंध बनाने के लिए मजबूर कर रहा था। महिला ने बताया कि सूदखोर ने हाथ पकड़कर बोला-हमें खुश कर दो...कर्ज मांफ कर देंगे। इधर, स्टेशन बजरिया पुलिस ने जीआरपी थाने में पदस्थ हेडकांस्टेबल के खिलाफ सूदखोरी का मामला दर्ज किया है। डीसीपी सांई कृष्णा थोटा ने बताया कि 150 सूदखोरों को बाउंड ओवर किया गया है। बता दें 25 नवंबर 2021 को पिपलानी इलाके में सूदखोरों से परेशान होकर आटो पार्टस व्यापारी संजीव जोशी के परिवार के पांचों सदस्यों ने जहर खा लिया था। इनमें सभी की मौत हो गई थी। इसके बाद सीएम शिवराज सिंह चौहान ने सूदखोरों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का निर्देश दिया था। सूदखोर सभी पीड़ितों से बैंक चेक रख लेते हैं। जानकारी के मुताबिक, पिपलानी थाना इलाके में रहने वाली चार महिलाओं ने थाने में शिकायती आवेदन दिया था। महिलाओं ने बताया कि कोरोना काल में आर्थिक परेशानियों के कारण सुभाष नगर निवासी रमेश चंदवानी से 20-20 हजार रुपए कर्ज लिया। महिलाओं ने बताया कि 10% ब्याज पर कर्ज लिया था। धीरे-धीरे ब्याज समेत कर्ज भी चुका दिया, लेकिन रमेश कर्ज बकाया बताता रहा। हालही में वह एक महिला के घर पहुंचा। उसने महिला का बुरी नियति से हाथ पकड़कर बोला-हमें खुश कर दो, कर्ज माफ कर देंगे। महिला ने विरोध किया तो आरोपी धमकाने लगा। इस पर चारों महिलाएं क्राइम ब्रांच थाना पहुंची। पुलिस ने जांच के बाद आरोपी रमेश चंदवानी के खिलाफ मामला दर्ज किया।

30 हजार रुपए के 66 हजार रुपए दिए, फिर भी धमकी
वहीं, क्राइम ब्रांच के दूसरे मामले में बिट्‌टल मार्केट में रहने वाले व्यापारी मदनपाल ने 30 हजार रुपए का प्रमोद सिंह नाम के सूदखोर से कर्ज लिया था। मदनपाल का कहना है कि 6 माह तक 6 हजार रुपए हर माह प्रमोद को पैसा दिया। इसके बाद भी वह ब्याज मांगता रहा। बाद में 30 हजार रुपए और दिए। फिर भी आरोपी ने उनके बैंक चेक को कोर्ट में लगा दिया। वह आए रोज धमकी देता था। इससे तंग आकर उन्होंने क्राइम ब्रांच से शिकायत दर्ज कराई।

रेलवे कर्मचारी से जीआरपी का कांस्टेबल ने जाल में फंसाया
इधर, स्टेशन बजरिया पुलिस ने हेड कांस्टेबल समेत पांच सूदखोरों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। पुलिस के मुताबिक, द्वारिका नगर बजरिया में रहने वाले योगेन्द्र मौर्य पिता स्व ओम प्रकाश मौर्य रेलवे में क्लर्क हैं। वह बीना में पदस्थ हैं। पिता की जगह उन्हें अनुकंपा नियुक्ति मिली है। उन्होंने पुलिस को बताया कि COVID महामारी के दौरान जीआरपी थाना में पदस्थ कांस्टेबल केदार शिवहरे से 1 लाख 25 हजार रुपए का कर्ज लिया था। 18 हजार 750 रुपए 9 माह तक उन्हें कर्ज चुकाया। दो माह से पैसा नहीं दे पाया। इस पर शिवहरे झूठे केस में फंसाने की धमकी दे रहा है। इसके अलावा उन्होंने सूदखोर राजा कुचबंदिया से 90 हजार रुपए लिए जिसे 18 महीने तक 9 हजार रुपए दिए। कल्लू कुचबंदिया से डेढ़ लाख रुपए लिए जिसका 40 हजार रुपए वापस किया। इसके अलावा कमल शर्मा उर्फ गुड्डू शर्मा से 22 हजार रुपए लिए थे जिन्हें 3 हजार रुपए दिए। वहीं, विक्रम कुशवाहा से 40 हजार रुपए लिए। यह सभी पांचों सूदखोर उन्हें परेशान कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं...