MP में मंकी पॉक्स का अलर्ट:11 देशों में फैला; भोपाल-इंदौर में मॉनिटरिंग शुरू, जानिए लक्षण और इलाज का A टू Z...

भोपाल3 महीने पहलेलेखक: विजय सिंह बघेल

दुनिया के 11 देशों में मंकी पॉक्स के मरीज मिलने के बाद अब केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मध्यप्रदेश में भी विशेष सावधानी बरतने के निर्देश दिए हैं। कोरोना के बाद तेजी से इस बीमारी के फैलने की आशंका को देखते हुए विदेश से आने वाले यात्रियों की निगरानी तेज की गई है। इंदौर, भोपाल सहित प्रदेश के एयरपोर्ट्स पर मॉनिटरिंग शुरू की गई है।

लंदन स्कूल ऑफ हाइजीन एंड ट्रॉपिकल मेडिसिन के प्रोफेसर जिमी व्हिटवर्थ ने न्यूज एजेंसी रॉयटर्स से बातचीत में कहा- कोरोना महामारी के कारण बहुत समय तक इंटरनेशनल ट्रैवलिंग बंद थी। अब एकदम से पाबंदियां हटने के बाद लोगों का अफ्रीकी देशों में आना-जाना हो रहा है। शायद इसलिए मंकी पॉक्स के मामले सामने आ रहे हैं। चेचक से मिलते-जुलते लक्षणों वाली इस बीमारी के बारे में इन्फॉर्मेशन एक्सपर्ट्स सीएमएचओ भोपाल डॉ. प्रभाकर तिवारी से जानिए…

सबसे पहले कहां मिला मंकी पॉक्स
पहली बार साल 1958 में यह वायरल इन्फेक्शन बंदर में पाया गया था। इंसानों में पहली बार यह बीमारी 1970 में पाई गई थी। 2017 में नाइजीरिया में मंकी पॉक्स का सबसे बड़ा आउटब्रेक हुआ था, जिसके 75% मरीज पुरुष थे। यह एक वायरल इन्फेक्शन है, जो यह ज्यादातर मध्य और पश्चिम अफ्रीकी देशों में पाया जाता है।

इस पोल में हिस्सा लेकर आप अपनी राय दे सकते हैं...

संदिग्ध मरीजों के सैंपल की जांच कहां होगी
नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी पुणे में संदिग्ध मरीजों के सैंपल जांच के लिए भेजे जाएंगे।

इंसानों में फैलने वाली संक्रामक बीमारी है मंकी पॉक्स
मरीज के घाव से निकलकर यह वायरस आंख, नाक और मुंह के जरिए शरीर में प्रवेश करता है। इसके अलावा बंदर, चूहे, गिलहरी जैसे जानवरों के काटने से या उनके खून और बॉडी फ्लुइड्स को छूने से भी मंकी पॉक्स फैल सकता है। एक्सपर्ट्स के मुताबिक, ठीक से मांस पका कर न खाने या संक्रमित जानवर का मांस खाने से भी आप इस बीमारी की चपेट में आ सकते हैं।

हाल ही में पहला केस कहां
ब्रिटेन में इसका पहला मरीज 7 मई को मिला था। फिलहाल यहां मरीजों की कुल संख्या 9 है। वहीं, स्पेन में 7 और पुर्तगाल में 5 मरीजों की पुष्टि हुई है। अमेरिका, इटली, स्वीडन, फ्रांस, जर्मनी और ऑस्ट्रेलिया में मंकी पॉक्स के 1-1 मामले सामने आए हैं। साथ ही कनाडा में 13 संदिग्ध मरीजों की जांच की जा रही है। बेल्जियम में शुक्रवार को 2 मामलों की पुष्टि हुई है।

समलैंगिकों पर पड़ रहा भारी
यूके हेल्थ सिक्योरिटी एजेंसी (UKHSA) का कहना है कि ब्रिटेन में अब तक मिले मंकी पॉक्स के ज्यादातर मामलों में मरीज वे पुरुष हैं, जो खुद को 'गे' या बायसेक्शुअल आइडेंटिफाई करते हैं। अभी तक मंकी पॉक्स को यौन संक्रामक बीमारी नहीं माना गया है, लेकिन ऐसा हो सकता है कि समलैंगिकों में यह सेक्शुअल कॉन्टैक्ट से फैल रही हो। यह देखते हुए एजेंसी ने समलैंगिक पुरुषों को आगाह भी किया है।

मंकी पॉक्स के लक्षण
मंकी पॉक्स के लक्षण संक्रमण के 5वें दिन से 21वें दिन तक आ सकते हैं। शुरुआती लक्षण फ्लू जैसे होते हैं। इनमें बुखार, सिर दर्द, मांसपेशियों में दर्द, कमर दर्द, कंपकंपी छूटना, थकान और सूजी हुई लिम्फ नोड्स शामिल हैं। इसके बाद चेहरे पर दाने उभरने लगते हैं, जो शरीर के दूसरे हिस्सों में भी फैल जाते हैं। संक्रमण के दौरान यह दाने कई बदलावों से गुजरते हैं। आखिर में चेचक की तरह ही पपड़ी बनकर गिर जाते हैं।