• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • If The Oxygen Level Is 93% And There Is No Fever, Then Stay At Home, Consult Sugar hearts; Caregiver Required

होम आइसोलेट पेशेंट के लिए जरूरी खबर:ऑक्सीजन लेवल 93% और फीवर नहीं है तो ही घर में रहें, शुगर-हार्ट पेशेंट कंसल्ट करें; जानिए- पूरी एडवाइजरी

मध्यप्रदेश6 महीने पहले

यदि आप कोरोना पेशेंट हैं और होम आइसोलेट हैं, तो यह खबर आपके लिए है। ऑक्सीजन लेवल (सेचुरेशन) 93% है और फीवर या सांस लेने में तकलीफ नहीं है, तो ही घर में यानी होम आइसोलेशन में रह सकते हैं। ब्लड प्रेशर, शुगर, हार्ट, लीवर, लंग्स, किडनी जैसी गंभीर बीमारियों वाले पेशेंट डॉक्टर से कंसल्ट करने के बाद ही होम आइसोलेशन में रहे, वरना तुरंत हॉस्पिटल में भर्ती हो जाएं। होम आइसोलेशन में हैं पल्स ऑक्सीमीटर और थर्मामीटर जरूर रखें, ताकि रुटीन चेकअप करते रहें।

मध्यप्रदेश में कोरोना की तीसरी लहर आ गई है। रोजाना 3 हजार से ज्यादा नए केस मिल रहे हैं। इनमें 95% से ज्यादा संक्रमित ऐसे हैं, जिन्हें हॉस्पिटल में भर्ती करने की नौबत नहीं है। यानी वे होम आइसोलेशन में हैं। ऐसे संक्रमितों के लिए हेल्थ डिपॉर्टमेंट ने एडवाइजरी जारी की है।

ऐसे समझें, गंभीर या सामान्य लक्षण को

  • किसी संक्रमित में सर्दी-जुकाम, फीवर, जकड़न जैसे लक्षण नहीं हैँ। सामान्य रूम में ऑक्सीजन लेवल 93% है, तो समझें कि उसे सामान्य लक्षण हैं।
  • जिसे सांस लेने में तकलीफ है या फीवर आ रहा है। ऑक्सीजन लेवल भी सामान्य से कम है, तो गंभीर संक्रमित की कैटेगिरी में रहेगा।
ं

कौन से मरीज होम आइसोलेट रह सकते हैं

  • एक्सपर्ट डॉक्टर कोरोना संक्रमित की जांच कर होम आइसोलेशन की सलाह दें।
  • घर में संक्रमित और उनके पैरेंट्स के क्वारेंटाइन की सुविधा हो। पर्याप्त हवा के लिए खिड़कियां खुली रहे।
  • होम आइसोलेशन के दौरान देखभाल करने वाला हो। जिसके पास इलाज करने वाले डॉक्टर, कोविड एंड कंट्रोल सेंटर के मोबाइल/टेलिफोन नंबर हो।
  • होम आइसोलेशन के दौरान न तो खुद बाहर जा सकेंगे और न ही बाहरी व्यक्ति घर में आएगा।
  • ट्रिपल लेयर मास्क का उपयोग करेंगे।
  • भोजन डॉक्टर की सलाह पर ही लें।
  • सैनिटाइजर का उपयोग करते रहेंगे। खांसते-छींकते समय मुंह पर रूमाल या कपड़ा रखें।
  • बचा खाने-पीने का सामान या फल-सब्जी के छिलके को सुरक्षित तरीके से निपटारा जरूरी रहेगा।

ये दवाई ले सकते हैं

होम आइसोलेशन में रहने वाले डॉक्टर की सलाह पर दवाई लें। वहीं, हेल्थ डिपॉर्टमेंट ने जो गाइडलाइन जारी की है, उसमें पैरासिटामॉल टैबलेट भी फीवर कम करने के लिए बताई गई है। वयस्क संक्रमित पैरासिटामॉल 650 मिली ग्राम टैबलेट दिन में 4 बार लें। इसके बाद भी फीवर न उतरे तो डॉक्टर से संपर्क करें। डिस्ट्रिक कोविड कमांड कंट्रोल सेंटर्स टेली-कंसल्टेशन का उपयोग मरीज करें।

होम आइसोलेट पेशेंट ये उपकरण रखें

  • डिजिटल थर्मामीटर
  • पल्स ऑक्सीमीटर
  • सर्जिकल मास्क 20 नग
  • ग्लब्स 20 नग

इन्हें डॉक्टर से सलाह लेनी होगी

60 वर्ष से अधिक उम्र के संक्रमित या को-मॉर्बिड स्थिति जैसे अधिक ब्लड प्रेशर, ब्लड शुगर, हार्ट, लीवर, लंग्स, किडनी की बीमारी से पीड़ित हैं, वे डॉक्टर से सलाह लेंगे।

इन्हें हॉस्पिटल में भर्ती करना जरूरी

कम इम्युनिटी वाले मरीज, एचआईवी, ट्रांसप्लांट, रेसिपीएंट, कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों से पीड़ितों को होम आइसोलेशन में रहने की परमिशन नहीं मिलेगी। इन्हें हॉस्पिटल में ही भर्ती होना पड़ेगा।

संक्रमित की देखभाल करने वाले के लिए ये जरूरी

  • ट्रिपल लेयर मेडिकल मास्क हमेशा पहनकर रखें। यदि संक्रमित के कक्ष में ही रहता है तो N95 मास्क का उपयोग करें।
  • मास्क को छुएं नहीं।
  • यदि मास्क गंदा हो जाए तो तुरंत बदल लें।
  • मास्क के डिस्पोजल के बाद हाथों की सफाई करें।
  • हाथों को सैनिटाइज करते रहे।
खबरें और भी हैं...