• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • In Bhopal, 500 Pandals Will Have Garba, But Sports, Entertainment And Cultural Events Will Not Be Held; Ban On Moving Ceremony

भोपाल में 500 पंडालों में विराजी मां दुर्गा:कई पंडाल में गरबा हुआ, लेकिन खेल, मनोरंजन और सांस्कृतिक इवेंट की पाबंदी; धारा 144 लागू

भोपाल17 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
राजधानी में गुरुवार रात तक घटस्थापना का दौर जारी है। जेपी कैम्पस में दुर्गा उत्सव समिति ने मां की प्रतिमा विराजित की है। घटस्थापना के बाद रात 9 बजे आरती की गई। - Dainik Bhaskar
राजधानी में गुरुवार रात तक घटस्थापना का दौर जारी है। जेपी कैम्पस में दुर्गा उत्सव समिति ने मां की प्रतिमा विराजित की है। घटस्थापना के बाद रात 9 बजे आरती की गई।
  • कलेक्टर ने प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किए

राजधानी भोपाल में करीब 500 पंडालों में मां दुर्गा की प्रतिमाएं विराजित की गई हैं। रात तक घटस्थापना का दौर चलता रहा। कई पंडालों में तो गरबे का आयोजन भी हुआ, लेकिन खेल, मनोरंजन और सांस्कृतिक इवेंट की मनाही रही। पुलिस और प्रशासनिक अफसर पंडालों पर नजर रखे रहे। इधर, नवरात्रि और दशहरे की गृह विभाग द्वारा गाइडलाइन जारी करने के बाद गुरुवार को कलेक्टर अविनाश लवानिया ने भोपाल में धारा 144 के तहत प्रतिबंधात्मक आदेश जारी कर दिए। इसमें रात 10 बजे तक डीजे, बैंड या ढोल बजाने, चल समारोह पर प्रतिबंध होने, सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क अनिवार्य रूप से पहनने आदि शामिल हैं।

कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट लवानिया ने भोपाल जिले की राजस्व सीमाओं में आगामी आदेश तक नए प्रतिबंधात्मक आदेश लागू किए हैं। आदेश के अनुसार सभी सामाजिक, राजनीतिक, खेल, मनोरंजन, सांस्कृतिक और धार्मिक आयोजन, मेले, धार्मिक चल समारोह आदि जिनमें जनसमूह एकत्र होता है प्रतिबंधित रहेंगे। जिले के सभी नगरीय निकायों ने रात 11 से सुबह 6 बजे तक नाइट कर्फ्यू भी लागू किया है। गाइडलाइन का उल्लंघन करने पर धारा 188 के तहत कार्रवाई की जाएगी।

पंडाल में अस्थायी कनेक्शन लेना जरूरी

पंडाल में अस्थायी बिजली कनेक्शन लेना जरूरी है। बिजली कंपनी की विजलेंस टीमें निरीक्षण करेंगी। यदि सीधे तार डालकर बिजली चलते मिली तो आयोजक पर बिजली चोरी का केस बनेगा।

गणेशोत्सव में ये थी गाइडलाइन

नवरात्रि को लेकर गाइडलाइन ऐन वक्त पर जारी हुई। इस कारण दुर्गा उत्सव समितियां पशोपेश में रही। कई समितियों ने गाइडलाइन आने से पहले ही पंडाल सजा लिए। कुछ पंडाल को भीड़ वाले इलाके या सड़कों पर ही बना दिए गए हैं, जबकि गणेशोत्सव के दौरान जारी हुई गाइडलाइन में पंडाल निर्धारित लंबाई-चौड़ाई में ही बनाने के आदेश थे। वहीं, सड़क या भीड़भाड़ वाले स्थानों पर पंडाल बनाने पर मनाही थी।

ये छूट रहेगी

  • कॉलोनी, मोहल्ला और सोसायटियों में दुर्गा पंडालों में गरबा हो सकेगा। SDM को सूचना देना जरूरी रहेगा।
  • पंडाल में डीजे, बैंड या ढोल बजाने की छूट है, लेकिन रात 10 बजे तक ही।

इनकी मनाही

  • POP (प्लास्टर ऑफ पेरिस) की प्रतिमाएं प्रतिबंधित हैं। मिट्‌टी की प्रतिमाएं ही विराजित की जा सकेंगी।
  • पंडाल में किसी भी प्रकार के सामाजिक, धार्मिक, राजनीतिक, खेल, मनोरंजन, सांस्कृतिक कार्यक्रम नहीं होंगे।
  • चल समारोह प्रतिबंधित रहेंगे।
  • कमर्शियल गरबा नहीं होगा। हर साल शहर में 20 से ज्यादा बड़े स्थानों पर कमर्शियल गरबा होता है, जहां लाखों लोग शामिल होते हैं।

सुरक्षा और सफाई के लिए कर्मचारी तैनात
पंडाल और दुर्गा मंदिरों के आसपास सुरक्षा और सफाई के लिए पुलिस-निगमकर्मी तैनात रहेंगे। डीआईजी इरशाद वली ने प्रत्येक पंडाल में ड्यूटी लगाई है। वहीं, निगम कमिश्नर केवीएस चौधरी कोलसानी ने सफाई व्यवस्था बनाए रखने के लिए टीमें तैनात की है। कलेक्टर लवानिया ने गाइडलाइन के उल्लंघन की स्थिति में कार्रवाई करने को SDM और तहसीलदारों को निर्देश दिए हैं।

आदेश में यह भी

बुधवार को गृह विभाग ने नवरात्रि और दशहरे को लेकर गाइडलाइन जारी की थी। इसके बाद कलेक्टर ने भी आदेश जारी किए हैं। कोचिंग क्लासेस 15 अक्टूबर से 100% क्षमता से खोलने, सभी धार्मिक, पूजा स्थल की क्षमता से 50% की सीमा तक श्रद्धालु और अनुयायी उपस्थित रह सकेंगे।

  • समस्त प्रकार की दुकानें, व्यवसायिक प्रतिष्ठान, निजी कार्यालय, शॉपिंग मॉल, जिम अपने नियत समय तक खुल सकेंगे।
  • सिनेमा घर एवं थियेटर कुल क्षमता के 50% की सीमा तक संचालित किए जा सकेंगे।
  • जिम, फिटनेस सेंटर और योगा केंद्र 100% क्षमता से खुल सकेंगे।
  • सभी खेलकूद के स्टेडियम एवं स्वीमिंग पूल खुल सकेंगे। खेल आयोजनों में स्टेडियम की दर्शक दीर्घा में क्षमता के 100% तक दर्शक शामिल हो सकेंगे।
  • शादी में 300 और अंतिम संस्कार में 200 लोगों के शामिल होने की छूट रहेगी।
  • दशहरे पर श्रीराम चल समारोह प्रतीकात्मक रूप से निकलेगा।
  • रामलीला और रावण दहन के कार्यक्रम खुले मैदान में फेस मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग रखने की शर्त पर आयोजन समिति कर सकेगी। इससे पहले SDM से परमिशन लेना जरूरी होगा।
  • रावण दहन के वृहद आयोजन जिनका स्वरूप मेले समान होता है, की अनुमति नहीं होगी।
  • गरबा का आयोजन सोसायटियों, कॉलोनियों ,मोहल्लों में मोहल्लावासियों और कॉलोनीवासियों की आयोजन समिति द्वारा आयोजन स्थल की क्षमता के 50% की क्षमता तक की उपस्थिति में SDM को सूचित कर आयोजित किया जा सकेगा।
  • कमर्शियल गरबा नहीं होगा।
खबरें और भी हैं...