पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • In Private Colleges, A Selection System Will Be Put In Place To Keep Faculty, Changing The Institute Has An Effect

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई व्यवस्था:प्राइवेट कॉलेजों में फैकल्टी को रखने सिलेक्शन सिस्टम बनेगा, संस्थान बदलने से पड़ता है असर

भोपाल5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • स्टूडेंट्स की परेशानियों को देखते हुए उच्च शिक्षा विभाग ने लिया फैसला

प्रदेश के उच्च शिक्षा से जुड़े प्राइवेट काॅलेजों में फैकल्टी रखने के लिए केंद्रीयकृत चयन प्रणाली बनेगी । प्राइवेट काॅलेजों में पदस्थ शिक्षकों के बार-बार संस्थान बदलने की वजह से शिक्षा की गुणवत्ता प्रभावित होती है। इसी के साथ कई बार काॅलेज भी उनके यहां पदस्थ फैकल्टी के संबंध में सही जानकारी नहीं देते। प्राइवेट कालेजों में हर साल छात्रों के दाखिला लेने के दौरान कई बार फैकल्टी बीच में ही संस्थान बदल बदल लेती है। ऐसी स्थिति में छात्रों को भी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

स्थायी समिति की बैठक में भी उठ चुका है मुद्दा : हाल में स्थायी समिति की बैठक में भी यह मुद्दा उठा था। इसके बाद उच्च शिक्षा विभाग ने इस दिशा में तैयारी शुरू कर दी है। अधिकारियों के मुताबिक ऐसे ममले भी सामने आए हैं जब शिक्षकों का स्थायी रूप से चयन और नियमित रूप से काम करने की स्थिति नहीं मिलती है। इस वजह से बड़ी संख्या में शिक्षक नौकरी छोड़ देते हैं या दो-तीन साल में कार्यस्थल बदल लेतेे हैं। राज्य स्तरीय पैनल बनेगा : निजी काॅलेजों में फैकल्टी को रखने के लिए पूर्णकालिक, अंशकालिक, किसी एक विषय को पढ़ाने की तय समय अवधिक के लिए योग्य शिक्षकों का राज्य स्तरीय पैनल तैयार होगा। इस पैनल में यूजीसी के तय मापदंड के मुताबिक योग्यता रखने वाले शिक्षकों को सूचीबद्ध किया जाएगा।

तीन कैटेगरी : फैकल्टी के काम का ऐसे हुआ बंटवारा

1- पीएचडी : शिक्षण, अनुसंधान निदेशक व मूल्यांकन आदि का काम कर सकते हैं।

2- केवल नेट/सेट : शिक्षण व मूल्यांकन का काम कर सकते हैं।

3- पीजी 55 प्रतिशत अंक के साथ : केवल शिक्षण कार्य करेंगे।

यूजीसी में हर साल होगा पंजीयन, अपडेट भी कराना होगा
इसके तहत पहली और दूसरी श्रेणी के शिक्षकों की अनुपलब्धता होने पर ही तीसरी श्रेणी के शिक्षकों से शिक्षण कार्य करवाया जाएगा। इसके लिए शिक्षकों का रजिस्ट्रेशन किया जाएगा। इसमें यूजीसी द्वारा निर्धारित याेग्यता प्राप्त अभ्यर्थी अपना पंजीयन करवा सकेंगे। यह पंजीयन हर साल अपडेट किया जाएगा। जो अभ्यर्थी एक बार इसमें पंजीयन करवाएगा उसे यूनिक आईडी मिलेगा। इस यूनिक आईडी से पंजीकृत सिस्टम से कालेज भी इन्हें रख सकते हैं। यह लगातार अपडेट होती रहेगी। गौरतलब है कि शिक्षकों के संबंध में कोड 28 का कई काॅलेज पालन नहीं करते हैं। नए सिस्टम इसे इनकी मॉनीटरिंग हो सकेगी। इस सिस्टम में निर्धारित वेतनमान शिक्षकों को देना होगा।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थिति पूर्णतः अनुकूल है। बातचीत के माध्यम से आप अपने काम निकलवाने में सक्षम रहेंगे। अपनी किसी कमजोरी पर भी उसे हासिल करने में सक्षम रहेंगे। मित्रों का साथ और सहयोग आपकी हिम्मत और...

    और पढ़ें