पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • In The City, 50 Children Died Of Malnutrition In 5 Years, 49 Of Them In AIIMS, In The Data More Than 31 Thousand Children Were Malnourished In MP In 8 Months.

कोरोना के खतरे के बीच कुपोषण की मार:शहर में 5 साल में कुपोषण से 50 बच्चों की मौत, इनमें 49 एम्स में, डाटा में 8 महीने में मप्र में 31 हजार से ज्यादा बच्चे कुपोषित

भोपाल11 दिन पहलेलेखक: रोहित श्रीवास्तव
  • कॉपी लिंक

बीते 8 महीने में प्रदेश में 31 हजार 20 बच्चे कुपोषित मिले हैं और इनमें से 21 बच्चों की इलाज के दौरान मौत हो चुकी है। इनमें सबसे ज्यादा 7 मौतें सागर में हुईं। इंदौर और भोपाल जैसे महानगरों में भी कुपोषण व्याप्त है और यहां क्रमश: 3 और 2 बच्चों की मौत इसी दौरान हुई है। इन बच्चों का इलाज पोषण पुनर्वास केंद्र में चल रहा था।

यह खुलासा नेशनल रिहेब्लिटेशन सेंटर (एनआरसी) की रिपोर्ट में हुआ है। प्रदेश में संचालित 319 एनआरसी का डाटा देखें तो बीते पांच साल में भोपाल में कुपोषण से 50 बच्चों की मौत हुई। इनमें भी 49 ऐसे हैं, जिनका इलाज अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में चल रहा था। शहर की बाकी पांच एनआरसी में इस दौरान 4480 कुपोषित बच्चे भर्ती हुए और इनमें ज्यादातर स्वस्थ हो गए।

पिछले साल शहर के छह एनआरसी में भर्ती 33 कुपोषित बच्चों को उनके माता-पिता डॉक्टर को सूचना दिए बिना ही घर ले गए थे। नेशनल हेल्थ मिशन मप्र के शिशु स्वास्थ्य पोषण में डिप्टी डायरेक्टर डॉ. राजीव श्रीवास्तव के मुताबिक एम्स में ज्यादा मौतें होने के पीछे बड़ी है उसका रेफरल एनआरसी होना। यहां दूसरे जिलों के गंभीर कुपोषित बच्चे भर्ती होते हैं। इन्हें कुपोषण के साथ अन्य बीमारियां भी होती हैं।

पिछले साल मप्र में 41398 कुपोषित मिले थे, 46 मौतें, इनमें भी 45 सिर्फ 15 जिलों में

1 प्रदेश के विभिन्न जिलों में संचालित 319 न्यूट्रीशन रिहेब्लिटेशन सेंटर्स में बीते पांच साल में 2 लाख 90 हजार 882 कुपोषित बच्चे भर्ती हुए हैं। इनमें से 39 जिलों की एनआरसी में इस दौरान 199 बच्चों की मौत हुई है।

2 महिला एवं बाल विकास विभाग के अफसरों की मानें तो हालांकि कुपोषित बच्चों की मौत का आंकड़ा पिछले साल की तुलना में कम है। 2020 में 41 हजार 398 बच्चे कुपोषित मिले थे, जबकि 46 ने दम तोड़ा था। इनमें भी 45 सिर्फ 15 जिलों के थे।

किस साल-कितने कुपोषित

साल भर्ती बच्चे मौत
2017 74523 27
2018 62288 44
2019 81423 61
2020 41398 46
2021 31249 21

एक कुपोषित की मौत...गुना, धार, आलीराजपुर, बालाघाट, छतरपुर, छिंदवाड़ा, जबलपुर, मंडला, मुरैना, रायसेन, राजगढ़, सिवनी, सिंगरौली। यहां दो-दो...अनूपपुर, अशोकनगर, दमोह, देवास, हरदा, होशंगाबाद, सीहोर, विदिशा, रतलाम, सतना, खंडवा।

हालात सुधर रहे...

पिछले साल रोज 113 नए कुपोषित मिले थे, अब 87

2020 में रोज औसतन 113 नए कुपोषित बच्चे मिले थे, जो अब 87 हो गया है। भोपाल में इस साल 462 बच्चे छह पोषण पुनर्वास केंद्रों में इलाज के लिए भर्ती हुए। इनमें से 81 को इलाज के लिए हायर सेंटर रेफर किया गया। एम्स में खुले पोषण पुनर्वास केंद्र में 2 बच्चों की मौत हुई, बीते साल यह आंकड़ा 9 था।