MP सबसे साफ स्टेट, इंदौर ने लगाया सिक्सर:भोपाल सातवें से छठवें स्थान पर आया, स्वच्छ सर्वेक्षण 2022 के नतीजे जारी

भोपाल2 महीने पहले

स्वच्छता सर्वेक्षण-2022 के नतीजों में एक बार फिर मध्यप्रदेश का डंका बजा है। राजस्थान-महाराष्ट्र को पछाड़ कर मध्यप्रदेश देश का सबसे स्वच्छ राज्य बन गया है। 100 से अधिक शहरों वाले राज्य में मध्यप्रदेश नंबर-1 पर आया। वहीं, इंदौर ने सफाई का सिक्सर लगाया। भोपाल की रैंक भी पिछली बार के मुकाबले सुधरी है। इस बार भोपाल को छठवां स्थान मिला है। पिछली बार यह सातवें स्थान पर था। इंदौर को गार्बेज फ्री सिटी में 7 स्टार रेटिंग मिली है, वहीं, भोपाल को 5 स्टार मिला है।

पिछले सर्वेक्षण में मध्यप्रदेश की रैंकिंग तीन थी। इसका कारण पिछले साल 2021 में सिटीजन फीडबैक यानी जनता की सक्रिय भागीदारी में मध्यप्रदेश का पिछड़ना था। इस कैटेगरी में देश के सबसे स्वच्छ शहर इंदौर को भी 6 हजार अंक नहीं मिले थे। उज्जैन, भोपाल, ग्वालियर जैसे शहर तो 5 हजार अंक भी नहीं ला पाए थे। इस बार सिटीजन फीडबैक में प्रदेश ने सबसे बेहतर काम किया, जिससे मप्र नंबर-1 बन सका।

मध्यप्रदेश का इंदौर 10 लाख की आबादी वाले शहरों में सबसे स्वच्छ रहा। राष्ट्रपति के हाथों अवॉर्ड लेते इंदौर के सांसद शंकर लालवानी, महापौर पुष्यमित्र भार्गव और इंदौर निगम कमिश्नर प्रतिभा पाल।
मध्यप्रदेश का इंदौर 10 लाख की आबादी वाले शहरों में सबसे स्वच्छ रहा। राष्ट्रपति के हाथों अवॉर्ड लेते इंदौर के सांसद शंकर लालवानी, महापौर पुष्यमित्र भार्गव और इंदौर निगम कमिश्नर प्रतिभा पाल।

दिल्ली में हुई सेरेमनी में राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू के हाथों इंदौर के सांसद शंकर लालवानी, महापौर पुष्यमित्र भार्गव और निगम कमिश्नर प्रतिभा पाल ने सफाई का अवॉर्ड हासिल किया। इस मौके पर केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी और कौशल किशोर भी मौजूद थे।

निगम कर्मचारियों और रहवासियों ने मिठाई खिलाकर खुशी जाहिर की।
निगम कर्मचारियों और रहवासियों ने मिठाई खिलाकर खुशी जाहिर की।
100 शहरों वाले राज्यों में मध्यप्रदेश नंबर वन पर रहा।
100 शहरों वाले राज्यों में मध्यप्रदेश नंबर वन पर रहा।

4355 शहरों ने हिस्सा लिया, इंदौर अव्वल
वर्ष 2016 में सिर्फ 73 शहर थे। तब भी इंदौर नंबर-1 पर रहा था। अब 4355 शहर इस दौड़ में शामिल थे। फिर भी इंदौर ने नंबर-1 का तमगा हासिल किया।

नंबर-1 की घोषणा ही नगर निगम परिसर में जमकर जश्न मना। लोगों ने आतिशबाजी कर डांस किया।
नंबर-1 की घोषणा ही नगर निगम परिसर में जमकर जश्न मना। लोगों ने आतिशबाजी कर डांस किया।
स्वच्छता के टॉप-6 शहरों में मध्यप्रदेश का इंदौर का नंबर 1 और भोपाल का नंबर 6 पर रहा।
स्वच्छता के टॉप-6 शहरों में मध्यप्रदेश का इंदौर का नंबर 1 और भोपाल का नंबर 6 पर रहा।

सफाई मित्र सुरक्षा एवं स्वच्छता सर्वेक्षण-2022 के पुरस्कार

  • सफाई मित्र सुरक्षा 2022 में सर्वश्रेष्ठ शहर- तिरुपति
  • साफ घाट सर्वश्रेष्ठ शहर- हरिद्वार
  • सबसे स्वच्छ कंटोनमेंट- देवलाली
  • फास्टेज मूवर्स सिटी- शिमोगा
देशभर में नंबर-1 स्टेट मध्यप्रदेश को कुल 4470 अंक मिले हैं। जो दूसरे नंबर पर रहे छत्तीसगढ़ से 580 अंक ज्यादा हैं।
देशभर में नंबर-1 स्टेट मध्यप्रदेश को कुल 4470 अंक मिले हैं। जो दूसरे नंबर पर रहे छत्तीसगढ़ से 580 अंक ज्यादा हैं।

सबसे स्वच्छ शहर
एक लाख से कम आबादी वाले शहरों में ये टॉप-3 शहर

1-पंचगनी (महाराष्ट्र)
2- पाटन (छत्तीसगढ़)
3- कराड (महाराष्ट्र)

एक लाख से अधिक आबादी वाले शहर
1- इंदौर (मध्यप्रदेश)
2- सूरत (गुजरात)
3- नवी मुंबई (महाराष्ट्र)

दिल्ली में हुए कार्यक्रम में उपस्थित राष्ट्रपति द्रोपती मुर्मू, केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी और कौशल किशोर।
दिल्ली में हुए कार्यक्रम में उपस्थित राष्ट्रपति द्रोपती मुर्मू, केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी और कौशल किशोर।

इंदौर ने लगाया पूरा दम
इंदौर वर्ष 2017 से ही देशभर में नंबर-1 पर आ रहा है। अबकी बार इंदौर ने सिक्सर लगाने के लिए पूरा जोर लगा दिया था। इसके लिए कई इनोवेशन भी किए गए। आखिरकार इंदौर ने सफाई का सिक्सर लगा ही दिया। मार्च-अप्रैल में सर्वेक्षण और डॉक्यूमेंट अपलोड किए गए थे। जनता के फीडबैक को लेकर भी पूरा जोर लगाया गया।

दिल्ली में हुए कार्यक्रम में मौजूद विभिन्न राज्यों से आए मंत्री, महापौर, कमिश्नर समेत स्वच्छता से जुड़े लोग।
दिल्ली में हुए कार्यक्रम में मौजूद विभिन्न राज्यों से आए मंत्री, महापौर, कमिश्नर समेत स्वच्छता से जुड़े लोग।

राजधानी को संवारने में लगाया पूरा जोर
राजधानी भोपाल में निगम ने सफाई और सजावट को लेकर पूरी ताकत झोंक दी थी। डोर-टू-डोर कचरा कलेक्शन पर खास जोर दिया गया। सूखा और गीला कचरा अलग-अलग लिए गए। वहीं, गाड़ियों के गली-मोहल्लों में पहुंचने की टाइमिंग भी ठीक की गई। पार्कों की सजावट, नए पार्कों में इनोवेशन, फुटपॉथ और सेंट्रल वर्ज की धुलाई, डिवाइडर का रंगरोगन भी किया गया। रैली समेत स्वच्छता से जुड़े कई काम किए गए।

भोपाल की भानपुर खंती। जहां से कई टन कचरा हटाकर उसे पार्क में बदल दिया गया।
भोपाल की भानपुर खंती। जहां से कई टन कचरा हटाकर उसे पार्क में बदल दिया गया।

7500 अंकों का सर्वेक्षण
इस बार सर्वेक्षण 6000 की बजाए 7500 अंकों का हुआ था। इसमें जनता से फीडबैक, खुले में शौच, डोर-टू-डोर कचरा कनेक्शन, सौंदर्यीकरण जैसे प्रमुख बिंदू शामिल रहे। इनके अलावा इनोवेशन और दस्तावेजों के आधार पर भी अंक मिले।

दो साल में बढ़ी अवॉर्ड की संख्या
स्वच्छता सर्वेक्षण-2020 में प्रदेश को कुल 27 सम्मान मिले थे। इसमें 18 शहर स्टार रेटिंग और 9 शहर स्वच्छ सर्वेक्षण के लिए थे। वहीं, 2021 के सर्वेक्षण में कुल 35 अवॉर्ड मिले थे।

इंदौर-भोपाल के महापौर मौजूद
कार्यक्रम में इंदौर और भोपाल के महापौर, कमिश्नर समेत स्वच्छता से जुड़ा स्टाफ भी मौजूद रहा।

भोपाल में स्वच्छता से जुड़ी कई पेंटिंग्स बनाई गईं। इंदौर समेत अन्य शहरों में भी पेंटिंग के जरिए लोगों को जागरूक किया गया।
भोपाल में स्वच्छता से जुड़ी कई पेंटिंग्स बनाई गईं। इंदौर समेत अन्य शहरों में भी पेंटिंग के जरिए लोगों को जागरूक किया गया।

सीएम शिवराज बोले- मुझे इंदौर की जनता पर गर्व है

ये भी पढ़ें...

जानिए कैसे सफाई में फिर नंबर वन बना इंदौर:देश में छठी बार बना सिरमौर

स्वच्छता के मामले में इंदौर ने शनिवार को एक और इतिहास रच दिया। स्वच्छता के मामले में इंदौर ने लगातार छठी बार देश में अपना परचम लहरा दिया। दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में स्वच्छता सर्वेक्षण-2022 के अवार्ड समारोह में राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू ने यह अवार्ड प्रदान किया। पुरस्कार सांसद शंकर लालवानी, महापौर पुष्यमित्र भार्गव, निगम कमिश्नर प्रतिभा पाल ने ग्रहण किया। पूरी खबर पढ़ें...

खबरें और भी हैं...