पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

दूसरा संडे लॉकडाउन:पिछली बार 185 पर दर्ज हुए थे बेवजह घूमने के केस, इस बार सिर्फ 4 पर

भोपाल2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

दूसरे संडे लॉकडाउन में लोग थोड़े ज्यादा जागरूक दिखे। पिछले संडे लॉकडाउन में बेवजह घूमने वालों पर 185 केस बने थे, इस बार सिर्फ 4 ही बने। इनमें से 3 पैदल घूमने वालों पर और एक केस जुआ खेलने वालों के खिलाफ बना। पुलिस प्रशासन ने सख्ती दिखाई, शहर के 6 आउटर सील रहे। 24 प्रमुख रास्तों पर बैरिकेडिंग और 122 पॉइंट गली-मोहल्लों में बनाए गए।

दूध की होम डिलेवरी

  • ये खुला रहा
  • पेट्रोल पंप
  • मेडिकल स्टोर
  • दूध की होम डिलेवरी
  • कॉलोनी की छोटी दुकानें
  • अस्पतालों की मैस
  • ऑटो और कैब
  • कंस्ट्रक्शन के काम
  • फैक्टरियों में काम

क्या बंद रहा

  • सांची पार्लर
  • किराना दुकानें
  • रेस्तरां, होटल
  • हेयर सेलून
  • सब्जी नहीं मिली

पॉइंट पर तैनात पुलिसकर्मी बोले
मैं टीम के साथ सिंधी कॉलोनी चौराहे के बैरिकेड्स पर तैनात था। घरों से वे ही लोग बाहर आ रहे हैं, जिन्हें इमरजेंसी में कहीं जाना पड़ रहा है। पिछले साल जब लॉकडाउन हुआ था, उस समय लोगों को समझाना बहुत मुश्किल हो रहा था। अब 90 प्रतिशत लोग मास्क लगाकर ही निकल रहे हैं। -मुकेश चौरसिया, एएसआई, हनुमानगंज थाना

शाहजहांनाबाद में कुछ बस्तियां ऐसी भी हैं, जहां के लोगों को समझाना बहुत मुश्किल होता है, लेकिन वे लोग भी अपने घरों से नहीं निकल रहे हैं। इस बार लोग खुद ही रुककर घर से बाहर निकलने की वजह बता रहे हैं। -प्रवीण मेहरा, सिपाही, शाहजहांनाबाद थाना

दिखाई समझदारी... लोग नहीं निकले घर से, क्योंकि... इसी सन्नाटे से काबू में आएगा कोरोना
तस्वीर रेतघाट चौराहे की है। सबसे ज्यादा ट्रैफिक झेलने वाले शहर के टॉप चौराहों में से एक है यह इलाका। संडे लॉकडाउन था इसलिए आमतौर पर युवाओं की भीड़ से पटा रहने वाला राजाभोज सेतू भी खाली पड़ा था और वीआईपी रोड, टीटीनगर और हमीदिया को जाने वाले तीनों रास्ते भी सूने रहे।

स्टेशन पर ऐसे हाल
इस लॉकडाउन में ऑटो रिक्शा पर ज्यादा निर्भर नहीं रहे यात्री

गोरखपुर एक्सप्रेस, हैदराबाद जयपुर सहित कुछ ट्रेनों से आए लाेगाें काे लेने और छाेड़ने के लिए परिजन बाइक लेकर पहुंचे। वहीं, शताब्दी आदि के यात्री भी ऑटो रिक्शा पर ज्यादा निर्भर नहीं दिखे। उन्होंने कैब बुक की और अपने-अपने गंतव्य की ओर जाते दिखे। हालांकि ऑटो रिक्शा वालों ने तीन गुना या उससे ज्यादा तक पैसा यात्रियों से मांगा। उधर, नादरा, पुतलीघर और आईएसबीटी सुनसान ही नजर आए।

इधर, दफ्तर में बैठे रहे निगमकर्मी
रविवार और लॉकडाउन होने के बावजूद नगर निगम के ज्यादातर वार्ड और जोन कार्यालय खुले हुए थे। भरत नगर स्थित वार्ड नंबर 50 में कर्मचारी दफ्तर के भीतर बैठकर अपना कामकाज निपटा रहे थे। यही स्थिति शहर के अन्य वार्डों की थी। कुछ वार्ड कार्यालयों से बकायादारों को फोन और एसएमएस भी भेजे गए। निगमायुक्त ने वित्त वर्ष का अंतिम सप्ताह होने की वजह से कर्मचारियों को दफ्तर आने को कहा था। उनका कहना था कि ऐसे समय में पेंडिंग फाइलें का निराकरण किया जा सकता है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आर्थिक स्थिति में सुधार लाने के लिए आप अपने प्रयासों में कुछ परिवर्तन लाएंगे और इसमें आपको कामयाबी भी मिलेगी। कुछ समय घर में बागवानी करने तथा बच्चों के साथ व्यतीत करने से मानसिक सुकून मिलेगा...

    और पढ़ें