खरगोन के ऐश्वर्य बोले-MP का गोल्ड विदेश नहीं जाने दूंगा:शूटिंग वर्ल्ड कप में देश को कर रहे लीड; ओलंपियन ने बताई 5 गोल्ड जीतने की कहानी

भोपाल2 महीने पहलेलेखक: आशीष उरमलिया
  • कॉपी लिंक

मध्यप्रदेश में पहली बार शूटिंग चैंपियनशिप वर्ल्ड कप 2023 का आयोजन हो रहा है। इसमें हिस्सा लेने के लिए 33 देशों के 208 शूटर भोपाल पहुंच चुके हैं। उनके साथ 75 से ज्यादा टेक्निकल ऑफिशियल भी आए हुए हैं। 21 मार्च मंगलवार को इसका इसका आगाज हुआ। 22 मार्च यानी बुधवार से रायफल/पिस्टल शूटिंग कंपटीशन की शुरुआत होगी। जो 27 मार्च तक चलेगी।

ये आयोजन भोपाल की ‘एमपी स्टेट शूटिंग एकेडमी’ में हो रहा है। यह देश की पहली इंडोर रेंज है। दैनिक भास्कर की टीम शूटिंग एकेडमी में पहुंची। वर्ल्डकप में देश को लीड कर रहे 22 साल के ओलंपियन ऐश्वर्य सिंह तोमर से बात की। ऐश्वर्य MP के खरगोन से हैं। अब तक दुनिया भर में हुए वर्ल्ड कप कंपटीशन में 5 गोल्ड मेडल जीत चुके हैं। नियमों की बंदिशों के चलते वो कैमरे पर नहीं आए। कॉल पर बात की।

खरगोन जिले के एक छोटे से गांव से आए ऐश्वर्य ने अपनी स्ट्रगल की पूरी कहानी बताई। इस चैंपियनशिप के बारे में बताया। उन्होंने ये भी कहा कि अपने MP का गोल्ड विदेश नहीं जाने दूंगा। आर्थिक हालातों पर बात करते हुए ऐश्वर्य ने कहा, “दूसरे राज्यों से जॉब के ऑफर आते हैं लेकिन CM मामा की तरफ से अब तक ऐसी कोई मदद नहीं मिली है।” आइए, सबसे पहले ऐश्वर्य की शूटिंग की दुनिया में कदम रखने से लेकर अब तक की पूरी कहानी पर चलते हैं…

राइफल शूटिंग प्रेक्टिस करते हुए ऐश्वर्य प्रताप सिंह।
राइफल शूटिंग प्रेक्टिस करते हुए ऐश्वर्य प्रताप सिंह।

मेले में बंदूक से गुब्बारे फोड़ने से हुई शुरुआत…
ओलंपियन ऐश्वर्य ने बताया, “मैं अभी 22 साल का हूं। 3 फरवरी, 2001 में पैदा हुआ था। मेरा गांव रतनपुर खरगोन जिले से 70 किमी दूर है। पिताजी किसान हैं। उनके पास एक लाइसेंसी बंदूक थी। उनको बंदूक चलाते देख मेरे अंदर भी हथियारों का शौक पैदा हो गया। जैसे-जैसे बड़ा होता गया मेरे अंदर शूटिंग का शौक बढ़ने लगा। पापा की बंदूक से शूटिंग प्रैक्टिस करने लगा।

उन्होंने आगे कहा, “गांव के पास ही जब मेला लगता था तो मैं वहां बंदूक से गुब्बारे फोड़ता था। जलती हुई मोमबत्तियां बुझाता था। वहां मेरे सारे शॉट सटीक लगते थे। दोस्त मेरी तारीफ किया करते थे। इसी के साथ शूटिंग में मेरी दिलचस्पी बढ़ती गई। खिलौने भी लेता था तो प्लास्टिक के गन-पिस्टल ही लिया करता था। फिर एक दिन मैंने अपने बुआ के बेटे नवदीप सिंह राठौर को कॉल किया।

नवदीप भैया भी प्रोफेशनल शूटर हैं। कोई शूटिंग कंपटीशन जीतने के बाद जब पेपर में उनका नाम छपता था तो मैं प्रभावित होता था। मैंने उनसे कहा कि भैया मुझे भी शूटिंग करनी है। उन्होंने मेरे मां-पापा को समझाया और फिर साल 2014 में वो मुझे MP स्टेट शूटिंग एकेडमी में ट्रायल दिलाने अपने साथ ले आए।

2014 में रिजेक्ट हुआ, 2018 में इंटरनेशनल खेला

एशियन शूटिंग चैंपियनशिप के दौरान ऐश्वर्य।
एशियन शूटिंग चैंपियनशिप के दौरान ऐश्वर्य।

ऐश्वर्य कहते हैं, “साल 2014 में मैं 13 साल का था। जूनियर ग्रुप का शूटर बनने के लिए शूटिंग एकेडमी में ट्रायल देने आया। मेरा सिलेक्शन नहीं हुआ। फिर एक साल तक मैंने बिना संसाधनों के घर में ही प्रैक्टिस की। साल 2015 में दोबारा ट्रायल देने आया। इस बार मेरा सिलेक्शन हो गया लेकिन किसी टेक्निकल इश्यू की वजह से नेशनल खेलों के लिए डिस्क्वालिफाई हो गया।

अब, एक साल तक के लिए मेरे पास कोई मौका नहीं था। मैं एकदम खाली बैठ गया। फिर मैने पढ़ाई पर फोकस किया। तब मैं 9वीं क्लास में था। साथ ही साथ मेरी प्रैक्टिस चल रही थी। साल 2018 में मैं इंटरनेशनल खेलने के लिए सिलेक्ट हो गया था। साल 2018 में ही मैने जूनियर शूटिंग कंपटीशन में नेशनल रिकॉर्ड बनाया था। साल 2019 में मैंने MQS कैटेगरी में 4 वर्ल्ड कप खेले। स्टेट एकेडमी ने ही खिलवाए ताकि मेरी रैंकिंग इंप्रूव हो और मेरा सिलेक्शन एशियन चैंपियनशिप के लिए सीनियर नेशनल टीम में हो सके।

2019 में ओलंपिक कोटा जीता, WC में 5 गोल्ड जीते
साल 2019 में मैं सीनियर नेशनल टीम में सिलेक्ट हो गया था। शूटिंग की एशियन चैंपियनशिप खेली। यही वो मैच था जिसमें ये तय होना था कि कौन ओलंपिक खेलेगा और कौन नहीं। इस मैच में मैंने ओलंपिक का कोटा जीत लिया फिर ओलंपिक गेम्स में पार्टिसिपेट किया। अब तक वर्ल्ड कप में 5 गोल्ड इंडिविजुअल जीत चुका हूं।

टोक्टो 2020 ओलिंपिक का कोटा जीतने का बाद ऐश्वर्य ने कुछ इस तरह खुशी जाहिर की थी।
टोक्टो 2020 ओलिंपिक का कोटा जीतने का बाद ऐश्वर्य ने कुछ इस तरह खुशी जाहिर की थी।

होम स्टेट में हो रहा वर्ल्ड कप, 6वां गोल्ड मेडल जीतना है
इस बार का ISSF शूटिंग चैंपियनशिप वर्ल्ड कप मेरे होम स्टेट में हो रहा है। राजधानी भोपाल में हो रहा है। ये मेरे लिए गर्व की बात है। मैं अंदर से बेहद एक्साइटेड हूं। इसके लिए मेरी तैयारी भी अच्छी है। अभी 5 गोल्ड इंडिविजुअली जीत चुका हूं, 6वां गोल्ड भी मैं ही जीतूंगा, ऐसी उम्मीद है। कोशिश करूंगा MP का गोल्ड विदेश ना जाए। ये वर्ल्डकप मेरे लिए बेहद खास होने वाला है। कई देशों से खिलाड़ी आए हुए हैं। कंपटीशन तो रहता है लेकिन मेरी कोशिश रहती है कि इंटरनेशनल लेवल पर भारत का तिरंगा सबसे ऊपर लहराए।

MP से मैं और आशी चौकसे है, वो भी राइफल चलाती है

ये 50 मीटर राइफल शूटिंग करने वाली आशी चौकसे हैं। मध्य प्रदेश के भोपाल से हैं।
ये 50 मीटर राइफल शूटिंग करने वाली आशी चौकसे हैं। मध्य प्रदेश के भोपाल से हैं।

इस वर्ल्ड कप में इंडिया टीम से कुल 37 शूटर पार्टिसिपेट कर रहे हैं। 20 लड़के हैं और 17 लड़कियां। बहुत से MQS से यानी सिलेक्शन होने के बाद अपने खर्च पर खेलते हैं। मैं नेशनल टीम का हिस्सा हूं। नेशनल टीम का हिस्सा टॉप 3 प्लेयर होते हैं। हमें सेंट्रल गवर्नमेंट खिलवाती है। 4 और 5 नंबर पर जो खेलता है वो MQS कैटेगरी से खेलता है। हमारे मध्य प्रदेश से मेरे अलावा भोपाल की आशी चौकसे भी खेल रही है। वो भी MQS कैटेगरी में एयर राइफल शूटिंग करेगी।

MP के बाहर से आते हैं जॉब ऑफर, उम्मीद है CM कृपा करेंगे

अभी फरवरी में मिस्र के काहिरा में ISSF वर्ल्ड कप 50 मीटर राइफल थ्री पोजीशन कंपटीशन में ऐश्वर्य ने अपना 5वां गोल्ड मेडल जीता था।
अभी फरवरी में मिस्र के काहिरा में ISSF वर्ल्ड कप 50 मीटर राइफल थ्री पोजीशन कंपटीशन में ऐश्वर्य ने अपना 5वां गोल्ड मेडल जीता था।

सरकारी मदद और नौकरी वाले सवाल का जवाब देते हुए ऐश्वर्य ने कहा, “अन्य राज्य ओलंपिक खेल चुके और वर्ल्ड कप में गोल्ड जीत चुके शूटर्स को नौकरी देते हैं लेकिन हमारे राज्य में अभी ऐसा कोई प्रावधान नहीं है। बाहर से मुझे नौकरी के कई ऑफर्स आते हैं। रेलवे, आर्मी और अन्य फोर्स की तरफ से मुझे ऑफर आते हैं। उम्मीद है CM शिवराज मामा जी अपने राज्य में ही हमारे लिए कुछ करेंगे ताकि हम भविष्य की चिंता ना करते हुए फ्री माइंड से अपने गेम पर ध्यान दे सकें।"

अब, इस इंटरनेशनल शूटिंग स्पोर्ट फेडरेशन वर्ल्ड कप और शूटिंग अकादमी के बारे में जान लेते हैं।

ये इंडिया की पिस्टल शूटिंग टीम है।
ये इंडिया की पिस्टल शूटिंग टीम है।

यूएस, ईरान, कनाडा जैसे देशों से आए हैं शूटर
शूटिंग वर्ल्ड कप का हिस्सा बनने 33 देशों के 325 शूटर भोपाल आए हुए हैं। इंडिया समेत इन देशों में जर्मनी, इजरायल, अमेरिका, जापान, ब्राजील, चीन, चेक रिपब्लिक, अजरबैजान, बांग्लादेश, बोस्निया और हर्जेगोविना, डेनमार्क फ्रांस, ब्रिटेन, हंग्री, ईरान, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, कोरिया, सऊदी अरब, लिथुआनिया, मालदीव, मेक्सिको, रोमानिया, सिंगापुर, सर्बिया, श्रीलंका, चीनी ताइपी, स्विट्जरलैंड, स्वीडन, उज्बेकिस्तान जैसे देश शामिल हैं।

कनाडा के HPD पियरे दे रहे टीम इंडिया को ट्रेनिंग
इस वर्ल्ड कप में टीम इंडिया के हाई परफॉर्मेंस डायरेक्टर पियरे ब्यूचैंप हैं। कनाडा के शूटिंग एक्सपर्ट पियरे ने हमें बताया कि टीम इंडिया अपनी पूरी तैयारी के साथ मैदान में है। सभी कॉन्फिडेंट हैं। यहां भोपाल में शूटिंग एकेडमी का वातावरण भी शानदार है। यहां 10, 25, 50 के अलावा शॉट गन की क्वालिफाइ रेंज हैं। 10 मीटर में एक साथ 70, 25 मीटर में 50 और 50 मीटर में 20 खिलाड़ी एक साथ निशाना लगा सकते है। फाइनल शूटिंग रेंज में अपग्रेडेड मशीनें है। 375 दर्शकों के बैठने की व्यवस्था है।

ये पूरी इंडियन शूटिंग टीम है। इसमें ऐश्वर्य नहीं है। उनका डॉक्टर के साथ अपॉइंटमेंट था।
ये पूरी इंडियन शूटिंग टीम है। इसमें ऐश्वर्य नहीं है। उनका डॉक्टर के साथ अपॉइंटमेंट था।

बिशन खेड़ी में बनी ये राज्य शूटिंग अकादमी 37 एकड़ एरिया में फैली हुई है। यहां पर एक छात्रावास भी बना हुआ है जहां 240 से ज्यादा खिलाड़ियों के रुकने की व्यवस्था है। छात्रावास में ही लाइब्रेरी, मिनी जिम, डायनिंग एरिया, मेडिटेशन हॉल और एंटरटेनमेंट जोन की भी व्यवस्था है। हालांकि विदेश और दूसरे राज्य से आए खिलाड़ियों को भोपाल की मैरियट, ताज, रेडिशन, जेहन नुमा जैसे 5 स्टार होटलों में रोका गया है।

भोपाल में सीएम शिवराज ने किया शूटिंग वर्ल्ड कप का उद्घाटन

भोपाल में शूटिंग चैंपियनशिप वर्ल्ड कप 2023 का आयोजन हो रहा है। सीएम शिवराज सिंह ने इसका उद्घाटन किया है।
भोपाल में शूटिंग चैंपियनशिप वर्ल्ड कप 2023 का आयोजन हो रहा है। सीएम शिवराज सिंह ने इसका उद्घाटन किया है।

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में पहली बार शूटिंग चैंपियनशिप वर्ल्ड कप 2023 का आयोजन हो रहा है। कुशाभाऊ ठाकरे इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इसका उद्घाटन किया। पूरी खबर पढ़ें

खबरें और भी हैं...