विकलांग हो चुकी मादा तेंदुआ का नया घर वन विहार:फंदे में फंसने से तेंदुए के पंजे की अंगुलियां टूटीं

भोपाल4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शिकारियों द्वारा लगाए गए ट्रैप में फंसने से मादा तेंदुए के बाएं पंजे की अंगुलियों में फ्रेक्चर हो गया था। - Dainik Bhaskar
शिकारियों द्वारा लगाए गए ट्रैप में फंसने से मादा तेंदुए के बाएं पंजे की अंगुलियों में फ्रेक्चर हो गया था।

शिकारियों द्वारा लगाए गए ट्रैप में फंसने से मादा तेंदुए के बाएं पंजे की अंगुलियों में फ्रेक्चर हो गया था। अब पंजे का घाव हडि्डयों तक पहुंच गया। गंभीर रूप से घायल होने से ग्वालियर चिड़ियाघर ने तेंदुए को इलाज के लिए वन विहार भेजा है।

उसकी स्थिति पर वन विहार के वन्यप्राणी चिकित्सक डॉ. अतुल गुप्ता नजर रखे हैं। उनका कहना है कि घायल होने के साथ वह अभी यात्रा के स्ट्रेस से गुजर रहा है, इसलिए दो दिन बाद बेहोश करके उसकी स्थिति देखेंगे। यह तेंदुआ अब वन विहार में ही रहेगा।

सातुल के जंगल से घायल अवस्था में लाया गया था

ग्वालियर चिड़ियाघर के प्रभारी उपेंद्र सिंह ने बताया कि यह तेंदुआ 18 दिसंबर को सातुल के जंगल से घायल अवस्था में लाया गया था। उसका पंजा काफी जख्मी था। उसका इलाज किया गया।

3 जनवरी को डॉ. अतुल गुप्ता ने आकर उसकी स्थिति देखने के बाद उसे वन विहार भेजने के लिए कहा। एक्सरे निकालने पर इसकी अंगुलियों में फ्रेक्चर भी पाया गया। तेंदुए की उम्र 2 साल है।

खबरें और भी हैं...